Re: Chanchal choot चंचल चूत

Share

[size=150:2tnpy1i8][color=#4000BF:2tnpy1i8]चंचल चूत पार्ट—3

गतांक से आगे……………………

कार को पार्क कर के दोनो बहेर निकल आए. चंचल ने कार मे से एक बेडशीट निकाल ली. मैं देख के हैरान रह गया के आज चंचल चुदवाने के लिए पूरी तय्यरी के साथ आई थी. मैं दिल मे खुश भी हुआ के चलो आज चंचल की ब्रांड न्यू चूत को चोद के उसकी सील तोड़ना है उसकी चूत को फाड़ना है यह सोच सोच के ही मेरा लंड ज़ोर से अकड़ने लगा और जोश मे हिलने लगा के बॅस अब कुछ ही देर मे एक नई चूत मिलेगी चोदने के लिए.

चंचल ने बेडशीट को नीचे बिछा दिया और कार की डिकी मे से एक पिल्लो भी निकाल लिया. दोनो बेडशीट पे एक दूसरे की तरफ मूह कर के लेट गये. मे उसके चुचिओ को दबाने लगा और उसने मेरा आकड़ा हुआ लंड अपने हाथ मे ले लिया और दबाने लगी. आज ऑलमोस्ट फुल मून था पर फिर भी कार का एक डोर खोल दिया तो अंदर की लाइट जल गई. धीर्मी लाइट मे पेड़ों के बीच मे से चंद्रमा की रोशनी मे यह जगह बोहोत ही रोमॅंटिक लग रही

थी और बोहोत अछा लग रहा था. धीमी धीमी हवा भी चल रही थी.

चंचल के ब्लाउस को निकाल दिया और स्कर्ट का हुक भी खोल दिया तो उसने भी मेरा बॉक्सर्स शॉर्ट्स निकाल दिया और टी-शर्ट भी. अब दोनो बेडशीट पे नंगे पड़े थे एक दूसरे के बदन से खेल रहे थे. मैं उसकी चुचिओ को दबा रहा था और वो मेरे लंड को दबा रही थी. मेरा एक हाथ उसके सर के नीचे था और उसको मैं ने अपनी तरफ खेच लिया तो दोनो के बदन आपस मे एक हो गये. मेरा लंड उसके बदन से टच होने लगा जिस्मै से प्री कम निकल रहा था और उसके पेट पे लग रहा था. मैं ने उसके चुचिओ को किस किया और उसके निपल को अपनी दाँत मे ले के धीरे से काटा तो उसके मूह से ऊऊओिईईईईईई की आवाज़ निकल गई और वो मेरे बदन मे जैसे घुस गई. चंचल ने अपने हाथो से मेरे सर को पकड़ा हुआ था और अपनी छातियाँ मेरे मूह मे घुसा रही थी और मैं अब उसकी पूरी चूची को मूह मे ले के चूस रहा था. कभी एक चूची कभी दूसरी चूची. चंचल के मूह से मज़े की सिसस्कारियाँ निकल रही थी आआहह ऊऊओिईई जैसे आवाज़ें निकल रही थी. मेरे सर पे से एक हाथ हटा के मेरे लंड को फिर से पकड़ के दबाना शुरू कर दिया. उसने अपनी एक टांग उठा के मेरे बॅक पे रख ली जिस से उसकी चूत खुल गई और मेरे लंड के सामने आ गई. उसने मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ा और अपनी चूत मे घिसने लगी. लंड से निकलता हुआ प्री कम उसकी गीली और चिकनी चूत को और स्लिपरी बना रहा था वो मस्ती मे आअहह ऊऊहह ईईहह जैसे आवाज़ें निकाल रही थी.

मैं ने चंचल को अपने हाथो से पलटा के उसको 69 पोज़िशन मे कर लिया. उसके दोनो टाँगें मेरे सर के दोनो तरफ थी और उसका मूह मेरे लंड के ऊपेर. उसने ऑटोमॅटिकली अपना मूह खोल के लंड को चूसना शुरू कर दिया जैसे एक ही दिन मे वो लंड चूसने मे पर्फेक्ट हो गई हो. और उसकी खुली ही अंदर से लाल लाल चूत मेरे मूह के सामने थी. उस मे से उठ ती हुई मधुर सुगंध मुझे और मेरे लंड को पागल कर रही थी. मेरा पागल लंड उसकी चूत मे घुस के चोदने को पागल हो रहा था. मेरा मूह जैसे ही चंचल की चूत से लगा उसको जैसे करेंट लगा और वो उछल पड़ी. मेरी जीभ उसकी चूत से टच होते ही उसने अपना चूतड़ उठा उठा के मेरे मूह पे अपनी चूत मारना शुरू कर दिया जैसे मेरे मूह को चोद रही हो.

मेरे दन्तो पे अपनी चूत को रगड़ने लगी. उसके मूह से मस्ती भरी पॅशनेट आवाज़ें निकलने लगी आअहह उउउउउह्ह्ह्ह राआआअजजजाआाआआआ बोहूऊओट मज़ाआअ है

राआाजजाआअ आआईयईईईई आईसीई शियैयीयी चूसू…. उफफफफफ्फ़ आईसीईए शियीयीयियी काटो हाआआ मेरी चूत को उउउउग्ग्घ्ह्ह्ह और एक ही मिनिट के अंदर अंदर उसकी चूत मे से मीठा मीठा जूस बहेर निकलने लगा और मैं सारा जूस पीने लगा और फिर वो शांत हो गई और मेरे मूह पे ही चूत रख के गहरी गहरी साँसें लेने लगी. [/color:2tnpy1i8][/size:2tnpy1i8]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *