आप की शशि compleet

Share

[size=150:2p6rbtmd][color=#8000BF:2p6rbtmd]आप की शशि

पार्ट् – 1

दोस्तों मेरा नाम सहर है और अपनी अम्मी और अब्बा जान के साथ रहती हूँ. मैं अपने माँ बाप की इकलौती औलाद हूँ. मेरी उम्र २६ साला की है और खुले विचारों की लड़की हूँ. हा लड़की, अभी मेरी शादी जो नहीं हुई है. घर में computer हैं और मैं नेट पर सेक्स sites visit करती हूँ, नये दोस्त बनाती हूँ और खुल के सेक्स chat भी कर लेती हूँ. नेट का यही तो मजा है. लेकिन मैं अपनी हकीकत हमेशा छिपा के रखती हूँ. कई id तो मैंने मर्दों के नाम के बना रखे है.

यह कहानी मेरी सबसे अच्छी दोस्त शशि कि है. वह ३१ साला कि एक खूबसूरत युवती है और मेरे घर के पास रहती है. वह जितनी होशियार प्यार करने में है उतनी होशियार computer चलाने में नहीं. तो आप समझ लीजिये कि मैं उसकी operator हूँ.

उस के पास computer है पर वों अच्छी तरह चलाना नहीं जानती कभी खुद से चलाने कि कोशिश करती है तो कोई न कोई घपला ही कर देती है. PC उस ने मेरे ही कहने से लिया था internet के लिये.

लेकिन पहले मैं उस के बारे में बता दु she is 31 years old hight 5’3". Matric किया हुआ है. हमारे घर से कुछ फासले पर एक flat में अपने बेटे के साथ रहती है. उस के husband कि death हो चुकी है ३ साला पहले. She is really pretty woman गोरा रंग है और sizes 38d-30-36. २ साला पहले कि बात है मैं अम्मी के साथ market में कुछ शोप्पिंग कर रही थी कि शशि से वहाँ ही मुलाकात हुई. वों भी अपने बेटे के साथ कुछ शोप्पिंग के लिये आई हुई थी. वहाँ अम्मी से उस का तआरुफ़ हुआ. उस ने बताया कि वों इस एरिया में नई आई है और एक फ्लैट में रह रही है और उस के हस्बैंड कि डेथ् हो चुकी है और अपने बारे में बहुत कुछ बताया तो अम्मी ने उसे घर आने कि दावत दे दी.

२/३ दिन बाद वों हमारे घर आई हम से बड़े प्यार से मिली. अम्मी कुछ देर उस के साथ बैठ के चली गयी उन्होने मेरी आँटी के साथ कही जाना था. अब मैं और शशि घर में अकेली थी. मैंने उस को अपना सारा घर दिखाया और अपने छोटे भईया के रूम में जब पहुँचे तो वहाँ उस ने computer देखा.

‘अरे ये तो computer है न?’

‘हाँ जी शशि बाजी’ मैंने कहा.

‘मैंने सुना है इस में तो बहुत कुछ आता है’ उस ने आंखें नचाते हुए पूछा.

‘जी बाजी’ ‘आप को क्या देखना है?’

‘कुछ नहीं मैं तो ऐसे ही कह रही थी मगर मैंने अभी तक इस को चलता हुआ नहीं देखा’.

मैंने PC ओन कर दिया internet तो cable पे ओन ही रहता था. वों मेरे पास ही chair ले के बैठ गई. मैंने जैसे ही explorar ओन किया automaticaly एक porn site का page ओपेन हो गया. शायद रात में भाई कुछ करता रहा होगा. मैंने देखते ही बन्द कर दिया

वों बोली. ‘अरि क्यों किया वही तो देखना था’

मेरे दिल जोर जोर से धड़कने लगा मैं शर्मा भी गई और डर भी गई.

‘वही लगाओ न देखूँ तो सही क्या क्या आता है इस में. डरो नहीं मैं किसी को नहीं बताऊँगी तुम तो मेरी दोस्त हो और दोस्त ही तो हमराज़ होते हैं’ वों मेरी तरफ देख के बोली.

‘वों… ये… computer तो मेरे भईया का है पता नहीं कैसे ये.’ मैंने सफाई देने कि कोशिश कि.

‘कोई बात नहीं यार मैं किसी को नहीं बताऊँगी आप खोलों तो सही’.

उस ने मुझे confidence में लिया और मैंने आखिर एक्सप्लोरर को रेफ्रेअश किया तो वही पेज ओपेन हो गया. उस पर एक लेस्बिअन पिक आ रही थी एक लड़की दूसरी लड़की को पूस्सी (चूत) पे किस्स कर रही थी.

हनी ऐसे किया है कभी तुम ने?

न… नहीं बाजी ये तो मैं देख पहली बार रही हूँ (but have seen so many porn site already in absense of my home mates. लेकिन अभी तक मेरा किसी से भी सेक्स relation नहीं था)

करोगी?

जा… जी? आप क्या कहा रही हो?

कुछ ऐसा भी नहीं कहा रही जो तुम्हें समझ न आये मैं पूछ रही हूँ कि ऐसा करना चाहोगी?

क्यों?

एक बार हाँ कहो तो फिर खुद ही क्यों का मतलब समझ जाओगी.

मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और मैं डर भी रही थी. मैं कुछ न बोली बस उस कि आंखों में एक अजीब सी चमक देखती रही. उस ने मेरे बाज़ू से मुझे पकड़ा और बेड़ पर ले गई मैं चुप थी कुछ बोल नहीं रही थी.

बेठो! डॉरस तो लोक्क हैं न और कोई घर में तो नहीं न अभी?

नहीं कोई नहीं है और डॉरस भी लोक्क ही हैं क्यों आप क्या करने लगी हो?

कुछ नहीं! आराम से बेठो और डरो नहीं मैं कुछ नहीं करूंगी मैं लड़का नहीं हुँ औरत हूँ और तुम्हें थोड़ा सा मजा दूंगी! अच्छा लगे तो अपनी दोस्ती पक्की वरना दोबारा तुम को कुछ नहीं कहुँगी! ओ के. और उस ने मुझे बेड़ पे बैठा दिया बल्कि लेटा दिया और मेरा ट्राउजर् उतारने लगी मैंने रोकना चाहा लेकिन उस ने मेरी आंखो में देखा तो मैं हिप्नोटाईस् सी हो गई और उस को रोक न सकी. उस ने मेरी कमीज़ ऊपर की मेरी टाँगें खोल दी अब उस के सामने मेरी पूस्सी (चूत) थी और उस ने अचानक ही चाटनी शुरू कर दी. अब मेरी सिसकी बंध गई ऐसा मजा पहली बार जिन्दगी में आया क्या बताँऊ. और यूँ हमारी पक्की दोस्ती शुरू हुई…

मुझे लेस्बिअन सेक्स का पता तो था पर करने का मौका आज पहली बार मिला. शशि एक बच्चे की माँ थी और मुझ से ५ साला बड़ी भी पर इस एक ही मुलाकात ने हम दोनों को पक्की सहेली बना दिया. अब अकसर शशि मेरे घर आ जाती या फिर मैं उसके घर चली जाती. शशि के घर में हम ज्यादा फ्री थे, कारण वहाँ कोई नहीं था. उसका बेटा अभी ३ साला का ही हुआ था.

शशि बेटे को दूध पिला के सुला देती और हम दोनों सहेलियाँ देखते देखते मादर जाता नंगी हो जाती. जो कुछ भी लेस्बिअन फिल्मोन में हो सकता है वों सब हम खुल के करती. शशि के पास एक डिल्डो भी था. कभी शशि मर्द बनती तो कभी मैं.

अब शशि और मुझ में कोई पर्दा नहीं रहा. शशि ने अपनी गुजरी जिन्दगी की दास्तान मुझको बयान की. वों क्या सेक्स से भरपूर, क्या लसीली दास्तान थी उसकी. फिर शशि का उसे मजे ले ले के बयान करने का अन्दाज़. दोस्तों उसकी दास्तान सुन कर मैं अपने आप को रोक नहीं पा रही हूँ और आप सबसे शेयर करने को बेचैन हूँ. आप को यह दास्तान मैं शशि की ज़बान में ही पेश करूंगी.[/color:2p6rbtmd][/size:2p6rbtmd]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply