बीबी का नौवा महीना – साली ने आग लगाई

Share

[size=150:10x26wsb][color=#0000BF:10x26wsb]बीबी का नौवा महीना – साली ने आग लगाई– 1

रवि की शादी हुए 2 साल हो चुके थे. रीमा नाम है उसकी बीबी का. रवि का गारमेंट बनाने की फॅक्टरी है. उसके कारखाने मे बनाए हुए लॅडीस नाइटी बहुत पॉपुलर है. काफ़ी सेक्सी नाइटी बनता है. कभी कभी अपनी फॅक्टरी की बनी हुई नाइटी को और कांट छ्चांट कर अपनी बीबी रीमा के लिए घर ले कर आ जाता था. रीमा के गौरे और सुंदर बदन पर यह नाइटी काफ़ी सेक्सी लगती थी. उसके बदन पर नाइटी से ज़्यादा उसका बदन झलकता था. रवि भी चाहता था की रीमा जब रात को रूम मे आए तो उसके मखमली बदन को देखनाए के लिए ज़्यादा तदफ़ना ना पड़े. उसकी गौरी चीटी चुचिया उसकी नाइटी से झलक पड़ती थी. उसे देखकर रवि का लंड हमेशा फड़फदता रहता था.

रीमा प्रेग्नेंट है और उसकी डेलिवरी का टाइम आ चुका था. रीमा ने अपने पिहर फोन करके अपनी चचेरी बहन रोमा को बुलवाया था. रोमा अपनी एक और बहन लीना के साथ अपने जीजी के घर पर आती है. लीना को पैंटिंग करना पसंद था. वो अपनी पैंटिंग की प्रदर्शिनी लगवाना चाहती थी इसीलिए रोमा के साथ चली आई. लीना एक कुशल डॅन्सर भी थी. कॉलेज के फंक्षन मे जब वो डॅन्स करती थी तो काई मनचलो की दिल की धड़कन बढ़ जया करती थी. रोमा जब पिच्छली बार एक साल पहले जब अपने जीजी के घर आई थी तब रीमा, रवि और रोमा काफ़ी हँसी मज़ाक कर के अपना टाइम पास कर लिया करते थे. रोमा अपने जीजू के काफ़ी करीब हो गयी थी. हालाँकि उनके सरिरिक संबंध नहीं बने थे लेकिन अपनी जीजी के सामने रवि से काफ़ी लिपट छिपात कर रहती थी. आलिंगन और चुंबन तक ही संबंध कायम हो पाए थे. और रीमा भी उसे बुरा नही मनती थी. कहती थी की जीजा और साली के बीच मे यह सब चलता है. रीमा, रोमा और लीना आपस मे चचेरी बहाने थी. उनकी उमरा मे ज़्यादा फराक नही था. तीनो काफ़ी गौरी और सेक्सी बदन की मलिक थी. तीनो

मे कौन ज़्यादा खूबसूरत है यह कहना काफ़ी मुश्किल था. जब शाम को रवि घर आया तो उसने बेडरूम से काफ़ी आवाज़े और हँसने की आवाज़े सुनाई दी. वो समझ गया की रोमा आ गयी है. उसका मून हिचकोले खाने लगा. क्यों नही आख़िर उसकी सबसे सेक्सी साली जोत ही. वो जैसे ही रूम मे घुसा तो देखता है की उसकी साली एक नही दो-दो सालिया रीमा के साथ बेड पर बैठ कर उसके द्वारा लाई गयी नाइटी को देख रही है. रवि सीधा रोमा के पीच्चे जाकर उसकी आँखों को अपने हाथों से बूँद कर अपने से चिपका लिया. रोमा कहने लगी, "आरे क्या जीजू, बड़ी देर करदी घर आने मे. हम लोग तो आज ही आने वेल थे फिर भी देर से आए हो." रवि ने पलट-ते हुए जबाब दिया, "सॉरी मी डार्लिंग. तोड़ा ऑफीस मे काम आगेया था इसलिए लाते हो गयी. चलो अब माफ़ कर दो." रोमा ने रवि के हाथों को अपने हाथों मे लेते हुए कहा, "चलो माफ़ किया. लेकिन आपको भी हमारी जीजी का ध्यान रखना चाहिए. इस हाल मे ज़्यादा अकेले नही छ्चोड़ना चाईए." तभी लीना बोल पड़ी, "हम भी है इस महफ़िल मे." रवि लीना की तरफ आँख मरते हुए बोला, "अब तुम्हारी जीजी को तो क्या, तुम दोनो को भी अकेले नही छ्चोड़ूँगा." फिर रवि लीना को तोड़ा खिसका कर वहीं बेड पर ही अपने लिए जगह बना कर बोला, "क्या बात है. नाइटी की प्रदर्शिनी लगा रखी है." रोमा ने एक नाइटी को उठाकर उसके बीच मे से झनखटे हुए बोली," नही जीजू. हम सब तो यह देख रहे थे की इन नाइटी को पहने के बाद बदन पर नाइटी दीखती है या हमारा बदन."लीना आँख मरते हुए बोली, "जीजू बड़ी सेक्सी नाइटी डिज़ाइन करते हो. पूरा बदन उघड़ कर रख देती है." रवि भी हाज़िर-जवाब था. तुरंत बोल पड़ा, "जाओ इने पहनकर आओ. हम भी देखें की हमारी नाइटी ज़्यादा सेक्सी है या तुम्हारा बदन." इसी तरह उनके बीच हँसी मज़ाक चल रहा था. तभी एक जोक्स के बीच रीमा को ज़्यादा ही हँसी च्छुत गयी. ज़्यादा हँसने से उसके दारद उठाने लगा. सो फॉरून रीमा को ले कर वो तीनो हॉस्पिटल रवाना हो

गये. और आधे घंटे के बाद नर्स ने एक लड़के के जानम लेने की बधाई उनको दी. रवि, रोमा और लीना तीनो ही लड़के के जानम पर काफ़ी खुस हुए. और एक दूसरे को बधाइयाँ दी. फिर डॉक्टर. की इज़ाज़त ले कर अंदर जा कर रीमा को भी बधाई दी. रात को रुकने के नाम पर पहले तो डॉक्टर. ने सॉफ माना कर दिया पर ज़्यादा ज़ोर देने पर डॉक्टर. ने कहा, "चलो आज रात तो एक जान रुक सकता है लेकिन कल किसी को रुकने की इज़ाज़त नही दूँगी. आख़िर हमारी नर्से है जच्चा और बच्चा की देखभाल के लिए." एक रात के लिए हन भरने पर रोमा ने वहीं रुकने का फ़ैसला लिया. रवि रोमा को वहीं रुकते देख तोड़ा मायूष हुवा क्योंकि वो आज रात रोमा के साथ सेलेब्रेट करने का प्लान बना रहा था. लेकिन कुछ ना कहकर लीना को लेकर वापस घर की चल पड़ा. घर के नीचे लीना को छ्चोड़ उस-से कहा की मई आधे घंटे मे आता हूँ. रवि आधे घंटे बाद एक विस्की की बॉटल और एक शमपने की बॉटल

ले कर घर पर आ गया. ड्यूप्लिकेट चाबी से दरवाज़ा खोल लीना को आवाज़ दी. लीना उस समय बाथरूम मे थी. बाथरूम से वापस जवाब दिया, "जीजू बातरूम मे नहा रही हून. पंधराह बीस मिनिट मे आती हून." रवि लीना को बाथरूम मे देख हॉल मे विस्की की बॉटल, आइस और ग्लास लेकर सोफा पर ही पसार गया. साथ ही VCड प्लेयर चालू कर एरॉटिक डॅन्स की एक Cड चालू कर दी. Cड मे इंग्लीश धुन के साथ काई लड़किया आधी से ज़्यादा नंगी हो कर नाच रही थी. रवि भी इंग्लीश धुन के साथ बैठा बैठा झूम रहा था. उसकी भूखी आँखे उन गौरी लड़कियों के बदन पर जमी हुई थी. उसका भूखा लंड भी उनको नंगा देख बैचेनी से अंदर ही अंदर मचल रहा था. भूखा तो होना ही था कारण की डॉक्टर. ने रीमा के साथ सोने से पिछले एक महीने से ना कर रखा था जो. जब तक लीना बाथरूम से आई तब तक रवि दो पेग चढ़ा चक्का था. उसके आँखों मे विस्की का शरूर चढ़ने लग गया था. लीना ने अपनी जीजी रीमा की एक नाइटी निकल कर पहन ली. जब काँच से अपने बदन को देखा तो कुच्छ झेंप सी गयी. बदन पर नाइटी तो थी फिर भी पूरा बदन सॉफ दिखाई दे रहा था. काँच मे अपने बदन को गौर से देखने लगी. अपने दोनो हाथों से अपने निपल्स को दबाने लगी. रूम मे बैठकर चारो जब हँसी मज़ाक कर रहे थे तभी से ही उसकी चूत

मे खलबली मची हुई थी. नों-वेग. जोक्स से पूरे बदन मे स्त्री और पुरुष के संबंध की विवेचना चल रही थी. साथ मे जीजू का बारबार उसके गालों पर चुंबन उसको वासना की आग मे जला रहा था. मान ही मन जीजू के टेस्ट के दाद देने लगी. फिर भी उसने उसके उपर एक झीना गाउन और पहन लिया. हॉल मे पहुँची तो उसकी आग और बढ़ गयी. टV मे मादक धुन के साथ नाच रही इंग्लीश मेमो को अपने बदन पर से बचे कुचे कपड़े उतार कर फेंकते हुए देख उसके दिल की धड़कन और बढ़ गयी. खुद एक अच्च्ची डॅन्सर तो वो थी ही. पीछे से आकर अपना चेहरा जीजू के गाल से चिपका कर बोली, "बोलो क्या बोल रहे थे." रवि ने कहा कुच्छ नही. आओ बैठो. लीना वहीं खड़ी खड़ी बोली, "अकले ही पियोगे या हमे भी कुच्छ चखने दोगे."

रवि ने अपनी ग्लास को लीना के चेहरे के नज़दीक ला कर उसके मदमटे होठों से लगा दिया. लीना एक साँस मे ग्लास मे जितना था (आधे पेग

से भी ज़्यादा) गतक लिया और लगी खांसने. अपना मुह्न बिगाड़ते हुए

बोली, "अफ, कैसी कड़वी है यह सराब." रवि हुँसने लगा. फिर लीना को अपने करीब खींच कर उसके होठों पर पड़ी सराब की कुच्छ बूँदो को छत लिया और बोला, "हमे तो कड़वी नही लगती. लगता है पहली बार टेस्ट कर रही हो."

लीना की उखड़ी साँस थोड़ी शांत हुई तब बोली, "हा, फल्ली बार पी रही हूँ. इससे पहले एक दो बार बियर ज़रूर पी है." फिर टV पर डॅन्स देखने लगी. रवि निब भी लीना को अपने पास सोफा पर बैठाकर एक-दो घूँट और पीला दिया. नशा जब हल्का हल्का चढ़ने लगा तो लीना बोली, "क्या ऐसा डॅन्स देख रहे हो. इससे अच्छा तो मे नाच सकती हून." रवि ने पहले सोचा की सायद नशा होने की वजह से वो बोल रही होगी. लेकिन दूसरी बार कहने पर उसने टV बूँद कर दिया और बोला, "तो दिखाओ मेरी जान. हम भी देखें तुम कितना अच्च्छा नाच सकती हो." चेल्लेंज मान कर लीना ने एक ऑडियो Cड लगा कर

नाचना चालू कर दिया. ऑडियो Cड रीमिक्स सॉंग्स कीट ही. और पहला गाना ही "काँटा लगा" था. लीना काँटा लगा की धुन पर नाचने लगी. इसी बीच जो झीना गाउन पहने हुए थी उसे निकाल कर रवि की और उछाल फेंका. रवि की साँसे ये सब देख कर भारी हो उठी. उसेके पूरे सरीर मे वासना की लहरे हिलोरे मार रही थी. लंड उत्तेजना से पागल हो रहा था. पूरे बदन मे लहू सन-सन-सन करके दौड़ रहा था. लीना का बदन कहीं से भी स्थिर नही था. उसका जलवा अपने पूरे उफान पर था. कभी नज़दीक आकर तो कभी डोर से ही रवि को अपने बदन की नुमाइश कर के उकसा रही थी. सराब और सबब अपने पूरी जवानी पर था. पूरा हॉल मे ज़ोर ज़ोर से उठ बैठ रही साँसे म्यूज़िक से ताल से ताल मिला रही थी. लीना हर ढूँ के साथ अपनी तालमेल बैठा कर रवि को बेकाबू करने मे लगी थी. रवि भी बेकाबू हो कर अपने सुख रहे होठों पर जीभ बार बार सहला रहा था. लीना की भारी भारी छातियाँ उच्छल उच्छल कर रवि को आमंत्रण दे रही थी की आओ मुझे दाभोच लो. उसकी मस्त जंघे हाथी की सूंड की तरह झूम रही थी. कभी फैला कर तो कभी सिकोड कर अपनी चूत को दिखा और छुपा रही थी. पीच्चे घूम कर अपने चूतड़ मटका मटका कर नाच कर रवि के लंड को पूरी तरह बेकाबू कर दिया. तभी रवि सोफे से उठकर लीना के पास जा ही रहा था की लीना ने उसको वापस धकेल कर सोफा पर वापस बैठा दिया और अपने चूतड़ को उसकी जाँघो पर रख कर उसके लंड को रगड़ने लगी. लंड इस रागड़ाई से एकदम बोखला गया. रवि के बदन का सारा लहू मानो इस वक़्त उसके लवदे मे समाया हुआ था. उसने अपने दोनो हाथों से लीना के कबूतरो को जाकड़ लिया. भारी भारी दोनो उरोज रवि के हाथों मे भी नही समा रहे थे. चिकनी निघट्य की वजह से दोनो कबूतर उसके हाथ से फिसल रहे थे. लीना के कबूतर शिकारी को इतना नज़दीक देख कर फड़फड़ने लगे. रवि ने पागल होते हुए उसकी नाइटी को उरजो के सामने से पकड़ कर फाड़ दिया और उसके बूब्स को अपने हाथो मे लेकर तोलने लगा. फिर उसके दोनो निपल्स को अंगुली के बीच मे लेकर ज़ोर

से मसल दिया. लीना के मुहन से सिसकारी निकल गयी. "उउईए माआ….. धीरे से." रवि ने आराम से उसकी चुचियो को सहलाने लगा. लीना अपने चूतड़ की

रागड़ाई चालू रखी थी. रवि के लंड को काफ़ी दीनो बाद चूत की महक मिल रही थी. फिर यह तो साली की चूत. नशा सराब के साथ सबब का डबल हो रहा था. उसके नशीले बदन को अपनी बाहों मे समेत कर इस रगड़ाई को रोक कर अपनी अनियंत्रित हो रही सांसो को समेटने मे लगा. लीना के शरीर को सामने कर उसके रसीले होठों को चूमने लगा. उसके होठों के रूस को पीकर वो और मतवाला हो गया. अपनी जीभ को लीना की जीभ से टकरा रहा था. दोनो की जीबे पेंच लड़ा रही थी और हाथ उसके दोनो कबूतरो को अपने मे समाते हुए धीरे धीरे मसल रहे थे. रवि होतो से अपने होतो को च्छुदा कर अपनी जीभ को लीना के उरजो की तरफ ले आया. "अफ क्या कयामत है," ऐसे कहते हुए अपनी जीभ से उसके गुलाबी चूचियो चाटने लगा. लीना के मूह से सिसकारी निकल रही थी. उसके दोनो उरोज भारी हो चुके थे. उसकी साँसे ज़ोर ज़ोर से उपर नीचे होने लगी. "और ज़ोर ज़ोर से मेरी चुची को मसालो, बहुत मज़ा आ रहा है. तुम्हारे हाथ मे जादू है. इधर तुम मेरी चुची

को दबा रहे हो और उधर मेरी चूत पानी छोड़ रही है," लीना बेकाबू हो कर बड़बड़ाने लगी. दोनो निपल्स कड़क हो कर रवि के मूह मे जाने को उतावले थे. फिर बेकाबू हो कर चीख पड़ी, "सक इट. टके इट इन युवर मौत."

रवि निब ही अपने होठों को खोलकर उसके एक निपल को अपने बीच दबा लिया. "एस्स… एस्स… जीजू…. ऐसे ही चुसो….देखो मेरे निपल्स की खाज मिटा दो," लीना अपनी चाहत च्छूपा नही पाई. "ऊउउफ्फ्फ..ऽअ.. हह.. आआ.. हह प्लीज़ तोड़ा धीरे…. कतो ना….. उूउउइइ और ज़ोर से चूसो मेरे बूब्स को."[/color:10x26wsb][/size:10x26wsb]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *