Hot stori घर का बिजनिस compleet

Share

[size=150:a2c42emn][color=#800080:a2c42emn] घर का बिजनिस –1

मेरे घर में हम 7 लोग रहते हैं और घर में 4 रूम और एक बैठक के अलावा एक हाल-रूम है जहाँ हम लोग खाना खाते और टीवी देखते हैं। एक रूम अम्मी और बापू का है, एक बापू की बहन (यानी फूफी) का है जो तलाक-शुदा हैं। एक मेरी बहनों का रूम है और एक मेरा रूम है जहाँ अगर कोई गेस्ट आ जाये तो मुझे वहाँ से बुआ (मतलब फूफी) के रूम में या फिर बहनों के रूम में शिफ्ट करना पड़ता है।

अब चलते हैं कहानी की तरफ:

सबसे पहले मैं आप लोगों से अपना और घर वालों का परिचय करवा दूँ। बाकी जो लोग बाहर के हैं वक़्त के साथ ही उनका भी परिचय करवा दिया करूंगा।

बापू- अमित शाह; उम्र 45 साल; किराना की दुकान है जहाँ से बड़ी मुश्किल से घर का खर्चा निकल पाता है।

अम्मी- ऊषा शाह; उम्र 42 साल; एकदम फिट और सेक्सी फीगर की मालिक; घर का सारा काम अम्मी और बुआ ही संभालती हैं।

बुआ- नीलम शाह; पापा की छोटी बहन; उम्र 31 साल; तलाकशुदा; काफी फिट और सेक्सी हैं।

दीदी- अंजली शाह; उम्र 21 साल; रंग गोरा; स्लिम & स्मार्ट जिश्म की मालिक; गाण्ड थोड़ी सी पीछे को निकली हुई, जो कि दीदी को और भी सेक्सी बना देती है।

मैं- आलोक शाह; उम्र 19 साल; कसरती जिश्म का मालिक; एफ॰ए॰ से आगे नहीं पढ़ा और अब दिन में बापू के साथ दुकान को देखता हूँ। और जबकी ये कहानी है तब तक बस एक बार ही फुद्दी ली थी लेकिन एक आंटी की।

पायल- उम्र करीब 18 साल; सेक्सी जिश्म की मालिक है और हर वक़्त हँसती मुश्कुराती रहती है।

स्वीटी- उम्र करीब 18 साल; चढ़ती जवानी; घर भर की लड़ली है क्योंकि सबसे छोटी है।\

तो दोस्तों ये था मेरा और घर वालों का परिचय। अब चलते हैं कहानी की तरफ। ये कहानी और उम्र जो मैंने लिखी है आज से 3 साल पहले की है।

जब से मैंने बापू के साथ दुकान पे जाना शुरू किया था, तब से बापू ने दुकान पे बैठना कम कर दिया था और ज्यादा वक़्त घर में ही गुजारा करते थे।

जब से मैंने दुकान पे बैठना शुरू किया था, दुकान तो पहले की तरह ही चलती थी लेकिन पता नहीं कैसे घर का खर्चा अब खुले हाथ से पूरा होना शुरू हो गया था। मैं इसकी वजह ये ही समझा था कि शायद बापू ने अब दुकान के अलावा कहीं और भी काम ढूँढ़ लिया होगा, जिसकी वजह से मैंने कभी गौर नहीं किया।

एक दिन मैं अपनी दुकान पे ही बैठा हुआ था कि एक ग्राहक आया और मुझसे कुछ सामान माँगा। जब मैं सामान देने के लिए उठा तो देखा कि सामान खतम हो चुका है। क्योंकि ग्राहक भी हमारी ही दुकान से सामान लेता था, इसलिए मैंने उससे कहा कि आप घर जाओ, अभी सामान आता है तो मैं आपके घर भिजवा दूँगा। उसके जाने के बाद मैंने दुकान का जायजा लिया तो काफी सामान खतम हो चुका था। इसलिए मैंने बापू को काल किया तो बापू का नंबर स्विच-आफ आ रहा था।

मैंने कुछ देर सोचा और दुकान को थोड़ी देर के लिए बंद कर दिया और घर की तरफ चल पड़ा कि बापू को जाकर बता देता हूँ कि सामान खतम हो गया है जो कि मंगवाना है।
जब मैं अपनी गली में पहुँचा तो वहाँ टेंट लगे हुये थे, क्योंकि वहाँ शादी हो रही थी। इसलिए मैं दूसरी गली की तरफ मुड़ गया जो कि हमारे घर के पीछे थी। उस गली में सब घरों का पिछवाड़ा था और लोगों ने बैठकें बनाई हुई थी जिसकी वजह से वहाँ अक्सर कोई भी नहीं होता था। मैं भी इसीलिए इस तरफ आ गया था कि चलो बैठक की तरफ से घर में चला जाता हूँ। जैसे ही मैं घर की बैठक के पास गया और दरवाजे को खटखटाया तो एक आदमी ने जो कि सिर्फ़ निक्कर में ही था, दरवाजा खोला तो मैं हैरान रह गया कि ये कौन है? जो हमारे घर में इस तरह खड़ा हुआ है।

उस आदमी ने कहा- कौन हो भाई? और यहाँ क्यों आ गये हो?

मैंने कहा- ये तो आप बताओ कि आप कौन हो? और हमारे घर में क्या कर रहे हो? और इतना बोलते ही मैं अंदर दाखिल हो गया और अंदर दाखिल होते ही जो नजारा मेरी आँखों ने देखा मुझे उस पे यकीन नहीं हुआ। बैठक में बुआ बेड पे नंगी लेटी हुई थी और दरवाजे की तरफ ही देख रही थी। जैसे ही बुआ की नजर मेरे ऊपर पड़ी, बुआ घबराकर उठी और बगल से चादर उठाकर अपने ऊपर कर ली।

मुझे कुछ देर तक तो समझ में ही नहीं आया कि ये हो क्या रहा है? और मुझे करना क्या चाहिए?

तभी वो आदमी जो कि बैठक में बुआ के साथ ही था बोल पड़ा- हाँ भाई कौन है तू? और यहाँ क्यों आ मरा है?

इससे पहले कि मैं कुछ बोलता बुआ ने हल्की सी आवाज में कहा- आलोक, तुम घर में जाओ और अपनी अम्मी के पास बैठो। मैं अभी कुछ देर आती हूँ।

मैंने कहा- लेकिन बुआ, ये सब क्या है? और मैं क्यों जाऊँ यहाँ से? और ये कौन है? बताओ मुझे।

बुआ ने कहा- आलोक, अभी तुम अपनी अम्मी के पास जाओ। वो तुम्हें सब कुछ बता देंगी और अगर फिर भी मुझसे कुछ पूछना हुआ तो पूछ लेना।

मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था। लेकिन मैं ये भी नहीं चाहता था कि यहाँ कोई शोर शराबा हो और लोग जमा हो जायें क्योंकि इसमें हमारे घर की ही बदनामी थी। मैं वहाँ से सीधा घर की तरफ का दरवाजा खोलकर जैसे ही घर में दाखिल हुआ कि अम्मी ने, जो कि सामने हाल में ही बैठी हुई थीं, मुझे देख लिया और एकदम से घबरा गई और बैठक की तरफ देखने लगी।

मैंने कहा- अम्मी, ये बैठक में क्या हो रहा है? और बापू कहाँ हैं?

अम्मी ने मुझे अपने पास बुलाया और कहा- तुम्हारे बापू अभी आ जाते हैं। यहाँ बैठो और बताओ कि तुम इतने गुस्से में क्यों हो?

मैंने अम्मी की तरफ देखा और कहा- क्यों अम्मी? आपको नहीं पता कि यहां बैठक में बुआ कौन से गुल खिला रही हैं?

अम्मी ने कहा- देखो आलोक, अभी तुम्हारे बापू आ जायेंगे और वो ही इस मसले पे तुम्हारे साथ बात करेंगे। प्लीज़्ज़… अभी आराम से बैठो और शोर नहीं करो।

मैंने कहा- ठीक है अम्मी, मैं आपकी बात मानकर चुप कर जाता हूँ और बापू के आने तक कुछ नहीं बोलूंगा लेकिन आप अभी उस आदमी को बाहर निकालो।

इससे पहले कि अम्मी कुछ बोलती बापू घर आ गये और मुझे अम्मी के पास बैठा देखकर समझ गये कि मुझे सब पता चल चुका है।

मैंने बापू को देखते ही कहा- बापू, यहाँ इस घर में क्या हो रहा है? आपको पता भी है कुछ?

बापू- हाँ… पता है मुझे। तुम आओ मेरे साथ रूम में वहाँ बैठकर बात करते हैं।

मैं बापू की बात सुनकर चौंक गया और हैरानी से बापू की तरफ देखने लगा और बोला- क्या आपको पता है? और फिर भी?

बापू- “आलोक चलो आ जाओ रूम में चलते हैं और वहाँ बैठकर बात करेंगे…” और रूम की तरफ चल पड़े।

मैंने भी चुपचाप बापू के पीछे उनके रूम की तरफ चल पड़ा। उस वक़्त मेरे दिमाग में आँधियां चल रही थीं और मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं?
बापू ने मुझे अपने सामने ही बेड पे बैठने को कहा और मेरे बैठते ही कहा- हाँ, अब बोलो क्या बात है? तुम इतना गुस्सा क्यों दिखा रहे हो?

मैं- बापू, आपको नहीं पता है क्या कि बुआ बैठक में क्या कर रही है?

बापू- पता है कि इस वक़्त वो वहाँ चुदवा रही है। लेकिन तुम इसमें इतना गुस्सा क्यों कर रहे हो?

बापू की बात सुनकर मैं दंग रह गया और कुछ देर के बाद बोला- क्या बापू, आपको सब पता है और आप फिर भी इस तरह आराम से बैठे हो।

बापू- तो क्या करूं? चलो तुम ही बता दो?

मैं- बापू, आपको बुआ को मना करना चाहिए। आप इस घर में बड़े हो और अगर आप ही कंट्रोल नहीं करोगे तो इस घर का क्या होगा?

बापू- देखो आलोक, तुम अब दुकान चलते हो और पैसे कमाकर घर लाते हो तो क्या मैं तुम्हें मारूं या मना करूं कि नहीं तुम्हें दुकान नहीं चलानी चाहिए?

मैं- लेकिन बापू, इस बात में मेरी और दुकान की बात कहाँ से आ गई?

बापू- आलोक, जिस तरह तुम दुकान से पैसे कमाकर घर लाते हो उसी तरह तुम्हारी बुआ लोगों से चुदवाकर पैसे कमाती है और घर चलाती है।

मैं हैरानी से बापू की तरफ देखने लगा और कुछ नहीं बोल सका।

तो बापू ने कहा- “देखो आलोक, बस आम खाओ ये नहीं देखो कि वो आ कहाँ से रहे हैं…”

मैंने कहा- नहीं बापू, ये मुझसे नहीं होगा और आपने कभी सोचा है कि लोग क्या कहेंगे और हमारे रिश्तेदार, हमारे बारे में क्या सोचेंगे?

बापू ने गुस्से से कहा- हम लोग इतने सालों से गुरबत और तंगी में ज़िंदगी गुजार रहे हैं तब तो ये लोग और रिश्तेदार कुछ नहीं बोले अब इनको क्या तकलीफ है?

मैं बापू की बात सुनकर वहाँ से उठा और सीधा अपने रूम में आ गया और दरवाजे को बंद करके लेट गया। क्योंकि अब मेरा दिल नहीं चाह रहा था कि मैं दुकान पे जाऊँ।

कुछ देर के बाद मेरे रूम के दरवाजे पे खटखट हुई तो मैंने पूछा- कौन है?

तो अम्मी ने कहा- “बेटा मैं हूँ, चलो आ जाओ और खाना खा लो…”

मैंने कहा- “मुझे भूख नहीं है आप जाओ यहाँ से और मुझे कोई भी तंग नहीं करे प्लीज़्ज़…”

उसके बाद शाम तक बाहर क्या होता रहा मुझे नहीं पता। क्योंकि ना तो मैं बाहर निकला और ना ही कोई मेरे रूम में आया और इसी तरह रात के 10:00 बज गये और मुझे किसी ने रात का खाना भी नहीं पूछा और मेरे पेट में भूख की वजह से हल्का दर्द भी हो रहा था। कोई 10:10 पे मेरे मोबाइल पे एस॰एम॰एस॰ आया। मैंने देखा तो बुआ का था। बुआ ने लिखा था- “आलोक, प्लीज़्ज़ मैं खाना ला रही हूँ दरवाजा खोल देना…”

पहले तो मुझे बड़ा गुस्सा आया लेकिन फिर ये सोचकर कि मुझे बुआ से बात तो करनी ही चाहिए। उठा और दरवाजे को खोल दिया और फिर से लेट गया। अभी दरवाजा खोले कुछ ही देर हुई थी कि मेरे रूम का दरवाजा आराम से खुला और बुआ मेरे रूम में खाना लेकर आ गई और खाने के साथ आज दूध भी था। बुआ ने खाना लाकर बेड पे मेरे पास ही रख दिया और सर झुका के खड़ी हो गई।

तो मैंने कहा- “बुआ खाना ले जाओ मुझे नहीं खाना है…”

बुआ- “आलोक, प्लीज़्ज़ खाना खा लो। पता है मैंने भी तब से कुछ नहीं खाया है…”

मैं- क्यों आपने क्यों नहीं खाया? क्या आपके ग्राहक ने खाना नहीं मँगवाया था क्या?

बुआ- “देखो आलोक, प्लीज़्ज़ मुझे जो भी बोलना है बोल लो लेकिन खाना खा लो…”

मैं- ठीक है, मैं खाना खा लूँगा लेकिन पहले आपको बताना होगा कि ये सब कब से चल रहा है और क्यों?

बुआ- आलोक, जब छुपाने के लिए कुछ बचा ही नहीं तो अब मैं सब बता दूँगी। लेकिन पहले खाना खा लो मुझे भी भूख लगी हुई है।

मैं उठकर बैठ गया और बुआ को भी बैठने के लिए बोला और कहा- चलो आ जाओ खाना मिलकर खा लेते हैं। फिर हमने खाना खाया और बुआ बर्तन किचेन में रखने के लिए चली गई और दूध साइड टेबल पे रख गईं। बुआ बर्तन रखकर वापिस आई और दरवाजा को अंदर से लाक कर दिया और मेरे पास आकर बेड पे बैठ गई और मेरी तरफ देखते हुये बोली- हाँ, अब पूछो जो पूछना है?

मैंने कहा- बुआ, आपको जरा भी शरम नहीं आई कि लोग क्या कहेंगे और ये काम जो आप कर रही हैं इसमें कितनी बदनामी है?

बुआ- “देखो आलोक, 4 साल हो गये हैं मुझे तलाक हुये और अभी मैं 31 साल की हूँ। मुझे भी अपनी ज़िंदगी जीने का हक है और ज़िंदगी गुजरने के लिए पैसा भी चाहिए होता है जो कि एक तलाक-शुदा और गरीब औरत को कौन देता है? इसी वजह से मैंने ये काम किया और अब इस काम से अपना और इस घर का खर्चा भी निकालती हूँ…”

मैं- लेकिन बुआ, बापू और अम्मी कैसे आपका साथ देने के लिए तैयार हो गये?
***** *****
[/color:a2c42emn][/size:a2c42emn]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *