सुन्दर का मात्र प्रेम

Share

[size=150:2i6befiq][color=#FF0000:2i6befiq] सुन्दर का मात्र प्रेम–1[/color:2i6befiq]
[color=#8000BF:2i6befiq]
मैं दक्षिण भारत में सत्तर के दशक में पैदा हुआ. मेरे पिता मिल में काम करने वाले एक सीधे साधे आदमी थे. उनमें बस एक खराबी थी, वे बहुत शराब पीते थे. अक्सर रात को बेहोशी की हालत में उन्हें उठा कर बिस्तर पर लिटाना पड़ता था. पर मां के प्रति उनका व्यवहार बहुत अच्छा था और मां भी उन्हें बहुत चाहती थी और उनका आदर करती थी.

मैंने बहुत पहले मां पर हमेशा छाई उदासी महसूस कर ली थी पर बचपन में इस उदासी का कारण मैं नहीं जान पाया था. मैं मां की हमेशा सहायता करता था. सच बात तो यह है कि मां मुझे बहुत अच्छी लगती थी और इसलिये मैं हमेशा उसके पास रहने की कोशिश करता था. मां को मेरा बहुत आधार था और उसका मन बहलाने के लिये मैं उससे हमेशा तरह तरह की गप्पें लड़ाया करता था. उसे भी यह अच्छा लगता था क्योंकि उसकी उदासी और बोरियत इससे काफ़ी कम हो जाती थी.

मेरे पिता सुबह जल्दी घर से निकल जाते थे और देर रात लौटते. फ़िर पीना शुरू करते और ढेर हो जाते. उनकी शादी अब नाम मात्र को रह गई थी, ऐसा लगता था. बस काम और शराब में ही उनकी जिंदगी गुजर रही थी और मां की बाकी जरूरतों को वे नजरंदाज करने लगे थे. दोनों अभी भी बातें करते, हंसते पर उनकी जिंदगी में अब प्यार के लिये जैसे कोई स्थान नहीं था.

मैं पढ़ने के साथ साथ पार्ट-टाइम काम करता था. इससे कुछ और आमदनी हो जाती थी. पर यार दोस्तों में उठने बैठने का मुझे समय ही नहीं मिलता था, प्यार वार तो दूर रहा. जब सब सो जाते थे तो मैं और मां किचन में टेबल के पास बैठ कर गप्पें लड़ाते. मां को यह बहुत अच्छा लगता था. उसे अब बस मेरा ही सहारा था और अक्सर वह मुझे प्यार से बांहों में भर लेती और कहती कि मैं उसकी जिंदगी का चिराग हूं.

बचपन से मैं काफ़ी समझदार था और दूसरों से पहले ही जवान हो गया था. सोलह साल का होने पर मैं धीरे धीरे मां को दूसरी नजरों से देखने लगा. किशोरावस्था में प्रवेश के साथ ही मैं यह जान गया था कि मां बहुत आकर्षक और मादक नारी थी. उसके लंबे घने बाल उसकी कमर तक आते थे. और तीन बच्चे होने के बावजूद उसका शरीर बड़ा कसा हुआ और जवान औरतों सा था. अपनी बड़ी काली आंखों से जब वह मुझे देखती तो मेरा दिल धड़कने लगता था.

हम हर विषय पर बात करते. यहां तक कि व्यक्तिगत बातें भी एक दूसरे को बताते. मैं उसे अपनी प्रिय अभिनेत्रियों के बारे में बताता. वह शादी के पहले के अपने जीवन के बारे में बात करती. वह कभी मेरे पिता के खिलाफ़ नहीं बोलती क्योंकि शादी से उसे काफ़ी मधुर चीजें भी मिली थीं जैसे कि उसके बच्चे.

मां के प्रति बढ़ते आकर्षण के कारण मैं अब इसी प्रतीक्षा में रहता कि कैसे उसे खुश करूं ताकि वह मुझे बांहों में भरकर लाड़ दुलार करे और प्यार से चूमे. जब वह ऐसा करती तो उसके उन्नत स्तनों का दबाव मेरी छाती पर महसूस करते हुए मुझे एक अजीब गुदगुदी होने लगती थी. मैं उसने पहनी हुई साड़ी की और उसकी सुंदरता की तारीफ़ करता जिससे वह कई बार शरमा कर लाल हो जाती. काम से वापस आते समय मैं उसके लिये अक्सर चाकलेट और फ़ूलों की वेणी ले आता. हर रविवार को मैं उसे सिनेमा और फ़िर होटल ले जाता.

सिनेमा देखते हुए अक्सर मैं बड़े मासूम अंदाज में उससे सट कर बैठ जाता और उसके हाथ अपने हाथों में ले लेता. जब उसने कभी इसके बारे में कुछ नहीं कहा तो हिम्मत कर के मैं अक्सर अपना हाथ उसके कंधे पर रख कर उसे पास खींच लेता और वह भी मेरे कंधे पर अपना सिर रखकर पिक्चर देखती. अब वह हमेशा रविवार की राह देखती. खुद ही अपनी पसंद की पिक्चर भी चुन लेती.

पिक्चर के बाद अक्सर हम एक बगीचे में गप्पें मारते हुए बैठ जाते. एक दूसरे से मजाक करते और खिलखिलाते. एक दिन मां बोली. "सुंदर अब तू बड़ा हो गया है, जल्द ही शादी के लायक हो जायेगा. तेरे लिये अब एक लड़की ढूंढना शुरू करती हूं."

मैंने उसका हाथ पकड़ते हुए तुरंत जवाब दिया. "अम्मा, मुझे शादी वादी नहीं करनी. मैं तो बस तुम्हारे साथ ही रहना चाहता हूं." मेरी बात सुनकर वह आश्चर्य चकित हो गई और अपना हाथ खींच कर सहसा चुप हो गई.

"क्या हुआ अम्मा? मैंने कुछ गलत कहा?" मैंने घबरा कर पूछा.

वह चुप रही और कुछ देर बाद रूखे स्वरों में बोली. "चलो, घर चलते हैं, बहुत देर हो गई है."

मैंने मन ही मन अपने आप को ऐसा कहने के लिये कोसा पर अब जब बात निकल ही चुकी थी तो साहस करके आगे की बात भी मैंने कह डाली. "अम्मा, तुम्हें बुरा लगा तो क्षमा करो. पर सच तो यही है कि मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं. तुम्हारी खुशी के लिये मैं कुछ भी कर सकता हूं."

काफ़ी देर मां चुप रही और फ़िर उदासी के स्वर में बोली. "गलती मेरी है बेटे. यह सब पहले ही मुझे बंद कर देना था. लगता है कि अकेलेपन के अहसास से बचने के लिये मैंने तुझे ज्यादा छूट दे दी इसलिये तेरे मन में ऐसे विचार आते हैं."

मैं बोला. "गलत हो या सही, मैं तो यही जानता हूं कि तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो."

वह थोड़ा नाराज हो कर बोली. "पागलपन की बातें मत करो. सच तो यह है कि तू मेरा बेटा है, मेरी कोख से जनमा है."

मैंने अधीर होकर कहा. "अम्मा, जो हुआ सो हुआ, पर मुझसे नाराज मत हो. मैं अपना प्यार नहीं दबा सकता. तुम भी ठंडे दिमाग से सोचो और फ़िर बोलो."

मां बहुत देर चुप रही और फ़िर रोने लगी. मेरा भी दिल भर आया और मैंने उसे सांत्वना देने को खींच कर अपनी बांहों में भर लिया. वह छूटकर बोली. "चलो, रात बहुत हो गयी है, अब घर चलते हैं."

इसके बाद हमारा घूमने जाना बंद हो गया. मेरे बहुत आग्रह करने पर भी वह मेरे साथ नहीं आती थी और कहती थी कि मैं किसी अपनी उम्र की लड़की के साथ पिक्चर देखने जाऊं. मुझसे वह अभी भी दूर रहती थी और बोलती कम थी. पर जैसे मेरे मन में हलचल थी वैसी ही उसके भी मन में होती मुझे साफ़ दिखती थी.

एक दो माह ऐसे ही गुजर गये. इस बीच मेरा एक छोटा बिज़िनेस था, वह काफ़ी सफ़ल हुआ और मैं पैसा कमाने लगा. एक कार भी खरीद ली. मां मुझ से दूर ही रहती थी. मेरे पिता ने भी एक बार उससे पूछा कि अब वह क्यों मेरे साथ बाहर नहीं जाती तो वह टाल गयी. एक बार उसने उनसे ही कहा कि वे क्यों नहीं उसे घुमाने ले जाते तो काम ज्यादा होने का बहाना कर के वे मुकर गये. शराब पीना उनका वैसे ही चालू था. उस दिन उनमें खूब झगड़ा हुआ और अखिर मां रोते हुए अपने कमरे में गई और धाड़ से दरवाजा लगा लिया.

दूसरे दिन बुधवार को जब मेरे भाई बहन बाहर गये थे, मैंने एक बार फ़िर साहस करके उसे रविवार को पिक्चर चलने को कहा तो वह चुपचाप मान गई. मेरी खुशी का ठिकाना न रहा और मैं उससे लिपट गया. उसने भी मेरे सीने पर सिर टिकाकर आंखें बंद कर लीं. मैंने उसे कस कर बांहों में भर लिया.

यह बड़ा मधुर क्षण था. हमारा संबंध गहरा होने का और पूरा बदल जाने का यह चिन्ह था. मैंने प्यार से उसकी पीठ और कंधे पर हाथ फ़ेरे और धीरे से उसके नितंबों को सहलाया. वह कुछ न बोली और मुझसे और कस कर लिपट गयी. मैंने उसकी ठुड्डी पकड़ कर उसका सिर उठाया और उसकी आंखों में झांकता हुआ बोला. "अम्मा, मैं तुझे बहुत प्यार करता हूं, जो भी हो, मैं तुझे अकेला नहीं रहने दूंगा."

फ़िर झुक कर मैंने उसके गाल और आंखें चूमी और साहस करके अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये. मां बिलकुल नहीं विचलित हुई बल्कि मेरे चुंबन का मीठा प्रतिसाद उसने मुझे दिया. मेरी मां का वह पहला चुंबन मेरे लिये अमृत से ज्यादा मीठा था.
उसके बाद तो उसमें बहुत बदलाव आ गया. हमेशा वह मेरी राह देखा करती थी और मेरी लाई हुई वेणी बड़े प्यार से अपने बालों में पहन लेती थी. जब भी हम अकेले होते, एक दूसरे के आलिंगन में बंध जाते और मैं उसके शरीर को सहलाकर अपनी कुछ प्यास बुझा लेता. मां का यह बदला रूप सबने देखा और खुश हुए कि मां अब कितनी खुश दिखती है. मेरी बहन ने तो मजाक में यह भी कहा कि इतना बड़ा और जवान होने पर भी मैं छोटे बच्चे जैसा मां के पीछे घूमता हूं. मैंने जवाब दिया कि आखिर अम्मा का अकेलापन कुछ तो दूर करना हमारा भी कर्तव्य है.

उस रविवार को अम्मा ने एक बहुत सुंदर बारीक शिफ़ान की साड़ी और एकदम तंग ब्लाउज़ पहना. उसके स्तनों का उभार और नितंबों की गोलाई उनमें निखर आये थे. वह बिलकुल जवान लग रही थी और सिनेमा हाल में काफ़ी लोग उसकी ओर देख रहे थे. वह मुझसे बस सात आठ साल बड़ी लग रही थी इसलिये लोगों को यही लगा होगा कि हमारी जोड़ी है.

पिक्चर बड़ी रोमान्टिक थी. मां ने हमेशा की तरह मेरे कंधे पर सिर रख दिया और मैंने उसके कंधों को अपनी बांह में घेरकर उसे पास खींच लिया. पिक्चर के बाद हम पार्क में गये. रात काफ़ी सुहानी थी. मां ने मेरी ओर देखकर कहा. "सुंदर बेटे, तू ने मुझे बहुत सुख दिया है. इतने दिन तूने धीरज रखा. आज मुझे बहुत अच्छा लग रहा है."

मैंने मां की ओर देख कर कहा. "अम्मा, आज तुम बहुत हसीन लग रही हो. और सिर्फ़ सुंदर ही नहीं, बल्कि बहुत सेक्सी भी."

अम्मा शरमा गयी और हंस कर बोली. "सुंदर, अगर तू मेरा बेटा न होता तो मैं यही समझती कि तू मुझ पर डोरे डाल रहा है."

मैंने उसकी आंखों में आंखें डाल कर कहा. "हां अम्मा, मैं यही कर रहा हूं."

मां थोड़ा पीछे हटी और कांपते स्वर में बोली. "यह क्या कह रहा है बेटा, मैं तुम्हारी मां हूं, तू मेरी कोख से जन्मा है. और फ़िर मेरी शादी हुई है तेरे पिता से"

मैं बोला "अम्मा, उन्होंने तुम्हें जो सुख देना चाहिये वह नहीं दिया है, मुझे आजमा कर देखो, मैं तुम्हे बहुत प्यार और सुख दूंगा."

मां काफ़ी देर चुप रही और फ़िर बोली. "सुंदर, अब घर चलना चाहिये नहीं तो हम कुछ ऐसा कर बैठें जो एक मां बेटे को नहीं करना चाहिये तो जिंदगी भर हमें पछताना पड़ेगा."

मैं तड़प कर बोला "अम्मा, मैं तुम्हे दुख नहीं पहुंचाना चाहता पर तुम इतनी सुंदर हो कि कभी कभी मुझे लगता है कि काश तुम मेरी मां न होतीं तो मैं फ़िर तुम्हारे साथ चाहे जो कर सकता था."

मेरी इस प्यार और चाहत भरी बात पर मां खिल उठी और मेरे गालों को सहलाते हुए बोली. "मेरे बच्चे, तू भी मुझे बहुत प्यारा लगता है, मैं तो बहुत खुश हूं कि तेरे ऐसा बेटा मुझे मिला है. क्या सच में मैं इतनी सुंदर हूं कि मेरे जवान बेटे को मुझ पर प्रेम आ गया है?"

मैंने उसे बांहों में भरते हुए कहा. "हां अम्मा, तुम सच में बहुत सुंदर और सेक्सी हो."

अचानक मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने झुक कर मां का चुंबन ले लिया. मां ने प्रतिकार तो नहीं किया पर एक बुत जैसी चुपचाप मेरी बांहों में बंधे रही. अब मैं और जोर से उसे चूमने लगा. सहसा मां ने भी मेरे चुंबन का जवाब देना शुरू कर दिया. उसका संयम भी कमजोर हो गया था. अब मैं उसके पूरे चेहरे को, गालों को, आंखों को और बालों को बार बार चूमने लगा. अपने होंठ फ़िर मां के कोमल होंठों पर रख कर जब मैंने अपनी जीभ उनपर लगायी तो उसने मुंह खोल कर अपने मुख का मीठा खजाना मेरे लिये खुला कर दिया.

काफ़ी देर की चूमाचाटी के बाद मां अलग हुई और बोली. "सुन्दर, बहुत देर हो गयी बेटे, अब घर चलना चाहिये." घर जाते समय जब मैं कार चला रहा था तो मां मुझ से सट कर मेरे कंधे पर सिर रखकर बैठी थी. मैंने कनखियों से देखा कि उस के होंठों पर एक बड़ी मधुर मुस्कान थी.

बीच में ही मैंने एक गली में कार रोक कर आश्चर्यचकित हुई मां को फ़िर आलिंगन में भर लिया और उसे बेतहाशा चूमने लगा. इस बार मैंने अपना हाथ उसके स्तनों पर रखा और उन्हें प्यार से टटोलने लगा. मां थोड़ी घबराई और अपने आप को छुड़ाने की कोशिश करने लगी. "सुन्दर, हमें यह नहीं करना चाहिये बेटे."[/color:2i6befiq]

मैंने अपने होंठों से उसका मुंह बंद कर दिया और उसका गहरा चुंबन लेते हुए उन मांसल भरे हुए स्तनों को हाथ में लेकर हल्के हल्के दबाने लगा. बड़े बड़े मांसल उन उरोजों का मेरे हाथ में स्पर्श मुझे बड़ा मादक लग रहा था. इन्हीं से मैंने बचपन में दूध पिया था. मां भी अब उत्तेजित हो चली थी और सिसकारियां भरते हुए मुझे जोर जोर से चूमने लगी थी. फ़िर किसी तरह से उसने मेरे आलिंगन को तोड़ा और बोली. "अब घर चल बेटा."
क्रमशः………………..

[/color][/size:2i6befiq]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *