Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Share

[size=150:1p1dmslm][color=#FF0000:1p1dmslm]रिसेशन की मार पार्ट–12

गतान्क से आगे……….

हम दोनो बाथरूम मे घुस गये और साथ मे ही शवर लिया. राज का लंड अभी तक नरम नही हुआ था तो मैं ने हैरत से पूछा के क्या यह हमेशा ऐसे ही खड़ा रहता है सॉफ्ट नही होता तो मेरी चूत की तराफ़ इशारा करके हंसते हुए बोला के ऐसी मस्त चूत देख के किसी का लंड भी नरम नही हो सकता. मैं ने राज को और राज ने मेरे बदन पे सोप लगाया और उसके लंड को अछी तरह से सोप से रगड़ रगड़ के धोया और फिर अपनी चूत को भी सॉफ किया. मेरा हाथ लगने से राज के लंड मे और तनाव पैदा हो गया था और अब वो मस्ती मे हिलने लगा था तो मैं अपने दोनो हाथो से उसके लंड को पकड़ के घुटनो के बल बैठ गयी और चूसने लगी तो राज के हाथ फॉरन मेरे हेड पे आ गये और उसने मेरे मूह को चोदना शुरू कर दिया. उसका लंड किसी लोहे के रोड की तरह सख़्त और गरम हो गया था. मैं भी गरम हो गयी थी और अपनी उंगली से अपनी चूत के दाने का मसाज करने लगी और फिर अपनी उंगली से ही अपनी चूत को चोदने लगी. थोड़ी ही देर मे वो मेरे हलक तक अपने लंड को घुसा के चोदने लगा और फिर उसकी स्पीड बढ़ गयी और मुझे लगा के अब वो झड़ने वाला है. मेरा हाथ भी अब तेज़ी से चलने लगा था और उधर राज भी मेरे मूह को ज़ोर ज़ोर से चोद रहा था. राज ने अपने लंड को मेरे हलक तक उतार दिया और अपने क्रीम की पिचकारियाँ मारने लगा जो डाइरेक्ट मेरे हलक मे गिरने लगी और साथ ही मेरा ऑर्गॅज़म भी शुरू हो गया और मैं भी झड़ने लगी.

हम दोनो नेएक बार फिर से शवर लिया और बाहर आ गये. एक दूसरे को ड्राइ किया और कपड़े पहेन लिए. राज ने बोला के चलो बाहर चलते है डिन्नर बाहर ही खाएगे. मैं और राज नीचे आ गये. मुन्ना भाई वही अपनी सीट पे बैठे थे उन्हो ने राज को विश किया तो राज ने बोला के मैं मेडम को डिन्नर के लिए बाहर ले जा रहा हू तो उसने बोला के कोई बात नही सर और हम दोनो बाहर निकल गये. बाहर राज की चमकती हुई ब्लॅक कलर की क़ुआलिस खड़ी थी. राज ने एलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से डोर्स को खोला तो मैं अंदर बैठ गयी. राज ने कार स्टार्ट कर दी और एरकॉनडिशन खोल दिया. इतनी फर्स्ट क्लास और कंफर्टबल कार मे मैं फर्स्ट टाइम बैठी थी. कार के अंदर पर्फ्यूम की स्मेल थी. राज सिगरेट नही पीता था इसी लिए कार मे अछी स्मेल थी अदरवाइज़ मोस्ट ऑफ दा पर्सन्स हू स्मोक हॅव फाउल स्मेल इन देयर कार्स. राज मुझे एक बढ़िया होटेल मे ले गया और हम दोनो ने मस्त डिन्नर किया. राज ने पूछा के स्नेहा तुम ड्रिंक्स करती हो क्या तो मैने बोला के नही मैं नही करती अगर तुम करना चाहो तो कर सकते हो तो उसने बोला के नही मैं भी नही करता. फिर हम ने कॉफी पी उसके बाद राज मुझे मुंबई की सैर कराने लगा. राज के मोबाइल की बेल हुई तो उसने उठा लिया, दूसरी तरफ उसकी वाइफ थी शाएद जो पूछ रही थी के कहा हो तो राज ने बोला के वो एक क्लाइंट के साथ डिन्नर पे है और अभी वापस आने मे शाएद 2 घंटे

और लगेगा, तुम खाना खा लो तो फिर पता नही उसकी वाइफ ने क्या कहा उसके बाद उसने अपनी वाइफ को बाइ बोला और फोन काट कर दिया. मैं ने पूछा वाइफ थी तो उसने बोला के हा वो टूर से वापस आ गयी है तो मैं ने शरारत से मुस्कुराते हुए बोला के तुम अपने क्लाइंट के साथ डिन्नर कर रहे थे तो उसने मेरे गालो को चूमते हुए बोला के यही तो मेरी सीक्रेट लाइफ है मेरी जान. फिर काफ़ी देर तक राज मुझे इधर उधर घूमाता रहा और मुंबई के बारे मैं बताता रहा पर मेरी समझ मे कुछ भी नही आया बस दीवानो की तरह से इधर उधर देख रही थी के क्या जगह है यह मुंबई भी, यहा का दिन बिज़ी होता है और रातें रंगीन. मौसम बोहोत ही अछा था पर राज ने एरकॉनडिशन खोल रखा था. उसकी कार के ग्लासस भी डार्क कलर के थे. मैं राज के लंड को उसके पॅंट से बाहर निकाल के पकड़े रही और राज भी एक हाथ से स्टियरिंग संभाल रहा था और दूसरे हाथ से मेरी चूत मे उंगली कर रहा था. कभी कभी झुक के उसके लंड को अपने मूह मे ले के चूसने लगती तो राज मेरे सर को पकड़ के अपने लंड पे दबा देता था और फिर उसने बोला के पता है स्नेहा मेरी वाइफ ने आज तक मेरे लंड को अपने मूह मे नही लिया और ना ही अपनी चूत मे पूरा लंड डालने दिया तो मैं ने बोला के राज मेरी जान क्यों फिकर करते हो तुम्हारी वाइफ को तुम्हारे शानदार लंड की कदर नही है तो क्या हुआ मैं हू ना मुझे यह मूसल बोहोत पसंद है इसको मैं हमेशा अपने पास रखना चाहती हू तो उसने प्यार से मेरे गालो को चूम लिया और बोला के यू आर दा बेस्ट डार्लिंग.

हम इसी तरह से मस्तियाँ करते करते घूमते रहे और फिर तकरीबन रात के तकरीबन 12 बजे के करीब हम वापस होटेल आ गये. राज मुझे छोड़ने ऊपेर आया तो मैं उस से लिपट गयी और किस करने लगी और बोला के राज प्लीज़ आज की रात मेरे पास ही रहो ना तुम्है छोड़ने को दिल नही चाह रहा, प्लीज़ रूको ना तो उसने बोला के नही मेरी जानू मैं सारी रात तो नही रुक सकता पर कुछ देर के लिए ज़रूर रुक सकता हू पर तुमको मेरी एक बात माननी होगी तो मैं खुश हो गयी के चलो इसी बहाने राज थोड़ी देर और मेरे पास रहेगा तो मैं ने बोला के अरे स्नेहा की जान भी माँगो गे तो वो भी मिलेगी, मैं किसी दयावान की तारह से बोली माँगो क्या माँगते हो तो उसने बोला के मैं तुम्हारी गंद मारना चाहता हू तो मेरा दिल धक्क से रह गया और सोचा के एक टाइम तो आक्सिडेंटली उसका लंड मेरी गंद मे घुस गया था तो मेरी जान ही निकल गयी थी पर अब तो मुझे मालूम है के वो मेरी गंद मारेगा तो मेरी गंद उसके मारने से पहले ही फटने लगी. अब मैं ने उसको प्रॉमिस तो कर ही दिया था और अब मुझे गंद तो मरवाना ही था तो उसको बोल दिया के ठीक है मेरी जान मेरी गांद भी मारलो बट प्लीज़ आराम से करना, मेरी गंद फॅट जाएगी मैं इतना बड़ा और मोटा लंड अपनी गंद मे नही ले पाउन्गी तो उसने बोला के तुम फिकर ना करो मैं धीरे धीरे आराम से ही करूँगा.

राज अपना कोट और टाइ कार मे ही रख चुका था अब सिर्फ़ पॅंट और शर्ट मे था और बड़ा ही हॅंडसम लग रहा था. उसने मुझे अपनी बाँहो मे ले लिया और हम किसी नये लवर्स की तरह से दीवानो की तरह एक दूसरे को किस करने लगे. उसका लंड तो कभी सॉफ्ट होता ही नही था और हमेशा ही एरेक्ट मोड मे रहता था. मैने उसके पॅंट की ज़िप को खोल दिया और अंडरवेर से उसके मूसल को आज़ाद कर दिया. उसने मेरी सारी खोल दी और पेटिकोट का नाडा भी और फिर हम दोनो देखते ही देखते नंगे हो गये. उसका लंड मस्ती मे हिल रहा था शाएद मेरी गंद को सल्यूट कर रहा था पर मेरी गंद तो ऐसे ही फॅट रही थी. मैं बेड पे बैठ के उसके लंड को चूसने लगी. राज का लंड मेरे थूक से गीला हो चुका था तो उसने मुझे बघल से पकड़ हे बेड से उठाया और फ्लोर पे खड़े खड़े मुझे सामने की ओर झुका दिया. अब मैं अपने दोनो हाथ बेड के किनारे पे रखे डॉगी स्टाइल मे खड़ी थी और राज मेरे पीछे खड़ा था. राज ने पीछे से अपना लंड मेरी चूत मे डाल दिया जो पहले ही गीली हो चुकी थी तो मैं खुश हो गयी के शाएद यह मेरी गंद नही मारेगा सिर्फ़ चूत की ही चुदाई करेगा. हाउ रॉंग आइ वाज़. वो तो अपने लंड को मेरी चूत से निकलते जूस से गीला कर रहा था. पूरा लंड जड़ तक पेल दिया और 2 – 4 मिनिट तक चोदा तो मे तो झाड़ गयी और मेरे झड़ने से उसका लंड पूरा गीला हो गया तो उसने अपने लंड को मेरी चूत से बाहर खेच लिया और गंद के सुराख पे रगड़ने लगा. डर के मारे मेरा बुरा हाल था इसी लिए मैं ने अपनी गंद के मसल्स को टाइट बंद कर लिया था. राज कोशिश करता रहा पर बड़ी मुश्किल से उसके लंड का हेल्मेट ही मेरी गंद मे घुस सका. ऐसी पोज़िशन मे शाएद सही ग्रिप नही मिल रही थी तो उसने मुझे बेड पे हाफ लिटा दिया. मेरी गंद बेड के किनार पे थी और पैर फ्लोर पे. होटेल का बेड मीडियम हाइट का था उसपे उल्टा लेटने से हाफ डॉग्गी स्टाइल के लिए पर्फेक्ट पोज़िशन बनती थी, मेरे दोनो हाथ फोल्ड करके उसपे अपना सर रखा हुआ था. ऐसी पोज़िशन मे लेटने से मेरे पैर पीछे तक चले गये थे और मैं हाफ डॉगी स्टाइल मे बेड पे उल्टा लेटी थी. ऐसी ही पोज़िशन मे उसने फिर अपना लंड मेरी टाइट गंद मे डालने की कोशिश की. मैं ने गंद को टाइट बंद किया हुआ था तो उसने बोला गंद के मसल्स को रिलॅक्स करो नही तो बोहोत दरद होगा तो मैं ने बोला के मुझे से नही हो रहा क्या करू तो उसने हाथ करीब पड़े अपने पॅंट की जेब मे डाला और उसमे से ब्लॅक कलर का एक ट्यूब निकाला जो किसी लार्ज साइज़ टूथ पेस्ट से भी थोड़ा बड़ा था, जिसपे जेल्ली जैसा कुछ लिखा हुआ था. शाएद राज ने पहले ही मेरी गंद मारने की तय्यरी कर रखी थी और जेल्ली को अपने पॅंट मे रखे घूम रहा था. उसने वो ट्यूब खोला और दबा के जेल्ली को पहले तो अपने लंड पे खूब अछी तरह से लगाया और फिर मेरे नीचे हाथ डाल के मेरी गंद को थोड़ा ऊपेर उठाया और गंद मे ट्यूब का हेड डाल के जेल्ली के ट्यूब को ज़ोर से दबाया जिस से

ऑलमोस्ट हाफ जेल्ली मेरी गंद मे चली गयी. जेल्ली मेरी गंद मे ठंडी लग रही थी. उसने ट्यूब को दबा के मेरी गंद के सुराख के ऊपेर भी खूब बोहोत जेल्ली लगाई और लंड के हेड से जेल्ली को सुराख पे रगड़ने लगा. मेरी हालत और बुरी हो गयी थी मुझे पता था के अब यह मूसल मेरी गंद मे डेफनेट्ली घुसेगा और मेरी गंद फॅट जाएगी. राज मेरे ऊपेर झुक गया और मेरे कान के लटकते हुए हिस्से को किस करने लगा और मेरे गालो को चूमने लगा. इधर वो अपने लंड को मेरी गंद के सुराख पे प्रेशर दे रहा था. इतना स्लिपरी होने की वजह से उसके लंड का सूपड़ा तो बोहोत ईज़िली अंदर घुस गया पर मुझे इतना दरद हुआ के फॉरन ही मैं ने गंद को फिर से टाइट कर लिया. उसने लंड के सूपदे को ही आगे पीछे कर के प्रेशर डालने शुरू किया तो थोड़ा थोड़ा उसका लंड मेरी गंद मे घुसाने लगा. राज रुक गया और उतना लंड ही मेरी गंद के अंदर रखे रखे एक बार फिर ट्यूब से जेल्ली अपने लंड के हेड पे डाली और थोड़ा दबाया तो लंड थोड़ा और अंदर चला गया और मेरी गंद ऑटोमॅटिकली खुलने लगी. जेल्ली बोहोत ही चिकनी और स्लिपरी थी मेरी गंद मे जलन होने लगी और तकलीफ़ से मेरी आँखो मे आँसू आ गये. राज को भी शाएद पता था के ऐसे धीरे धीरे डालने से बोहोत टाइम भी लगेगा और दरद भी ज़ियादा होगा इसी लिए वो मेरे ऊपेर झुका हुआ था और मुझे चूमते चूमते धीरे से मेरी गंद से अपना लंड थोड़ा बाहर निकाला, सिर्फ़ सूपड़ा गंद के अंदर रहने दिया और बिना धक्का लगाए मेरे ऊपेर लेट के मुझे किस करने लगा और मेरे बूब्स को दबा ने लगा और फिर नीचे हाथ डाल के मेरी चूत से खेलने लगा और चूत मे उंगली डालने लगा तो मैं मूड मे आने लगी और मेरा बदन खुद ही रिलॅक्स होने लगा और शाएद राज भी किसी ऐसे ही मोके की तलाश मे था मेरी चूत से खेलते खेलते उसने कब मेरे शोल्डर को टाइट पकड़ लिया पता ही नही चला और फिर एक धक्का इतनी ज़ोर से मारा के मेरी जान ही निकल गयी, उसका मूसल मेरी गंद मे जड़ तक धँस चुका था और मैं बोहोत ज़ोर से चिल्लाई सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स आआआआअहह उउउउउउउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ एम्म्मम्म्मायायायेयीयायार्र्र्र्र्र्र्र ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्ग्गाआआईईईईईई र्र्र्र्र्र्र्र्र्रररीईईईई हहाआआआआआआआआअ और उसका इतना लंबा मोटा लंड मेरी छोटी सी गांद को फाड़ता हुआ जड़ तक अंदर तक घुस चुका था, मैं उसकी ग्रिप से निकलने को मचल रही थी पर उसने मुझे बहुत ही टाइट पकड़ा हुआ था, मेरा सारा बदन अकड़ गया था, तकलीफ़ से मेरी आँखे भी को निकल गयी थी और चेहरा लाल हो गया था, आँखो से आँसू बहने लगे, राज ने मुझे टाइट पकड़ा हुआ था, मैं उसकी पवरफुल ग्रिप से एक इंच भी नही निकल सकी. राज अपना लंड मेरी गंद मे घुसाए, मुझे अपने ग्रिप मे टाइट पकड़े मुझे अपने नीचे दबा के ऐसे ही मेरे ऊपेर लेटा रहा. उसका लंड मेरी गंद मे पूरा घुस चुका था. .

मेरी गंद मे बोहोत दरद हो रहा था मुझे लग रहा था जैसे किसी ने कोई लोहे का मूसल मिर गंद मे घुसा दिया हो. मैं राज की पवरफुल ग्रिप से नही निकल पाई और ऐसे ही उसके नीचे दबी पड़ी रही. मेरी साँसें तेज़ी से चल रही थी. थोड़ी देर ऐसे ही पोज़िशन मे लेटे लेटे अब मुझे दरद कम महसूस होने लगा तो मैने एक गहरी साँस ली जिस से राज समझ गया के अब उसका लंड मेरी गंद से अड्जस्ट हो गया है. लंड को गंद से बिना बाहर निकाले वो थोड़ा सा पीछे हटा और अपने लंड को देखने लगा जो मेरी गंद मे जड़ तक घुसा हुआ था. अब उसने फिर से जेल्ली का ट्यूब उठाया और अपने लंड को ऑलमोस्ट हाफ मेरी गंद से बाहर निकाला और अपने लंड पे ढेर सारी जेल्ली डाली और लंड को गंद के अंदर कर दिया इसी तरह से 3 – 4 टाइम लंड को बाहर निकाल निकाल के उसपे जेल्ली डालता रहा तब कही जा के उसका लंड आसानी से मेरी गंद के अंदर बाहर होने लगा. मेरी गंद पूरी तरह से खुल चुकी थी. अब राज ने मेरी गंद मारना शुरू किया. मेरे शोल्डर्स को पकड़ा हुआ मेरे कान को चूस रहा था और मेरी गंद मार रहा था. थोड़ी ही देर मे मुझे मज़ा आने लगा तो मैं भी अब पीछे धक्के लगाने लगी और मज़े से गंद मरवाने लगी. राज को यह देख के और जोश आ गया और वो अब पूरी ताक़त से मार रहा था और मेरी गंद को फाड़ रहा था. कभी पूरा लंड गंद से बाहर निकाल के कभी आधा लंड बाहर निकालके तकरीबन आधे घंटे तक वो मेरी गंद को मारता रहा फिर उसके धक्के तेज़ होने लगे तो मैं ने उसका एक हाथ अपने शोल्डर से हटाया और अपनी चूत की तरफ कर दिया तो वो एक बार फिर से मेरी चूत से खेलने लग और अब मुझे गंद मरवाने मे बोहोत ही मज़ा आने लगा. राज के धक्के तेज़ होने लगे थे और फिर जैसे ही राज की पिचकारी मेरी गंद के अंदर छूटती उसकी उंगली मेरी चूत के अंदर तक घुस्स गयी, उसकी उंगली भी अछी ख़ासी मोटी किसी मीडियम साइज़ के लंड की तरह ही थी. वो झटके से मेरी चूत मे घुसी और मेरी चूत से जूस निकलने लगा और उसके लंड से क्रीम की धारियाँ निकल ने लगी और मेरी गंद को भरने लगी. वो जोश मे मेरी गंद मारता ही जा रहा था और उसके लंड से धारियाँ निकलती ही जा रही थी. थोड़ी देर मे वो शांत हो गया और मेरे बदन पे ही ढेर हो गया, वो बोहोत ही गहरी गहरी साँस ले रहा था और हम दोनो का बदन पसीने से भरा हुआ था. लंड मेरी गंद मे डाले ही डाले थोड़ी देर तक राज मेरे बदन पे ऐसेही लेटा रहा. उसका लंड अभी तक मेरी गंद के अंदर फूल पिचक रहा था. मेरी गंद के सुराख के मसल्स उसके लंड के बेस को दबा दबा के निचोड़ रहे थे. जब उसके लंड से मलाई की एक एक बूँद निकल गयी तो उसने अपना लंड बाहर खेच लिया. प्लॉप की आवाज़ के साथ उसका लंड मेरी गंद से बाहर निकल गया, मेरी गंद पूरी तरह से खुल चुकी थी, उसका लंड मेरी गंद से बाहर निकलते ही मुझे एक दम से मेरी गंद खाली खाली सी महसूस हुई और उसकी मलाई गंद के खुले हुए सुराख से बह ने लगी और मेरी खुली हुई चूत के बीच मे से बहती हुई

नीचे बेड पे गिरने लगी. उसका लंड गंद से बाहर निकल ते ही मेरी गंद एक दम से रिलॅक्स हो गयी.

क्रमशः………………….

Recession Ki Maar part–12

gataank se aage……….

Ham dono bathroom mai ghus gaye aur sath mai hi shower lia. Raj ka Lund abhi tak naram nahi hua tha to mai ne hairat se poocha ke kia yeh hamesha aise hi khada rehta hai soft nahi hota to meri choot ki taraaf ishara karke hanste hue bola ke aisi mast choot dekh ke kisi ka Lund bhi naram nahi ho sakta. Mai ne Raj ko aur Raj ne mere badan pe soap lagaya aur uske Lund ko achi tarah se soap se ragad ragad ke dhoya aur phir apni choot ko bhi saaf kia. Mera hath lagne se Raj ke Lund mai aur tanaao paida ho gaya tha aur ab wo masti mai hilne laga tha to mai apne dono hatho se uske Lund ko pakad ke ghutno ke bal baith gayee aur choosne lagi to Raj ke hath foran mere head pe aa gaye aur usne mere muh ko chodna shuru kar dia. Uska Lund kisi lohe ke rod ki tarah sakht aur garam ho gaya tha. Mai bhi garam ho gayee thi aur apni ungli se apni choot ke dane ka massage karne lagi aur phir apni ungli se hi apni choot ko chodne lagi. Thodi hi der mai wo mere halak tak apne lund ko ghusa ke chodne laga aur phir uski speed badh gayee aur mujhe laga ke ab wo jhadne wala hai. Mera hath bhi ab tezi se chalne laga tha aur udhar Raj bhi mere muh ko zor zor se chod raha tha. Raj ne apne Lund ko mere halak tak utar dia aur apne cream ki pichkariyan marne laga jo direct mere halak mai girne lagi aur sath hi mera orgasm bhi shuru ho gaya aur mai bhi jhadne lagi.

Ham dono ek bar phir se shower lia aur baher aa gaye. Ek doosre ko dry kia aur kapde pehen liye. Raj ne bola ke chalo baher chalte hai dinner baher hi khayege. Mai aur Raj neeche aa gaye. Munna bhai wahi apni seat pe baithe the unho ne Raj ko wish kia to Raj ne bola ke mai madam ko dinner ke liye baher le ja raha hu to usne bola ke koi bat nahi Sir aur ham dono baher nikal gaye. Baher Raj ki chamakti hui black colour ki Qualis khadi thi. Raj ne electronic device se doors ko khola to mai ander baith gayee. Raj ne car start kar di aur Aircondition khol dia. Itni first class aur comfortable car mai mei firt time baithi thi. Car ke ander perfume ki smell thi. Raj cigarette nahi pita tha isi liye car mai achi smell thi otherwise most of the persons who smoke have foul smell in their cars. Raj mujhe ek badhiya hotel mai le gaya aur ham dono ne mast dinner kia. Raj ne poocha ke sneha tum drinks karti ho kia to maine bola ke nahi mai nahi karti agar tum karna chaho to kar sakte ho to usne bola ke nahi mai bhi nahi karta. Phir ham ne coffee pi uske bad Raj mujhe Mumbai ki sair karane laga. Raj ke mobile ki bell hui to usne utha lia, doosri taraf uski wife thi shaed jo pooch rahi thi ke kaha ho to Raj ne bola ke wo ek client ke sath dinner pe hai aur abhi wapas aane mai shaed 2 ghante

aur lagega, tum khana kha lo to phir pata nahi uski wife ne kia kaha uske bad usne apni wife ko Bye bola aur phoe kat kar dia. Mai ne poocha wife thi to usne bola ke haa wo tour se wapas aa gayee hai to mai ne shararat se muskurate hue bola ke tum apne client ke sath dinner kar rahe the to usne mere galo ko choomte hue bola ke yehi to meri secret life hai meri jaan. Phir Kaafi der tak Raj mujhe idhar udhar ghoomte rahe aur Mumbai ke barey mai bata ta raha par meri samajh mai kuch bhi nahi aaya bas deewano ki tarah se idhar udhar dekh rahi thi ke kia jahag hai yeh Mumbai bhi, yaha ka din busy hota hai aur raatein rangeen. Mousam bohot hi acha tha par Raj ne aircondition khol rakha tha. Uski car ke glasses bhi dark colour ke the. Mai Raj ke Lund ko uske pant se baher nikal ke pakde rahi aur Raj bhi ek hath se steering sambhal raha tha aur doosre hath se meri choot mai ungli kar raha tha. Kabhi kabhi jhuk ke uske Lund ko apne muh mai le ke choosne lagti to Raj mere sar ko pakad ke apne Lund pe daba deta tha aur phir usne bola ke pata hai Sneha meri wife ne aaj tak mere Lund ko apne muh mai nahi lia aur na hi apni choot mai poora Lund dalne dia to mai ne bola ke Raj meri jaan kyon fikar karti ho tumhari wife ko tumhare shandar Lund ki kadar nahi hai to kia hua mai hu na mujhe yeh musal bohot pasand hai isko mai hamesha apne pas rakhna chahti hu to usne pyar se mere galo ko choom lia aur bola ke you are the best darling.

Ham isi tarah se mastiyan karte karte ghoomte rahe aur phir takreeban raat ke takreeban 12 baje ke kareeb ham wapas hotel aa gaye. Raj mujhe chhorne ooper aya to mai us se lipat gayee aur kiss karne lagi aur bola ke Raj please aaj ki rat mere pas hi raho na tumhai chhorne ko dil nahi chah raha, please ruko na to usne bola ke nahi meri jaanu mai sari raat to nahi ruk sakta par kuch der ke liye zaroor ruk sakta hu par tumko meri ek baat maani hogi to mai khush ho gayee ke chalo isi bahaane Raj thodi der aur mere pas rahega to mai ne bola ke arey Sneha ki jaan bhi mango ge to wo bhi milegi, mai kisi saheeh dayawaan ki tarh se boli MANGO KIA MAANGTE HO to usne bola ke mai tumhari gand marna chahta hu to mera dil dhakk se reh gaya aur socha ke ek time to accidentally uska Lund meri gand mai ghus gaya tha to meri jaan hi nikal gayee thi par ab to mujhe malum hai ke wo meri gand marega to meri gand uske marne se pehle hi phatne lagi. Ab mai ne usko promise to kar hi dia tha aur ab mujhe gand to marwana hi tha to usko bol dia ke theek hai meri jaan meri gaand bhi marlo but please araam se karna, meri gand phat jayegi mai itna bada aur mota lund apni gand mai nahi le paugi to usne bola ke tum fikar na karo mai dheere dheere araam se hi karunga.

Raj apna coat aur tie car mei hi rakh chuka tha ab sirf pant aur shirt mai tha aur bada hi handsome lag raha tha. Usne mujhe apni baho mei le lia aur ham kisi naye lovers ki tarah se deewano ki tarah ek doosre ko kiss karne lage. Uska Lund to kabhi soft hota hi nahi tha aur hamesha hi erect mode mai rehta tha. Maine uske pant ki zip ko khol dia aur underwear se uske musal ko azaad kar dia. Usne meri saree khol di aur petticoat ka nada bhi aur phir ham dono dekhte hi dekhte nange ho gaye. Uska Lund masti mai hil raha tha shaed meri gand ko salute kar raha tha par meri gand to aise hi phat rahi thi. Mai bed pe baith ke uske lund ko choosne lagi. Raj ka Lund mere thook se geela ho chuka tha to usne mujhe baghal se pakad he bed se uthaya aur floor pe khade khade mujhe saamne ki or jhuka dia. Ab mai apne dono hath bed ke kinare pe rakhe doggy style mai khadi thi aur Raj mere peeche khada tha. Raj ne peeche se apna Lund meri choot mai dal dia jo pehle hi geeli ho chuki thi to mai khush ho gayee ke shaed yeh meri gand nahi marega sirf choot ki hi chudai karega. How wrong I was. Wo to apne Lund ko meri choot se nikalte juice se geela kar raha tha. Poora Lund jadd tak pel dia aur 2 – 4 minute tak choda to mai to jhad gayee aur mere jhadne se uska Lund poora geela ho gaya to usne apne Lund ko meri choot se baher khech lia aur gand ke surakh pe ragadne laga. Dar ke mare mera bura haal tha isi liye mai ne apni gand ke muscles ko tight band kar lia tha. Raj koshish karta raha par badi mushkil se uske Lund ka helmet hi meri gand mai ghus saka. Aisi position mai shaed sahi grip nahi mil rahi thi to usne mujhe bed pe half lita dia. Meri gand bed ke kinar pe thi aur pair floor pe. Hotel ka bed medium height ka tha uspe ulta letne se half dogg style ke liye perfect position banti thi, mere dono hath fold karke uspe apna sar rakha hua tha. Aisi position mai letne se mere pair peeche tak chale gaye the aur mai half doggy style mei bed pe ulta leti thi. Aisi hi position mai usne phir apna Lund meri tight gand mai dalne ki koshish ki. Mai ne gand ko tight band kia hua tha to usne bolake gand ke muscles ko relax karo nahi to bohot darad hoga to mai ne bola ke mujhe se nahi ho raha kia karu to usne hath kareeb pade apne pant ki jeb mai dala aur usmei se black colour ka ek tube nikala jo kisi large size tooth paste se bhi thoda bada tha, jispe JELLY jaisa kuch likha hua tha. Shaed Raj ne phele hi meri gand marne ki tayyari kar rakhi thi aur Jelly ko apne pant mai rakhe ghoom raha tha. Usne wo tube khola aur daba ke jelly ko pehle to apne lund pe khoob achi tarah se lagaaya aur phir mere neeche hath dal ke meri gand ko thoda ooper uthaya aur gand mai tube ka head dal ke jelly ke tube ko zor se dabaya jis se

almost half jelly meri gand mai chali gayee. Jelly meri gand mai thandi lag rahi thi. Usne tube ko daba ke meri Gand ke surakh ke ooper bhi khoob bohot jelly lagayee aur Lund ke head se jelly ko surakh pe ragarne laga. Meri halat aur buri ho gayee thi mujhe pata tha ke ab yeh musal meri gand mai definitely ghusega aur meri gand phat jayegi. Raj mere ooper jhuk gaya aur mere kaan ke latakte hue hisse ko kiss karne laga aur mere galo ko choomne laga. Idhar wo apne Lund ko meri gand ke surah pe pressure de raha tha. Itna slippery hone ki wajah se uske Lund ka supada to bohot easily ander ghus gaya par mujhe itna darad hua ke foran hi mei ne gand ko phir se tight kar lia. Usne Lund ke supade ko hhi aage peeche kar ke pressure dalne shuru kia to thoda thoda uska Lund meri gand mai ghusne laga. Raj ruk gaya aur utna Lund hi meri gand ke ander rakhe rakhe ek bar phir tube se jelly apne lund ke head pe dali aur thoda dabaya to Lund thoda aur ander chala gaya aur meri gand automatically khulne lagi. Jelly bohot hi chikni aur slippery thi meri gand mai jalan hone lagi aur takleef se meri aankho mai aansoo aa gaye. Raj ko bhi shaed pata tha ke aise dheere dheere dalne se bohot time bhi lagega aur darad bhi ziada hoga isi liye wo mere ooper jhuka hua tha aur mujhe choomte choomte dheere se meri gand se apna lund thoda baher nikala, sirf supada gand ke ander rehne dia aur bina dhakka lagaye mere ooper let ke mujhe kiss karne laga aur mere boobs ko daba ne laga aur phir neeche hath dal ke meri choot se khelne laga aur choot mai ungli dalne laga to mei mood mai aane lagi aur mera badan khud hi relax hone laga aur shaed Raj bhi kisi aise hi moke ki talash mai tha meri choot se khelte khelte usne kab mere shoulder ko tigh pakad lia pata hi nahi chala aur phir ek dhakka itni zor se mara ke meri jaan ho nikal gayee, uska musal meri gand mai jad tak dhans chuka tha aur mei bohot zor se chillya ssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss aaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh uuuuuuuuuuuffffffffffffffffffff mmmmmmmmaaaaaaaaaaarrrrrrrrrr ggggggggggggggaaaaaaeeeeeeeeeeee rrrrrrrrrrrreeeeeeeeeee hhhhhhhhhhhhhhaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aur usk itna lamba mota lund meri choti si gaand ko phaadta hua jadd tak ander tak ghus chuka tha, mai uski grip se nikalne ko machal rahi thi par usne mujhe bohto hi tight pakda hua tha, mera sara badan akad gaya tha, takleef se meri aankhain bahi ko nikal gayee thi aur chehra laal ho gaya tha, aankho se aansoo behne lage, Raj ne mujhe tight pakda hua tha, mai uski powerful grip se ek inch bhi nahi nikal saki. Raj apna Lund meri gand mai ghusaye, mujhe apne grip mai tight pakde mujhe apne neeche daba ke aise hi mere ooper leta raha. Uska Lund meri gand mai poora ghus chuka tha. .

Meri gand mei bohot darad ho raha tha mujhe lag raha tha jaise kisi ne koi lohe ka musal meir gand mei ghusa dia ho. Mai Raj ki powerful grip se nahi nikal payee aur aise hi uske neeche dabi padi rahi. Meri saansein tezi se chal rahi thi. Thodi der aise hi position mai lete lete ab mujhe darad kam mehsoos hone laga to mai ek gehri saans li jis se Raj samajh gaya ke ab uska Lund meri gand se adjust ho gaya hai. Lund ko gand se bina baher nikale wo thoda sa peeche hata aur apne Lund ko dekhne laga jo meri gand mai jad tak ghusa hua tha. Ab usne phir se jelly ka tube uthaya aur apne Lund ko almost half meri gand se baher nikala aur apne Lund pe dher sari jelly dali aur Lund ko gand ke ander kar dia isi tarah se 3 – 4 time Lund ko baher nikal nikal ke uspe Jelly daalata raha tab kahi ja ke uska Lund aasaani se meri gand ke ander baher hone laga. Meri gand poori tarah se khul chuki thi. Ab Raj ne meri gand marna shuru kia. Mere shoulders ko pakda hua mere kaan ko choos raha tha aur meri gand mar raha tha. Thodi hi der mai mujhe maza aane laga to mai bhi ab peeche dhakke lagane lagi aur maze se gand marwane lagi. Raj ko yeh dekh ke aur josh aa gaya aur wo ab poori takat se mar raha tha aur meri gand ko phad raha tha. Kabhi Poora Lund gand se baher nikal ke kabhi aadha Lund baher nikalke takreeban aadhe ghante tak wo meri gand ko marta raha phir uske dhakke tez hone lage to mai ne uska ek hath apne shoulder se hataya aur apni choot ki taraf kar dia to wo ek bar phir se meri choot se khelne lag aur ab mujhe gand marwane mai bohot hi maza aane laga. Raj ke dhakke tez hone lage the aur phir jaise hi Raj ki pichkari meri gand ke ander chhooti uski ungli meri choot ke ander tak ghuss gayee, uski ungli bhi achi khasi moti kisi medium size ke Lund ki tarah hi thi. Wo jhatke se meri choot mei ghusi aur meri choot se juice nikalne laga aur uske Lund se cream ki dhariyan nikal ne lagi aur meri gand ko bharne lagi. Wo josh mai meri gand marta hi ja raha tha aur uske Lund se dhariyan nikalti hi ja rahi thi. Thodi der mai wo shant ho gaya aur mere badan pe hi dher ho gaya, wo bohot hi gehri gehri saans le raha tha aur ham dono ka badan paseene se bhara hua tha. Lund meri gand mai dale hi dale thodi der tak Raj mere badan pe aisehi leta raha. Uska Lund abhi tak meri gand ke ander phool pichak raha tha. Meri gand ke surakh ke muscles uske Lund ke base ko daba daba ke nichod rahe the. Jab uske Lund se malayee ke ek ek boond nikal gayee to usne apna Lund baher khech lia. Plop ki awaz ke sath uska Lund meri gand se baher nikal gaya, Meri gand poori tarah se khul chuki thi, Uska Lund meri gand se baher nikalte hi mujhe ek dum se meri gand khali khali si mehsoos hui aur uski malayee gand ke khule hue surakh se beh ne lagi aur meri khuli hui choot ke beeche mei se behti hui

neeche bed pe girne lagi. Uska Lund gand se baher nikal te hi meri gand ek dum se relax ho gayee.

kramashah………………….

[/color:1p1dmslm][/size:1p1dmslm]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *