हस्य रोमांच– नागमणी

[size=150:1v6sq4ec]

[color=#BF0000:1v6sq4ec]हस्य रोमांच–
नागमणी[/color:1v6sq4ec]
[color=#8000BF:1v6sq4ec]
सुबह के छै बजे जब जेल का घंटा बजा तो सारे कैदी अपने – अपने बैरको से बाहर निकल कर लाइन आकर खडे होने लगने शुरू हो गये । कैदियो की गिनती के समय जब मकलसिंह दिखाई में नहीं दिया तो जेल पहरी रामदीन को बडी चिंता होने लगी । उसने मकलसिंह को आवाज लगाई लेकिन अपने बिस्तर में सोया मकलसिंह जब बार – बार उसे पुकारे जाने पर भी जब नहीं आया तो पहरी गिनती अधुरी छोड कर मकलसिंह के बैरक में जा पहुंचा । उसने वहां पर देखा कि अपने बिस्तर में गहरी नींद में सोया हुआ था । जेल पहरी रामदीन ने मकलसिंह को जब हिलाया – डुलाया तब भी वह नहीं उठा तो वह घबराहट के मारे सीधे बैरक नम्बर 16 से जेलर साहब के बंगले पर जा पहुंचा । पसीने से लथपथ रामदीन ने जेलर शैतान सिंह के दरवाजे की कुण्डी को दो – तीन खटखटाया तो नींद से अलसाये जेलर शैतान सिंह ने सुबह – सुबह पहरी रामदीन के अचानक आने का कारण पुछा । जेल पहरी ने जब पूरी घटना जेलर शैतान सिंह को सुनाई तो उनके पांव के नीचे की जमीन खसक गई । क्योकि जिस मकलसिंह से वे अपने कमरे में रात के दो बजे तक उसकी कहानी को सुन रहे थे वह अचानक मर कैसे गया । वे अपनी नाइट ड्रेस में ही जेल के अंदर 16 नम्बर के बैरक में जा पहुंचे । जेलर शैतान सिंह के आते ही जेल में होने वाली कानफुसी बंद हो गई और लोगो को जैसे सांप सुंघ गया । इस बीच जेल कैम्पस से डाक्टर जौहर साहब भी अपने पूरे साजो – सामान के साथ आ चुके थे । हाथो की नब्ज टटोलने के बाद डाक्टर जौहरी ने मकलसिंह की मौत की खबर सुनाकर सभी को स्तब्ध कर दिया था।
पिछले चौदह सालो से जिला जेल में हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे मकलसिंह के अच्छे चाल – चलन की वजह से इस बार सरकार ने उसे आजादी की वर्षगांठ पर रिहा करने का कल ही फरमान सुनाया था । जेलर साहब स्वंय उसके बैरक में आकर उसकी बाकी की सजा की माफी की जानकारी उसे दे चुके थे। अपनी सजा की माफी की जानकारी मिलने के बाद से ही जब मकलंिसंह उदास रहने लगा तो उसके संगी -साथियो को बडा ही आश्चर्य हुआ । किसी तरह यह बात उडते – उडते जेलर शैतान सिंह के कानो तक पहुंची तो वे एक बार स्वंय शाम के ढलने से पहले मकल सिंह से मिलने गये थे ताकि वे उसके नाते – रिश्तेदारो की सही – सही जानकारी प्राप्त कर उन्हे मकलसिंह की रिहाई की जानकारी दे सके । पिछले चार महिने पहले ही शैतान सिंह रीवा से टंªासफर होकर बदनुर जेल आये थे। अभी जेलर साहब का परिवार नहीं आ पाया था। जेलर साहब की बिटिया कविता रीवा के इंजीनिरिंग कालेज में फायनल इयर में थी इसलिए वे अपने परिवाार को नहीं ला सके थे। बार – बार अपने नाते – रिश्तेदारो के नाम – पते पुछने के बाद भी जब मकलसिंह कुछ बताने को तैयार नहीं हुआ तो जेलर साहब को बडा ही अटपटा सा लगा । अपनी सजा माफी के बाद से हर समय हसंता – खिलखिलाता बुढा हो चुका मकलसिंह को इस तरह उदास देखकर जेलर शैतान सिंह को काफी हैरानी हुई । मकलसिंह से मिलने के बाद जेलर शैतान सिंह अपने जेल रिकार्ड में पडे उन पुराने रिकाडो के पन्नो से मकलसिंह के उस अपराध की तह में जाने का प्रयास किया जिसकी वह पिछले चौदह सालो से जेल में सजा काट रहा था । जेल रिकार्ड में मकलसिंह के गुनाहो की तह में जाने के बाद जेलर शैतान सिंह को पता चला कि मकलसिंह ने अपनी उस जान से प्यारी पत्नी और साले को ही मार डाला था। दो जघन्य हत्याओं के आरोपी मकलसिंह को चौदह साल पहले आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। अपनी पत्नी और साले की हत्या के कारणो के पीछे की सच्चाई को जानने के लिए एक बार फिर जेलर शैतान सिंह ने देर रात को मकलसिंह को अपने कमरे में बुलावा भेजा । मकलसिंह आया तो जरूर पर वह कुछ भी बताने को तैयार नहीं था। काफी कुदरने के बाद मकलसिंह ने जो हत्या की कहानी बताई उसको सुनने के बाद जेलर शैतान सिंह को यकीन नहीं हो रहा था। मकलसिंह की बताई कहानी सही भी है या काल्पनिक ।
महाराष्ट्र एवं मध्यप्रदेश की सीमा से लगे आदिवासी बाहुल्य बदनूर जिला मुख्यालय की जिला जेल में आजीवन कारावास की सजा काटने वाला मकलसिंह दरअसल में नागपुर – भोपाल रेल एवं सडक मार्ग पर स्थित ढोढरा मोहर रेल्वे स्टेशन से बीस – बाइस कोस दूर पंक्षी – टोकरा नामक गांव का रहने वाला था। पंक्षी और टोकरा दो टोलो की मिली – जुली बस्ती में रहने वाले अधिकांश परिवारो में आदिवासी लोगो की संख्या सबसे अधिक थी। सौ सवा सौ घरो के इस वनग्राम पंक्षी – टोकरा में गरीब आदीवासी मकलसिंह की आजीविका जंगलो से निकलने वाली वनो उपज पर आश्रीत थी। वह दिन भर जंगलो से जडी – बुटी एकत्र करता रहता था। उसे जंगली – जुडी बुटियो का अच्छा – खासा ज्ञान था। उसके पास से लाइलाज बीमारियों के उपयोग मे आने वाली जडी – बुटियो को औन – पौने दामो में खरीदने के लिए महिने में एक दो बार हरदा और हरसुद के वैद्य – हकीम आया करते थे । महिने में सौ – सवा सौ रूपये कमा लेने वाले मकलसिंह के पास अपने पुरखो की सवा एकड जमीन थी। जिसमें महुआ के पड लगे थे। बंजर पडी जमीन में किसी तरह अपने हाड – मास को तोड कर बरसाती फसल निकाल पाता था। वैसे तो मकलसिंह का टोकरा टोले का रहने वाला था । इस बिरली आदिवासी बस्ती के एक छोर पर स्थित मिटट्ी का बना पुश्तैनी मकान में मकलसिंह अपने परिवार के साथ रहता था। उसके परिवार में उसकी पत्नी सुगरती के अलावा उसकी बुढी मां भी थी। मकलसिंह के मकान के पिछवाडे में उसका छोटा सा पुश्तैनी बाडा । उस बाडे में बरसात के समय मक्का और ज्वार लगा लेने से वह अपने परिवार के लिए साल भर की रोटी का बंदोबस्त तो कर लेता था लेकिन कई बार तो फसल के धोखा देने पर उसे यहां – वहां मजदूरी करने के लिए भी जाना पडता था । मकल सिंह के बाडे में कई साल पुराना पीपल का पेड था। इस पेड के नीचे उसके पुश्तैनी कुल देवो की गादी बनाई हुई थी । कई पीढी से मकलसिंह और उसके पुरखे उस गादी की पूजा करते चले आ रहे थे।
साठ साल की आयु पार कर चुके मकलसिंह निःसंतान था । अपने माता – पिता की एक मात्र संतान के घर में जब किलकारी नहीं गुंजी तो उसकी मां ने उससे बहुंत कहा कि वह दुसरी शादी कर ले लेकिन अपनी घरवाली सुगरती से बेहद प्यार करने वाले मकलसिंह ने किसी एक भी बात नहीं मानी । यहां तक की उसकी पत्नी सुगरती तक ने उससे कई बार कहा कि वह उसकी छोटी साली कमलती को ही घरवाली बना ले लेेकिन वह नहीं माना। एक रोज जब अपने बिस्तर से बाहर जाने को उठी सुगरती ने अपने बाडे में किसी ऊजाले को देखा तो वह दंग रह गई। वह सरपट वापस दौडी आई और उसने अपने पति को सोते से जगा कर उसे वह बात बताई तो मकलसिंह के होश उड गये। अब मकलसिंह को पुरा यकीन हो गया था कि उसकी मां रमोला ने जो उसे अपने बाडे में नागमणी वाले नाग की जो बाते बताया करती थी दर असल में कहानी न होकर हकीगत थी । लोगो का ऐसा मानना था कि जिस नाग की आयु सौ पार कर जाती है उसके शरीर में एक ऐसा मणी आकार रूप ले लेता है जिसका प्रकाश में वह बुढा नाग काली अमावस्य स्हाय रात में विचरण कर सकता है । मकलसिंह ने जब अपने बाडे में नागमणी के ऊंजाले को देखा तो वह समझ चुका था कि उसके बाडे में ही नागमणी वाला नाग कहीं रह रहा है । मकलसिंह ने हर महिने को आने वाली काली अमावस्या के अंधकार में स्हाय अंधेरी रात को अपने बाडे में दिखने नागमणी के प्रकाश वाली आंखो देखी घटना पर चुप्पी साध ली तथा उसने अपनी पत्नी सुगरती को भी यह कह कर चुप करा दिया कि यदि वह किसी को यह बात बता देगी तो उसके घर परिवार में अनर्थ हो जायेगा।
पुरे दिन भर बैचन रहा मकलसिंह किसी भी तरह से उस नागमणी को पाना चाहता था लेकिन उसे मिलेगा कैसे……! शाम होने के पहले मकलसिंह ने अपने घर की घास – फंूस काटने वाली दरातियों की धार को और भी अधिक तेज करने के बाद तोता वाले पिंजरे के चारो ओर उसे इस तरह बांध दिया कि यदि नाग उस पर हमला करे तो वह कट जाये । मकलसिंह ने पिंजरे के नीचे का भाग खुला रखा था ताकि वह पेड के ऊपर से यदि पिंजरे को फेके तो वह मणी के चारो ओर घेरा बना डाले । ऐसा सब करने के बाद वह बिना किसी को कुछ बताये रात के होते ही अपने बाडे के उसी पीपल के पेड पर चढकर बैठ गया। इधर सुगरती ने मकलसिंह को काफी खोजने की कोशिसे की लेकिन थकी – हारी सुगरती निराश होकर घर आकर सो गई । जब सुगरती मकलसिंह को खोजने के लिए अपनी बस्ती की ओर निकली तो उसकी रमोला ने उसे कहा भी कि वह मकलसिंह की चिंता न करे वह कहीं पीकर पडा होगा , जब सुबह होगी तो वह खुद ब खुद घर आ जायेगा लेकिन सुगरती का दिल नहीं माना। इधर पीपल के पेड पर बैठे मकलसिंह को नींद सताने लगी थी। उसके नींद की झपकी बस आने वाली थी कि उसे पेड के नीचे उसी ऊंजाले ने चौका दिया। मकलसिंह को लगा कि अपने बिल से निकलने के बाद नागमणी वाले नाग ने अपने शरीर से मणी को निकाल कर रख दिया है और वे उसके प्रकाश में विचरण करने लगा । अपने मणी से कुछ दुरी पर नाग के पहुंचते ही मकलसिंह ने दरातियों की तेजधार से बंधे उस पिंजरे को ठीक उस स्थान पर ऊपर नीचें की ओर गिरा दिया , जहां से प्रकाश आ रहा था। अचानक अंधकार होता देख गुस्से से तमतमाये उस नागमणी वाले नाग ने उस पिंजरे पर अपनी फन से जैसे ही वार किया उसकी फन कट कर दूर जा गिरी । सब कुछ देखने के बाद जब मकलसिंह को इस बात का पूरा यकीन हो गया कि नाग मर चुका है तो वह धीरे – धीरे पेड से नीचे उतर कर पिंजरे के पास आया और उसने उस मणी को अपने पास रख कर वह चुपचाप पिंजरे को लेकर चला गया । सुबह होते ही मकलसिंह ने उस नाग को जमीन में गडडा खोद कर उसे दबा दिया।
इस घटना को बीते कई साल हो जाने के बाद एक दिन मकलसिंह ने अपनी पत्नी सुगरती को वह मणी वाली घटना बता दी । सुगरती को भरोसा दिलाने के लिए कमलसिंह ने एक रात उसे वह मणी भी दिखा दिया। मकलसिंह ने सुगरती को बार – बार चेताया था कि वह यह बात किसी को न बताये लेकिन नारी के स्वभाव के बारे में क्या कहा जाये कुछ कम है। सुगरती ने नागमणी वाली बात अपने छोटे भाई मकालू को बता दी । एक दिन अपने बहनोई के घर आ धमके मकालू ने कमलसिंह को उस मणी को दिखाने की जिद कर दी तो मकलसिंह भौचक्का रह गया। अब मकलसिंह को मणी की और स्वंय की चिंता सताने लगी। उसे लगा कि कहीं उसकी पत्नी नागमणी के चक्कर में कही उसके भाई के साथ मिल कर उसे मार न डाले इस डर से डरा – सहमा मकलसिंह ने पूरे दिन किसी से बातचीत नहीं । उस रात शराब के नशे मे धुत मकलसिंह ने अपनी कुल्हाडी से अपनी पत्नी और साले मकालू की जान ले ली । मकलसिंह को जब होश आया तब तक सब कुछ अनर्थ हो चुका था। गांव में दो हत्या होने की भनक मिलते ही पुलिस भी आ चुकी थी। मकलसिंह ने अपने अपराध को तो स्वीकार कर लिया पर उसने वह नागमणी वाली बात किसी को नहीं बताई । मकलसिंह के जेल जाते ही उसकी बुढी मां उस सदमे को बर्दास्त नहीं कर सकी और वह भी मर गई ।
अपनी रिहाई की खबर सुनाने आये जेलर शैतान सिंह को जब मकलसिंह अपनी आपबीती व्यथा सुना रहा था तो शैतानसिंह जैसे कुख्यात जालिम जेलर की भी आंखे पथरा गई। मकलसिंह कहने लगा कि साहब जिस मणी के चक्कर मंे उसने अपनी जान से प्यारी पत्नि को ही अपना सबसे बडा दुश्मन समझ कर मार डाला तब वह जेल से रिहा होने के बाद बाहर जाकर क्या करेगा । जेलर के बार – बार पुछने के बाद भी मकलसिंह ने उसे वह मणी के कहां छुपा कर रखने की बात नहीं बताई। आज जब मकलसिंह मर चुका था तब बार – बार जेलर शैतानसिंह को उसकी मौत पर और नागमणी के होने पर विश्वास नहीं हो रहा था । जेलर शैतान सिंह ने स्वंय आगे रह कर मकलसिंह का पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसकी लाश को लेकर उसके गांव गया जहां पर गांव के अधिकांश लोग मकलसिंह और सुगरती को भूल चुके थे। एक खण्डहर हो चुके मिटट्ी के मकान के पीछे पुराने पीपल के पेड के पास जेलर शैतान सिंह ने गांव वालो की मदद से एक गडडा खुदवा कर वहीं मकलसिंह को दफन कर दिया। आज भी उसी पेड के नीचे काली अमावस्या की रात को गांव के लोगो को ऐसा लगता है कि कोई व्यक्ति अपने हाथो में ऊंजाले लिए उस बाडे में घुमता रहता है । जिस – जिस भी व्यक्ति को इस नागमणी के होने की खबर मिलती वही व्यक्ति उस काली अमावस्या की रात को उसे पाने के लिए मकलसिंह के बाडे में मौजूद पीपल के पेड की डाली पर पूरी रात बैठा रहता है ताकि वह उस मणी को पा सके । गांव के लोगो के लोगो की बातो पर यकीन करे तो पता चलता है कि हर अमावस्या की काली रात किसी ने किसी नागमणी को पाने वाले इंसान की बलि ले लेती है। ऐसा पिछले कई दशको से चला आ रहा है। गांव के लोगो को आज भी काली अमावस्या की रात को होने वाले हादसे की आहट स्तब्ध कर देती है ।

इति,
नोट:- इस कहानी का किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से कोई लेना – देना नहीं है।[/color:1v6sq4ec][/size:1v6sq4ec]

Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply