वो सात दिन compleet

Share

[color=#FF0000:qayr84or][size=200:qayr84or]वो सात दिन –1[/size:qayr84or][/color:qayr84or][size=150:qayr84or][color=#4000BF:qayr84or]

यह वो सात दिन हैं जब मेरे पेरेंट्स को एक फॅमिली फंक्षन में जाना था और ट्रेन की एक टिकेट कन्फर्म्ड नही थी… तो वो मुझे अपने ही पड़ोस में रहने वाली एक आंटी के पास छोड़ गये. आंटी हमारी बहुत करीबी थी क्यूँ कि तलाक़ के बाद वो अपनी बेहन अनु के साथ अकेली रहती थी ….. उनका हमारे घर पे बहुत आना जाना रहता था.

देसएंबेर में मेरे स्कूल एग्ज़ॅम ख़तम हो गये थे , पर आंटी के स्कूल खुले
थे. आंटी सरकारी स्कूल में टीचर थी और उसकी बेहन अनु कॉलेज में थी.

पहला दिन 1 : सुबह 7 बजे मेरे पेरेंट्स मुझे आंटी के घर छोड़ के चले गये.
आंटी स्कूल जाने तो तय्यार थी. अनु बाथरूम में कपड़े बदल रही थी. मैं
ड्रॉयिंग रूम में बैठ गया. मुझे अनु से बहुत अट्रॅक्षन था और यह सोच के
वो कपड़े बदल रही है, मेर मन बेकाबू होने लगा था.

जल्दी ही वो तय्यार हो के कॉलेज चली गये और मैं अकेला रह गया. आज उसका
लास्ट पेपर था. मैने उसको बेस्ट ऑफ लक कहा और उसको जाते हुए देखा रहा.

रूम की तन्हाई में उसकी याद आ रही थी. मैं अपने आप को खुश करने के लिए
बाथरूम में चला गया. वहाँ पे अनु की नाइट ड्रेस दरवाज़े के पीछे तंगी हुई
थी और पास की बाल्टी में कुछ कपड़े थे, जो कि धोने के लिए रखे थे. मेरा
दिल ज़ोर से धरक रहा था. मैने अनु की नाइट ड्रेस को चूमा… उस की खुशुबू
से मैं और ज़्यादा एग्ज़ाइटेड हो गया…. थोड़ा और देखने पे पता चला के पास
रखे कपड़ो में कुछ पॅंटीस और ब्रा भी थी… पर कौन सी ब्रा-पॅंटी अनु की और
कौन सी आंटी की है, पता नही चल रहा था… मैं सेक्स से पागल हो चुक्का था
और सब की सब पॅंटिस को चाटने लग गया…

मैं पूरी जीभ निकाल के पॅंटीस को चाट-चूस रहा था.. एक अजीब सा नशा और
जुनून मेरे सिर पे सवार था. पॅंटीस में उनका माल चिपका हा , उनका पानी
लगा था, जो सूख के धब्बा सा बन गया था… मेरी जीभ ने एक एक धब्बे को चाट
के साफ कर दिया… फिर मैं दोबारा नाइट ड्रेस को चूमने लगा….

मेरा एक हाथ मेरे लंड को सहला रहा था… और ना जाने कितनी बार मेरा लंच
अपना माल छोड़ चुक्का था… मेरे पास पूरा दिन था, सो मैं एक पॅंटी और एक
ब्रा बाथरूम से ले आया और बेड पे लेट गया. मैने पॅंटी को मुँह में डाल
लिया, और ब्रा अपने चेहरे पे रख लिया…. ज़्यादा माल छोड़ने और मज़े लेने
की वजह से मैं सो गया….

आंटी : आररी.. यह क्या… सूबी.. उठो… सूबी…

मैं सकपका गया.. आंटी सामने थी, मेरे मुँह में ब्लॅक पॅंटी थी और ब्रा
मेरे माथे पे थी…. कुछ बोल भी नही पा रहा था मैं….

आंटी ने एक ज़ोरदार थप्पड़ मेरे मुँह पे मारा… मैं होश में आया..और उनके
कदमो में गिर पड़ा…

आंटी : तुम ने मेरी पॅंटी और अनु की ब्रा … यह सब क्या है सूबी ?
मैं क्या जवब देता.. बस रो पड़ा और उनके पैर पकड़ लिया….और उनपे अपना सिर रख दिया.

आंटी : वैसे तुम्हे क्या मज़ा आया मेरी पॅंटी को चाट के…

मैं चुप रहा… एक और ज़ोरदार थप्पड़ मेरे मुँह पे लगा… आंटी ने अपने सॅंडल
से मेरे मुँह पे लात मारी और मैं नीचे गिर गया… मेरे होंठो के किनारे पर
कट लग गया…

आंटी : बोलो.. तुम्हे क्या मज़ा आया… सच बोलना

"जी मज़ा आया था"

आंटी : क्या मज़ा आया था.. जवाब दो?

"जी टेस्ट, खुसुबू और…."

आंटी : और क्या ?

"जी मुझे बहुत अट्रॅक्षन थी… मुझे बहुत प्यास थी…"

आंटी: प्यास.. ह्म्म…

आंटी कुर्सी पे बैठ गयी और मैं ज़मीन पे…. उनका एक पैर मेरे शोल्डर पे था
और दूसरा मेरे लिप्स पे. उन्हो ने अपने पैर की उंगलियाँ मेरे मुँह में
डाल दी ….

आंटी : चॅटो मेरे तलवे और उंगलियाँ…. ठीक से चाट. अगर मैं खुश हो गयी तो
तुझे बहुत कुछ टेस्ट करवा दूँगी… समझा.

मैं उनके पैर चाटने लगा.

फर्स्ट डे तो आंटी के पैर चाटने और चूमने में बीत गया.
शाम को अनु आ गयी और फिर हम लोग टीवी देखते रहे.
मैं सोच रहा था कि चलो अनु ना सही, कम से कम आंटी के पैर तो चूम ही किए
और दोनो की पॅंटीस से उनका रस भी चूस ही लिया…
मैं बाहर वाले रूम में, जो अनु का था, उस में सो गया और अनु आंटी के रूम
में सो गयी.
रात भर मैं अनु की कपबोर्ड को खोल के उस में से पॅंटीस ढूढ़ता रहा.. पर
सब की सब साफ ही थी… फिर बेड में मॅट्रेस के नीचे से एक पॅंटी मिली जो
अनु के माल से भरी थी. उसको चाट्ता चाट्ता सो गया.

दूसरा दिन :

सुबह उठा और अपना पाजामा देख के मेरे होश उड़ गये.. सारा पाजामा आगे से
मेरे माल से भरा था और रात सोए सोए मैने अनु की पॅंटी पता नही कब अपने
लंड पे रख ली… वो भी मेरे माल से लबा लब भरी थी.

मैने सोचा अनु को जब यह पॅंटी मिलेगी तब तक माल सूख जाएगा, उसे क्या पता
चलेगा के यह माल कौन सा है… मैने पॅंटी फिर से मॅट्रेस के नीचे छिपा दी.
अपना पाजामा बदल लिया और नहाते हुए धो दिया.

आंटी : अरे सूबी, यह क्या… तुम ने अपने कपड़े क्यूँ धो दिए… सारे कपड़े
एक साथ वॉशिंग मशीन में ही धो लेते हम लोग?

मैं बोला : नही… बसस्स वैसे ही….

अनु : दीदी लगता है यह बहुत साफ सफाई रखते हैं…

यह सुन कर मेरे अंदर अजीब सी एग्ज़ाइट्मेंट आ गयी और आंटी भी पिछले कल की
बातें याद कर के मुस्कुरा दी… अनु को क्या पता कल आंटी ने मेरी कौन सी
सफाई देखी थी !!!

अनु हम लोगों की शैतानी भरी मुस्कुराहट जान नही पाई और हम ने भी नॉर्मल
हो के अपने कारनामे छुपा लिए.

ब्रेकफास्ट के बाद, आंटी अपने स्कूल चली गयी और अनु कपड़े धोने के लिए
बातरूम में आ गयी. मैं अकेला बोर हो रहा था तो मैं भी बाथरूम में जाने
लगा. दरवाज़े से देखा तो अनु वहाँ कपड़े वॉशिंग मशीन मैं डाल रही थी…
मेरा दिल धड़क रहा था….

अनु : तुम यहा क्या कर रहे हो
मैं बोला "कुछ नही.. कमरे में बोर हो रहा था तो सोचा आप की हेल्प कर दूं…
अनु शर्मा के बोली : ठीक है तुम यह कपड़े बाहर सुखा दो….
मैं ने सलवार कमीज़ उठाए और बाहर सूखाने चला गया.
अनु ने अब पॅंटीस और ब्रा निकाले बकेट से निकाले और वॉशिंग मशीन में डाल
दिए… वो मेरे सामने यह सब धोना नही चाहती होगी… मैं भी चुप चाप देखता
रहा.. अनु हैरान थी के यह सब इतने साफ कैसे हैं. फिर उसे अपनी पॅंटी की
याद आई और वो अपने रूम में, जहाँ रात को मैं सोया था, वहाँ गयी… और मेरे
माल से भरी पॅंटी उठा लाई….
जैसे ही उसने पॅंटी देखी, वो हैरान थी के कल रात की पॅंटी अभी भी कैसे गीली है…
उसने माल को, जो कि रात को मैने उस में छोड़ा था, को टच किया. कुछ हैरान हुई.

अब शायद वो समझ गयी थी के यह काम मेरा है क्यूँ कि पॅंटी की आगे की साइड
साफ थी, जो मैने चॅटी थी पर पॅंटी की बॅक साइड, जो रात को अंजाने में
मेने अपने लंड पे रख ली थी, गीली थी.

वो जान गयी के मैने उसकी पॅंटी चॅटी और फिर अपना माल उस में छोड़ दिया
उसने पॅंटी के गीले हिस्से को चूमा और शायद थोडा सा चाट भी लिया…. वो
अचनाक घूमी और हम दोनो की नज़रें मिली…..

वो हैरान थी.. उस के हाथ में उसकी पॅंटी, होटो पे माल का गीलापन और पीछे खड़ा मैं….

मैं बोला " दीजिए.. इस को मैं सॉफ कर देता हूँ"
अनु – नही रहने दो….
मैं भी चुप रहा. वो भी काम निपटाती रही.

वो मुझ से आँखे चुरा रही थी और मैं बेशरम सा उसको देख रहा था. आख़िर मैने
चुप्पी को ख़तम किया…..
मैं बोला "अनु दीदी, मैं आप की पूरी इज़्ज़त करता हूँ और आप के राज राज
ही रखोंगा… सच"

अनु चुप रही….

मैने अनु का हाथ अपने हाथ में लिया , अनु ने हाथ छुड़ाने की कोशिश नही
की. बॅस मुझे एक झलक देखा और नज़रें झुका ली. अनु ने अपना हाथ हटाना चाहा
पर मैने हाथ नही छोड़ा…

अनु – अब हाथ छोड़ दीजिए… सूबी
मैं बोला "अगर नही छोड़ा तो…"
अनु – प्लीज़.. सूबी
मैं बोला "क्यूँ कुछ कुछ होता है क्या
अनु – कुछ नही बहुत कुछ होता है….

यह कह के वो किचन में भाग गयी और मैं भी पीछे पीछे वहाँ चला गया.
मैने पीछे से उसको झप्पी डाल दी, अनु ने भी छूटने की फॉरमॅलिटी की … पर
मेरी झप्पी से बाहर नही निकली..

अनु – चाइ पीयोगे या कॉफी..
मैं बोला " जो तुम पिलाना चाहो.."
अनु – ज़हेर दे दूं
मैं बोला " आपका ज़हेर भी पीने को तय्यार हूँ
अनु – मेरा ज़हेर … बहुत नशीला है
मैं बोला " हां जानता हूँ"
अनु – कैसे जानते हो ?
मैं बोला " कुछ कल दिन में और बाकी कल रात को टेस्ट किया था…."
अनु शर्मा गयी …. "तुम्हे कैसा लगा यह सब करके?"
मैं बोला " बहुत नज़र आया .. मज़ा आ गया…"

अनु – हां, कितना मज़्ज़ा आया वो तो मैने भी देखा….
मैं भी हँसने लगा…. "हां क्यूँ नही…."
अनु – पर तुम्हे क्या मिला , कैसा टेस्ट था मेरा…

मैं बोला "बहुत ही नशीला, मीठा, नमकीन… उस वक़्त टेस्ट की किस को समझ
रहती है… उस वक़्त तो बॅस एक जुनून सवार होता है… अब असली ज़िंदगी में तो
मौका मिला नही, तो बॅस पॅंटीस चाट के ही काम चला लिया"
क्रमशः……………….[/color:qayr84or][/size:qayr84or]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *