मेरे पति और उनका परिवार compleet

Share

[size=200:19vzt6t8][color=#4000BF:19vzt6t8] मेरे पति और उनका परिवार[/color:19vzt6t8][/size:19vzt6t8]
[size=150:19vzt6t8][color=#FF0000:19vzt6t8]मैं एक मध्यम वर्गीय फेमिली से हूँ, दो वर्ष शादी को हो चुके हैं और इस समय मेरी आयु सत्ताइस वर्ष के ऊपर चल रही है, मेरे पति की आयु उनतीस वर्ष है, वह एक बड़ी कंपनी में अच्छे पद पर हैं और अपने काम के सिलसिले में महीने में पंद्रह या बीस दिन शहर से बाहर रहते हैं,

मेरे पति एक हेंडसम और स्मार्ट ब्यक्ति हैं, उनका ब्यवहार भी अच्छा रहता है, वे जब भी टुर से लौटते हैं तो ढेर सारी अन्य चीजों के साथ विभिन्न तरह के सौंदर्य प्रसाधन आदि ले आते हैं, दरअसल वे एक कामुकता प्रिय ब्यक्ति हैं, कामुकता में भी उन्हे हर बार कुछ नया ही चाहिये, वे एक ही जैसी क्रियाओं से बोर हो जाते हैं, उनके नये नये स्टाईलॉ और भांति भांति के आसनों से मुझे भी काफी आनंद आता है और मैं उनके ऐसे क्रिया कलापों में ऐतराज नहीं करती हूँ,

मेरे पति ऑफिस गए हुवे थे कल ही वे टुर से आये थे, आज मेरा छोटा भाई जिसकी आयु उन्नीस वर्ष है वह आ गया था, शाम का टाइम था, मैं और मेरा छोटा भाई बैडरूम में बैड पर बैठ कर टी.वी…… देख रहे थे, टी.वी. पर एक हिंदी फिल्म आ रही थी, मैनें साडी ब्लाउज पहना हुआ था और मेरा छोटा भाई पेंट – शर्ट में था, वह बैड के एक कोने पर बैठा था जबकि मैं बैड की पुश्त से पीठ लगाये दोनों हांथों को सिने पर बांधे बैठी थी, सात बजने जा रहे थे, तभी कॉल-बेल बजी,

मेरे उठने से पहले ही मेरा छोटा भाई उठा और दरवाजा खोल आया और बैड पर आकर बैठ गया वहीँ जहां पहले बैठा था,

कौन आया है….मैनें पूछा,

जीजाजी आये हैं…..उसने सामान्य स्वर में उत्तर दिया,

मेरे पति बाहर के दरवाजे को लोंक कर के बैडरूम में आकर मेरे निकट बैड पर बैठ गए,

देर नहीं हो गई आज आपको आने में…मैनें अपनी आँखों में कृत्रिम क्रोध लाकर कहा,

देर वाले काम ही में तो मजा आता है जानेमन….मेरे पति नें मेरे गालों पर किस करते हुवे कहा,

उनका एक हाँथ मेरे ब्लाउज के ऊपर पहुँच गया था, ब्लाउज के ऊपर ही से उन्होंने मेरे स्तन पर चिकोटी काटी तो मेरे होंटों से हलकी सी कराह फुट पड़ी,

मेरी कराह पर टी.वी. देखते मेरे भाई की द्रिष्टि मेरी ओर हुई और फिर टी.वी. की ओर हो गई,

मैनें अपनें ब्लाउज से अपने पति का हाँथ हटाया और आँखें तरेर कर बोली- आपको सब्र होना चाहिये मेरा भाई भी बैठा है और आप उसकी उपस्थिति में भी ऐसी हरकतें कर रहें हैं, मेरा स्वर इतना धीमा था की जो सिर्फ मुझे और मेरे पति को ही सुनाई दे सकता था,

ओ…के….तुम जाओ और मेरे लिए एक बढ़ियां सी चाय बनाओ, मैं हाँथ मुह धो कर आता हूँ…मेरे पति ने इतना कहा और फिर धोखे से मेरे होंठों को चूम कर मेरे निकट से उठ गये,

मैं बडबडाती हुई उठी, मेरे भाई ने कनखियों से उनकी ये हरकत्त देख ली थी, इसी कारण उसके पतले पतले होंठों पर मुस्कान आ गई थी, थोड़ी देर बाद मैं चाय बना कर ले आई तो पति को बैड पर अपने स्थान पर बैठे पाया, मैनें चाय का कप उनको पकडा दिया और उनके निकट बैठ गई,

टी.वी. पर एक कैबरे गीत आ रहा था जिसमें नायिका नें काफी कम कपडे पहन रखे थे और वह उत्तेजक अंदाज में नाच रही थी,
हाय…क्या फिगर है…कैसे पतली कमर को झटका देकर देखनें वालों को हार्ट- अटैक दे रही है ये…क्यों..जानेमन …क्या ऐसा डांस कर सकती हो तुम…मेरे पति चाय पीते हुवे बोले,

तुम चुप रहोगे की नहीं….मैं धीमे स्वर में बोली,
अमां…साले साब…देख रहे हो तुम्हारी बहन हमें कुछ बोलने ही नहीं दे रही….अब अगर हमने इस कैबरे डांस की तारीफ़ कर दी तो इसमें क्या गलत बात हो गई….मेरे पति ने मेरे भाई से कहा, मेरा भाई मुस्करा कर रह गया,
फिर चाय ख़त्म करने तक मेरे पति कुछ नहीं बोले किन्तु उनका हाँथ मेरे ब्लाउज पर आ गया और वो मेरे स्तनों को मसलने लगे, मैं अपने भाई की उपस्थिति का ख्याल करके उनके हाँथ अपने हांथों से हटाने का प्रयाश करने लगी लेकिन फिर भी उन्होंने मेरे ब्लाउज के दो तीन बटन खोल कर मेरे ब्लाउज के भीतर हाँथ डाल दिया और ब्रा के नीचे से मेरे निप्पल इतनी सख्ती से मसला की मैं तीब्र स्वर में कराह उठी,

मेरी कराह नें मेरे भाई का ध्यान हम दोनों की ओर खिंचा, वह छण भर को हम दोनों को देखता रहा उसकी जिज्ञाशु दृष्टी मेरे ब्लाउज पर जम गई फिर वह अपनी आँखें नीची किये बैडरूम से बाहर जाने के लिये मुड़ने लगा तो मेरे पति ने उसका हाँथ पकड़ कर उसे बेड पर अपने नजदीक बैठा लिया और अपना हाँथ बिना मेरे ब्लाउज में से निकाले बोले-

अरे यार….ये सामान्य पति पत्नी की नोंक झोंक है तुम कहाँ चले, अच्छा मैं तुमसे एक बात पूछता हूँ जवाब सही सही देना,

मेरा भाई असमंजस के भाव से कभी उनकी आँखों में देखने लगता तो कभी मेरी आँखों में, वह कुछ बोल नहीं पाया,

ये बताओ….क्या तुमने किसी जवान औरत के स्तन देखें हैं…आज से पहले….यह कहते हुवे उनके हाँथ नें मेरे ब्लाउज को थोडा और खोल कर मेरा स्तन ब्रा के कप में से बाहर ही जो निकाल दिया, मेरा भाई भी स्तब्ध था और मैं भी, हम दोनों ही इस स्थिति से सर्वथा अपरिचित थे,

मुझे मालुम है….तुमने न तो अबसे पहले औरत का स्तन देखा है और न ही छुवा है….अपना हाँथ इधर लाओ….मेरे पति उन्मुक्त भाव से उसके हाँथ को पकड़ कर मेरे स्तन पर रख कर बोले-लो….देख लो..कैसा होता है स्तन….देखा कैसा होता है स्तन…शर्माओ मत,

मेरे पति ने मेरे भाई का मुख मेरे बायें स्तन के बिलकुल नजदीक कर दिया और बायें स्तन का गहरे गुलाबी रंग का निप्पल उसके होंठों के पास करके बोले- होंठ खोलो और इसे चुसो….लेकिन मेरे भाई नें होंठ नहीं खोले, वह तो फटी फटी आँखों से यह सब देख रहा था तब मेरे पति नें मेरे दायें स्तन को भी मेरे ब्लाउज और ब्रा में से निकाल दिया और उसके निप्पल को चूसने लगे,
मैं उत्तेजना में बहने लगी,

क्या तुम अपने भाई के होंठ नहीं चूम सकती…मेरे पति ने मुझसे कहा तो मेरे मन में विचित्र प्रकार का प्यार उमड़ आया, यह सब मेरे लिये अनोखा था, मैनें अपने भाई के गुलाबी होंठों को चूम लिया और उसके होंठों में अपने बायें स्तन का निप्पल भी दे दिया, अब उसने निप्पल ले लिया, मैनें कहा… चुसो इसे,

वह चूसने लगा वो भी इस तरह जैसे कोई शिशु स्तन में दूध खोजता है, मैं अदभुत आनंद से भरने लगी, मेरे हाँथ उसके सर को सहलाने लगे थे, मेरे दोनों स्तनों को चूसा जा रहा था, मैं उत्तेजित होती जा रही थी, मेरे हाँथ मेरे भाई की पीठ पर होकर उसकी पेंट पर पहुँच गये, मैनें उसकी पेंट की जिप खोल दी और उसमें हाँथ डाल कर उसके अंडरवीयर के नीचे छिपे उसके अंगड़ाई भरते लिंग को अंडरवीयर के ऊपर से ही सहलाने लगी, मेरे पति नें मेरी साड़ी को पेटीकोट सहित मेरे घुटनों से ऊपर कर दिया था और मेरे दायें स्तन को चूसते चूसते मेरी चिकनी जाँघों को भी सहलाने लगे थे,

उनकी कोशिश देख कर मुझे करवट लेनी पड़ी और मैनें अपनी पीठ उनकी और कर ली, उन्होंने मेरा स्तन छोड़ दिया था, वे अब मेरी साड़ी और पेटीकोट को नितंबों तक पलट कर मेरे नितंबों को सहलाने लगे थे, मेरे नितंबों पर कसी पैंटी अभी उन्होंने उतारी नहीं थी, अभी तो वे जांघें सहला सहला कर ही मुझे उत्तेजित करते जा रहे थे,

मेरे आगे लेटा मेरा छोटा भाई मेरे स्तनों को ही चूसने में ब्यस्त था, उसकी इस क्रिया नें भी मुझे तपा डाला था,

मैनें उसके अंडरवीयर में से उसका सात आठ इंच लंबा लिंग बाहर निकाल लिया था और उसे सहलाने लगी थी, मेरे भाई का लिंग अभी तक नया ही था, उसकी त्वचा लिंग-मुंड पर चढ़ी हुई थी, जिसे मैं धीरे-धीरे नीचे को उतार रही थी, मेरा एक हाँथ उसकी पैंट को नीचे सरका चूका था,

अचानक मेरे पति नें मुझसे कहा- आज एक नये किस्म का मज़ा लेते हैं, तुम्हारे भाई का नया नया लिंग तुम्हारी योनी में नहीं बल्कि तुम्हारी गुदा (गांड) में डलवाते हैं….तुम्हें तो मज़ा आयेगा ही…तुम्हारे भाई को भी आनंद आयेगा….तुम जानवर की भांति हांथ पांव बेड पर टिका कर अपने नितंब ऊँचे उठा लो,

मैनें ऐसा ही किया,मेरे नितंब ऊँचे उठ गये तो मेरे पति नें मेरे भाई को मेरे पीछे खड़ा करके उसके लिंग मुंड पर अपना ढेर सा थूक लगा कर उसे मेरे नितंबों के बीच जहां मेरी गुदा (गांड) थी वहाँ टिकाया और मेरे भाई से कहा-धक्का मारो साले साब….लेकिन धीरे धीरे,

मेरे भाई नें मेरी कमर को पकड़ कर धक्का मारा तो लिंग ऊपर को फिसल गया,
ओ…ओफ्फो..यार….रुको…दोबा
रा कोशिश करते हैं, मेरे पति ने मेरे भाई से कहा,

मैनें मुद्रा बदल कर करवट ले ली और अपने पति से बोली- ये पहली बार तो मैथुन (चुदाई) क्रिया कर रहा है और तुम ये उम्मीद कर रहे हो की एक ही बार में लिंग प्रवेश कर लेगा, वो भी बिना किसी चिकनाई के, जाओ जरा रसोई में से सरसों का तेल ले आओ, मैं तब तक इसके लिंग को और उत्तेजित करती हूँ,

तुम ठीक कहती हो……मेरे पति ने इतना कहा और चले गये,

मैनें अपने भाई को उसका हांथ पकड़ कर अपने सिरहाने बैठा लिया और उसकी टांगें फैला कर उसकी मजबूत जांघ पर अपना सर टिका कर उसके तने हुवे लिंग की उपरी त्वचा लिंग मुंड से हटा कर उसे अपने मुंह में ले लिया, मैं उसे चूसने लगी,

वह मचल उठा, उसके कंठ से कामुक ध्वनि फूटने लगी,
उफ..ओह…मेरे शरीर में चीटियाँ सी दौड़ रही हैं….उफ…वह टूटते शब्दों में कह उठा, मैनें उसके हांथों को अपने स्तनों पर टिका दिया और बोली- इनसे खेलते रहो…और फिर उसके लिंग को अपनी जीभ से तरासने लगी,

मेरे पति एक कटोरी में सरसों का तेल ले आये और मेरी एक टांग को ऊँचा करके मेरी गुदा (गांड) में तेल लगाने लगे,

अब अपने जीजाजी के पास चले जाओ……….. मैनें अपने मुंह से अपने भाई का लिंग निकाल कर उससे कहा, वह यंत्र की भांति चुपचाप मेरे पति के निकट जाकर बैठ गया,

मेरे पति नें मेरे नितंबों के नीचे एक तकिया लगा दिया, अब नितंब ऊँचे भी हो गए और उनके मध्य की खाई अधिक मात्र में खुल गई,

तुम लेट जाओ..मैं तुम्हारे लिंग को ठीक निशानें पर फंसा दूंगा, तुम जोर का धक्का मारना, और हाँ…पहली बार में थोडा दर्द होता है तुम घबरा मत जाना…उसके बाद खूब मजा आता है, मेरे पति ने मेरे भाई को समझाया,

मेरा भाई मेरे पीछे लेट गया, उसने मेरी बगलों में हाँथ डाल कर मेरे पुष्ट स्तनों को पकड़ लिया, मेरे पति नें उसके लिंग पर तेल लगाया और मेरी टांग को ऊँचा करके उसके लिंग को मेरी गुदा पर रख दिया, मैनें भी अपने एक हाँथ से लिंग मुंड को गुदा के तंग द्वार में फंसानें में उन दोनों की मदद की और बोली….मारो जोर का शाट मैं तैयार हूँ….

इतना कहते ही मैनें दांत भींच लिए क्योंकि गुदा में मुझे भी थोड़ी पीड़ा होनी थी, उतनी नहीं होनी थी जीतनी पहली दफा में होती है, मेरे पति तो मेरी गुदा में अक्सर ही लिंग प्रवेश किया करते थे इसलिए मुझे आदत पड़ चुकी थी, उसी दम मुझे पीड़ा हुई और मेरे कंठ से कराह निकल गई,

मेरे भाई नें जोर का धक्का मारा था, उसका लिंग मुंड मेरी गुदा को फैलता हुवा उसमें घुस गया था, मेरा भाई भी कराह उठा, वह जरा ज्यादा तड़प रहा था, उसके लिंग मुंड की सील टूट गई थी और हल्का हल्का सा रक्त श्राव भी हुवा था किन्तु मेरे पति द्वारा उसका साहस बढाये जाने पर उसने तड़पते तड़पते भी एक बार जरा पीछे हट कर एक और धक्का मारा, लिंग का आधा हिस्सा मेरी गुदा में समां गया,

ओफ…मुझे बहुत दर्द हो रहा है….मैं और आगे नहीं कर सकता, उफ…लगता है मेरा लिंग पिस जायेगा, दीदी के कुल्हे तो चाकी के पाट जैसे हैं, यह कहते हुवे मेरे भाई नें अपना लिंग मेरी गुदा से निकाल लिया तो मैं अपने पति से बोली-

गुदा मैं तुम दाल दो और जल्दी करो, मेरे भीतर की आग अब भड़क उठी है, इसको मैं योनी का आनंद देती हूँ, आ जाओ तुम इधर मेरे आगे, मैनें अपने भाई का हाँथ पकड़ कर कहा और उसे अपने आगे लिटा लिया, मैनें उसका लिंग अपने हाँथ में ले लिया और उसे सहलाते हुवे अपनी योनी में फंसा कर कहा-अब धक्का मारो, इसमें दर्द नहीं होगा, मैनें ऐसा कहा तो उसने डरते डरते हल्का सा धक्का मारा लिंग मुंड आसानी से योनी में प्रविष्ट हो गया, वह आस्वस्त हो गया तो और धक्के मारने लगा, मैं आनन्दित होने लगी और उसके नितंबों को तो कभी उसके सिर को सहलाने लगी, वह मेरे होंठों को चूमने लगा तो मैनें उसके मुंह में अपने स्तन का निप्पल डाल कर कहा इसे चुसो…वह निप्पल चूसते हुवे योनी में लिंग का घर्षण करने लगा, उसके मुंह से भी कामुक ध्वनियाँ फूटने लगी थी तो मेरी भी गर्म साँसें तीब्र होती जा रही थी,

तभी मेरे पति नें अपना लिंग निकाल कर मेरी गुदा में प्रवेश करा दिया, वे आहिस्ता आहिस्ता उसे आगे बढानें लगे,

और मैं तो काम सुख का वह चरम पा रही थी की जिसकी मिसाल नहीं दी जा सकती, मेरा युवा शरीर दो लिंगों के घर्षण से ऐसा आंदोलित हो उठा की क्या कहूँ, ऐसा काम सुख मुझे पहले कभी नहीं मिला था, गुदा और योनी में आग सी लगती जा रही थी, मैं चरमोत्कर्ष पर पहुंची तो मेरा भाई भी स्खलित हो गया, मैनें उसका लिंग अपने मुंह में ले लिया और उसे अजीब किस्म का दुलार देने लगी, वह भावावेश में मेरे शरीर से लिपट गया,, मेरे पति मेरी गुदा में स्खलित होकार मुझे बांहों में भर लिया था,

इस तरह उस रात हम तीनों ने खूब शारीरिक सुख भोग,

मेरा भाई पांच दिन के लिए आया था, मेरे पति को दो दिन के बाद फिर टुर पर जाना पड़ा था,
हम तीनों अब काफी बोल्ड हो गए थे, घर के अन्दर किसी भी तरह के कपडे पहनना या न पहनना या यूँ कहिये कपडे का तो कोई मह्त्व ही नहीं गया था,

मेरे पति जब दो दिन के बाद घर से विदा होने लगे तो उन्होंने मुस्कुरा कर कहा- डार्लिंग अब तुम तो हमारे बिना प्यासी नहीं रहोगी लेकिन हम प्यासे मर जायेंगे,

रास्ते में तलाश कर लेना कोई…..मैनें अपनी बाईं आँख दबाते huway हंस कर कहा,

चलो इस बार यह भी ट्राई करते हैं यह कह कर उन्होंने मेरे ब्रा में कैद स्तनों पर दो चुंबन और एक चुंबन मेरे अधरों पर रख कर मेरे भाई को गुड लक् कह कर विदा ली,

जब वे गए थे तब सुबह के नौ बजे थे, मैं नहाई भी नहीं थी और न ही मेरा भाई नहाया था, क्योंकि सुबह जल्दी उठ कर ही हम लोगों को मेरे पति के सफ़र के लिये आवश्यक पेकिंग व रास्ते के लिये कुछ खाना बनाना पड़ा था,

भई मैं तो नहाने जा रही हूँ तुम्हें नहाना है तो साथ ही चलो…..मैनें दरवाजे को लाक करके अपने भई से कहा था,

ठीक है मैं भी चल रहा हूँ…वह बोला और मेरे साथ ही बाथरूम की तरफ चल पड़ा,

हम दोनों बाथरूम में पहुँच गए, बाथरूम का द्वार खुले रहने से या बंद रहने से कोई फर्क नहीं पड़ना था अतः मैनें द्वार की ओर ध्यान दिए बिना ही शावर के नीचे खडे होकार शावर खोल दिया,
मैनें ब्रा और पेटीकोट पहना हुवा था,

जरा हूक खोलना ब्रा का.. मैनें अपने सीर पर हांथों से पानी फेरते हुवे कहा,

उसने मेरे पीछे खडे होकार ब्रा का हूक खोल दिया और ब्रा को मेरे शरीर से निकाल दिया, मेरे गुलाबी सुपुष्ट स्तन नग्न हो गए, वह मेरे पीछे सट कर अपनें हांथों को बगलों से निकाल कर मेरे स्तनों पर नाभि पर और गले आदि पर साबुन लगाने लगा, मैनें अपनी आँखें बंद कर रखी थी, मैं उसके स्पर्श का आनन्द ले रही थी,

उसने आहिस्ते से मेरी पेटीकोट को भी खोल कर नीचे सरका दिया था, वह अब नीचे बैठ कर मेरी जाँघों और नितंबों पर भी साबुन मलने लगा,
मैं सुलगने लगी थी, कैसी प्यास होती है यौवन की जो कभी बुझती ही नहीं, मैं उत्तेजना में कामुक सिसकारियां छोड़ने लगी थी,

[/color:19vzt6t8][/size:19vzt6t8]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *