अकबर और बीरबल के चूत कुले

Share

[size=150:1e3k93o4][color=#BF0000:1e3k93o4] अकबर और बीरबल के चूत कुले[/color:1e3k93o4]
[color=#8000BF:1e3k93o4]
अकबर के दरबार मे नोँ रत्न थे जिसमे राजा बीरबल ही एसा था जो न सिर्फ
अकबर को प्यारा था वरन अकबर की रानीयोँ के भी मुंहलगा था।रानीयां अक्सर
बीरबल को चुहलबाजी हेतु जनानखाने मे बुला लेती थी इस बात कौ लेकर अकबर के
अन्य रत्न विशेषकर मुल्ला दौ प्याजा ओर हकीम हुमाम बहुत जलते थे और बीरबल
के खिलाफ अक्सर साजीशन महाराजा अकबर को भड़काते थे किन्तु बीरबल अपनी
हाजिरजबाबी से उनके मंसूबे नाकाम कर देता था॥

एक बार अकबर के दरबार मे एक गूंगी बुढीया ने अपनी फरीयाद ईशारोँ मे राजा
को बताई, अकबर ने बुढिया के ईशारो को समझकर उसकी समस्या का उचित समाधान
कर दीया।सभी दरबारियौ ने इस बात के लिए राजा की भूरि-भुरि प्रशंशा की,
अचानक मुल्ला दौ प्याजा के दीमाग मे एक साजिश आई उसने अकबर से कहा की
जहांपनाह बीरबल अपने कौ ईशारेबाजी मे बहुत उस्ताद समझता है आप उसकी
परीक्षा ले! अकबर ने ताव मे आकर तूरन्त बीरबल को बुलवा कर हुकम सुनाया कि
अगले दरबार मे मैँ तुमसे दो सवाल ईशारौँ मेँ पूछुंगा और उसका जबाब ईशारे
मे आना चाहिएं जबाब गलत होने पर तूम्हारी गर्दन काट दी जाएगी!!!

अब बीरबल घर आया तो वह बहुत परेशान था,बीबी और बेटी के पूछने पर उसने
महाराज के हुकम के बारे मे बताया, बीरबल ने कहा की जुबान से तो मैँ किसी
भी प्रश्न का जबाब दे सकता हूं लेकीन बेजुबान/ईशारे की भाषा का मुझे कोई
ज्ञान नहीँ है। बीरबल को उसकी बेटी ने समझाया कि अगला दरबार 7 दिन बाद
होगा तब तक आप कहीँ दूर एकान्त मे घूम फिर आँए शायद ईस समस्या का कोई
समाधान आपको सूझ जाए।अगले दिन बीरबल घूमने निकल पड़ा 3 दिन भटकने के बाद
वो एक गांव मे पहुचा तो उसने देखा कि एक गडरीया लगभग चार सौ भेडोँ को
ईशारोँ मे हांक रहा था,बस बीरबल को उपाय सूझ गया उसने गडरिये को 100सौने
की अशर्फियां जो कि उसकी भेड़ोँ कि कीमत के बराबर थी देकर अपने साथ दरबार
मे चलने के लिए राजी कर लिया और गडरीये को समझाया की बादशाह के दौ सवालो
का जबाब इशारो मे देना है!!

अब वो दिन आ हि गया जब बादशाह अकबर का दरबार सभी नवरत्नो और दरबारीयौँ से
खचाखच भरा था। मुल्ला दौ प्याजा और हकीम हुमाम बहुत खुश थे कयौँकी उनको
यकीन था की आज बीरबल की गर्दन कटकर ही रहेगी,जबकि मान सिंह,टोडरमल आदि
बीरबल के प्रति चिँतित थे।दरबार मे सनसनी सी फैली थी,लोग खुसुर-पुसुर कर
रहे थे की तभी हरकारे की आवाज गूंज उठी——बा-अदबऽऽबा-मुलाइजा
हौशियारऽऽऽजिल्ले-शुभानी,शहंशाह ए हिन्दूस्तान,(मौहम्
मद-जलालुद्दीन-अकबर)ऽऽ दरबार मे ऽऽ जलवा अफरोज हो रहे हैँ ऽऽऽऽऽ शहंशाह
शान से सिँहासन की ओर बढने लगे सभी दरबारी उठ-उठकर बादशाह को सलाम बजाने
लगे, सिर्फ संगीत सम्राट तानसेन ने ही बादशाह को बांये हाथ से सलाम
बजाया!!!

पूरे दरबार मे जानलेवा सन्नाटा पसरा हुआ था मानो काटो तो खून नहिँ,
शहंशाह ने बीरबल से कहा क्या तुम परीक्षा के लिए तैयार हो?—–बीरबल ने
कहा जहांपनाह मैँ इम्तिहान के लिए तैयार हूं लेकिन गुस्ताखी माफ हो!आपके
सवाल का जबाब तो एक मामुली गडरिया भी दे सकता है!!!! यह सुनकर शहंशाह ने
गूस्से से तमतमाकर कहा-कहां है वो गडरिया? उसे पैश किया जाए यदी वो सही
उत्तर ना दे पाया तो बीरबल तुम्हे नौकरी से बर्खास्त कर दिया जाएगा!! यह
सुनकर मुल्ला दो प्याजा और हकीम हुमाम मन ही मन कुढ़ गये कि ये भौसड़ीवाला
बीरबल अपने बचने के रास्ते कहां-कहां से ढूढ निकालता है!!!

अब भरे दरबार मे गडरिया और अकबर आमने-सामने थे जबकी बीरबल सोच रह था की
आज उसकी नौकरी तो निश्चित चली गयी है पर शुक्र ये है कि उसकी जान बच गयी
है—————————-
–शहंशाह अकबर ने अपने पहले सवाल के रूप
मे हवा मे एक अंगुली उठाकर गडरिये को ईशारा
किया?——————————गडरिये ने तुरन्त बादशाह को सलाम
बजाकर हवा मे दो अंगुली उठाकर जबाब दीया!!!—————दरबार मे किसी
की समझ मे कुछ नहीँ आया!—————बादशाह अकबर ने तुरन्त खड़े होकर
घोषणा की,कि इस गडरिये को पच्चास हजार सोने की अशर्फियां ईनाम मे दी जाती
हैँ!!!

50000 सौने की अशर्फियां!!! यह सुनकर दरबारी कानाफूसी करने लगे! जबकी
मुल्ला दो प्याजा ने खड़े होकर कहा-हुंजूर ये क्या हो रहा है?आप बीरबल की
चाल मे आकर इस दो कौड़ी के गडरिये को इतना पैसा दे रहे हो जो की हमारी तौ
पांच महीने की पगार के बराबर है!!!—————— अब शंहशाह अकबर के
गुस्से का ठीकाना न था! उन्होने हुकम सुनाया की महामंत्री कानाफूसी करने
वाले सभी दरबारीयौँ की 15 दिन कि तन्खवाह काट दी जाए और मुल्ला दो प्याजा
की दो माह की तन्खवाह काट ली जाए! ये लोग बिना मेरे हुकुम के दरबार मे इस
तरह गुस्ताखी कर रहे हैँ!! अब सभी दरबारी डरकर शांत होकर बै
गये————————–शहंशाह अकबर ने दूसरे सवाल के रूप मे अपनी
एक अंगुली को हवा मे गोल-गोल घुमाकर (काल्पनिक वृत/गोला)बनाकर गडरिए की
और ईशारा कीया!——————————अब गडरिये ने जो कारनामा
किया वो इससे पहले मुगल इतिहास मेँ कभी नहिँ हुआ था! गडरिये ने भरे दरबार
मे बादशाह की और लंगोट खोलकर अपना फनफनाता लंड लहरा दीया!!!यह देखकर सभी
दरबारी गुस्से मे खड़े हो गये जबकी मुल्ला दो प्याजा और हकीम हुमाम ने
अपनी तलवार म्यान से बाहर निकाल ली!————अब तौ बादशाह अकबर का
गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया उनके गुस्से को देखकर सभी लोग डरकर
चुपचाप अपने-अपने आसनो पर बैठ गये![/color:1e3k93o4][/size:1e3k93o4]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply