खाला के घर में compleet

Share

[color=#000080:14oo1h6u][size=150:14oo1h6u] Raj-Sharma-stories

खाला के घर में

हाई फ्रेंड्स आप की सेक्सी ग़ज़ल आहमेद ऐक बार फिर आप लोगो की खिदमत मे हाज़िर है. अब मैं आती हूँ कहानी की तरफ और ये कहानी भी मैं वही से शुरू करूँगी जहाँ मैं ने अपनी दोसरि कहानी ख़तम करी थी, जब मैं अब्बू के साथ असग़र साहिब के घर से अपने घर मे शिफ्ट हो गई तो मेरे दिन बोहत बोर गुज़रने लगे, क्यूँ मैं पिछले कुछ मंत्स सेलगातार चुदवा रही थी और मुझे यहा किसी से भी अभी तक बेड रीलेशन बनाने का मोका नही मिल पाया था. किसी मर्द के बगैर मैं अपने आप को बोहत अधूरी महसूस कर रही थी, मुझे अभी तक किसी का साथ नही मिल पाया था इसी लिए मैं बोहत बोरियत महसूस करने लगी थी, फिर ऐसा हुआ के मेरी खाला के घर से शादी का इन्विटेशन आगेया, आफ्टर वन वीक मेरी कज़िन नरेन की शादी थी. मेरी खाला फ़ैसलाबाद मे रहती हैं. खाला के 2 ही बच्चे हैं बड़ी बेटी नरेन 22 साल की और छोटा बेटा कामरन जिसकी उमर 15 साल थी और सब उसे कमी कहते थे. पहले तो अब्बू शादी मे जाने को तय्यार नही हुए के अभी अभी मैं ने यहा जाय्न किया है अगर छुट्टियाँ ली तो कोई प्रॉब्लम्स हो सकती है, मगर फिर मेरे इसरार पर अब्बू मुझे इस शर्त पर ले जाने के लिए तय्यार होगये के वो जल्द ही वापिस आजान्गे. दोसरे दिन मैं और अब्बू फ़ैसलाबाद के लिए निकल पड़े. अभी शादी मे ऐक हफ़्ता था. मेरे आने से नरेन और कामी बोहत खुश हुए. खाला भी बोहत खुश थी मेरे आने पर. खलू को मैं ने नोट किया के वो बोहत कम बोलते हैं और वो बोहत गुस्से वाली तबीयत के हैं पर वो मुझे घूरते रहते हैं. खलू की खामोश और गुस्से वाली तबीयत की वजा से कभी मेरे दिल मे ये बात नही आई के खलू मेरे बारे मे बुरा सोच सकते हैं. हालंके मेरी जिन्सी भूक खलू का सेहतमंद जिस्म देख कर चमक उठी थी मगर खलू की तबीयत की वजा से मैं खुद भी खलू से दूर रही. फिर नरेन और कामी भी खलू से डरते थे. घर मे शादी की तैयारी चल रही थी. अब्बू सारा दिन खलू के साथ होते थे. खाला ने नरेन को कमरे तक सीमित कर दिया था ताकि उसका रूप रंग निखर जाय और मैं शादी की तैयारियो मे खाला का हाथ बटा रही थी. रात मे मैं कमी के कमरे मे सोती थी. 5 दिन तक तो मैं ने अपनी जिन्सी भूक को बर्दाश्त किया मगर फिर मुझ से रहा नही गया. खलू का घर डबल स्टोरी था नीचे 3 कमरे थे जिस मे ऐक ड्रॉयिंग रूम ऐक खाला खलू का बेडरूम ऐक टीवी लौन्च जब के उपर के हिस्से मे भी 3 कमरे थे जिस मे ऐक कमरा नरेन का ऐक कामी का और ऐक कमरा था जो इस वक़्त अब्बू के इस्तीमाल मे था. इस वक़्त रात का 1 बजा था मुझे नींद नही आराही थी और मुझे इस वक़्त ऐक लंड की शदीद ख्वाइश हो रही थी. मैं ने कामी की तरफ देखा तो वो बिल्कुल बे सुध सोरहा था, वैसे भी कामी अभी कम उमर था पर जब कुछ ना हो तो जो भी मिले काम चल ही जाता है, मुझे बेचेनी होने लगी तो मैं बेकरार होकर कमरे से निकल आई, सब से पहले मैं ने अब्बू के कमरे मे झाँका तो वो बे खबर सो रहे थे, फिर मैं ने नरेन के कमरे मे झाँका तो उस के कमरे मे भी अंधेरा था, मैं नीचे आगाई, मैं किचन मे घुस्स गई ताकि कोई ऐसी चीज़ तलाश करने लगी जिस को मैं अपनी चूत मे डाल सकू, फिर मुझे ऐक मोमबत्ती मिल गई जिस की लंबाई 7 इंच और मोटाई 2 इंच थी, मैं ने जल्दी से वो उठा ली. फिर जब मे वापिस उपर जाने लगी तो मुझे खाला और खलू के कमरे मे से हल्की हल्की रोशनी बाहर आती देखाई दी. रात के इस वक़्त कमरे मे रोशनी के होने का ये ही मतलब था के अंदर खाला और खलू जाग रहे हैं. मैं समझ गई के इस वक़्त कमरे मे क्या हो रहा होगा. मैं आहिस्ता से कमरे के नज़दीक गई तो मुझे खाला की सिसकारियाँ बाहर आती हुई महसूस हुई मैं मुस्करा दी और मैं ने की होल से आँख लगा दी. अंदर का मंज़र देख कर मेरे जिस्म मे चोंटियाँ सी रेंगने लगी. अंदर खाला और खलू बिल्कुल नंगे थे. खलू ने खाला को बेड पर लिटाया हुआ था और उन्हो ने खाला की टाँगे उठा कर अपने कंधो पर रखी हुई थी और खुद वो पूरा खाला के उपर झूके होवे थे और खूब ज़ोर ओ शोर से झटके मार रहे थे, खाला बिल्कुल गठरी सी बनी होई थी. मुझे सॉफ महसूस होरहा था के अब खाला का जिस्म ढल चुक्का है, जबके खलू बिल्कुल नोजवानो की तरहा सेहतमंद थे, खाला खलू के शानदार झटके बर्दाश्त नही कर पा रही थी और बुरी तरहा से मचल रही थी, फिर आख़िर कार जब खाला से बर्दाश्त नही होसका तो वो मन्नत भरे लहजे मे बोली, बस करो नरेन के अब्बा बस अब मुझ मे तुम्हारा लंड बर्दाश्त करने की हिम्मत नही है, मैं अब बूढी हो गई हूँ मेरे हाल पर रहम करो अब मुझ से और बर्दाश्त नही होगा. खलू ने ऐक करारा झटका मारा जिस से खाला की चीख निकल गई, खलू हंस कर बोले, बस बेगम साहिबा इतनी जल्दी हिम्मत हार गई अभी तो मैं ऐक बार भी फारिग नही हुआ. खाला बोली, अरे तुम तो जवानो के जवान हो मगर मेरा तो जिस्म ढाल गया है अब मुझे बखस दो तुम तो अपनी ज़रूरत रंडियों को चोद कर पूरी कर लेते हो बस अब मुझे माफ़ करदो मेरी बूढ़ी हड्डियाँ ये ज़ुलूम बर्दाश्त नही कर सकती. खलू बोले, मुझे रंडियों को चोद कर सकून नही मिलता, मेरे लंड की प्यास नही बुझती रंडियों को चोद कर. खाला मचल कर बोली तो मैं और क्या करू तुम्हारे लंड के लिए. खलू ने कहा, बेगम तुमने मेरे लिए किसी लड़की का इंतज़ाम करना है. खाला ने हैरत से कहा, मगर मैं किसी लड़की का इंतज़ाम कहाँ से करू? खलू ने कहा, बेगम तुम कर सकती हो. खाला फिर बोली, मैं कहा से करू तुम ही कोई लड़की बता दो. खलू कुछ देर खामोश रहे और फिर बोले, तुम्हारा गाज़ल के बारे मे किया ख़याल है, जब से वो आई है मेरे लंड की खुजली उसे देख कर बढ़ गई है. खलू की बात सुनकर खाला की आँखे फाट गई और वो बोली, क्या कह रहे हो नरेन के अब्बा गाज़ल नरेन से भी छोटी है और तुम उसके खलू हो कुछ शरम करो. खलू की बात सुनकर मुझे भी झटका लगा और मेरी चूत की खुजली कुछ और बाढ़ गई. खलू कहने लगे, मुझे पता है के गाज़ल मेरी भांजी है पर वो बोहत सेक्सी है तुमने कभी उसके जिस्म को गोर से देखा है कितने बड़े बड़े मम्मे है साली के और कितनी पतली सी कमर है मैं जब भी उसे देखता हूँ मेरा तो लंड ही खड़ा हो जाता है. खलू के मुँह से अपनी तारीफ सुनकर मैं मुस्कराने लगी. खाला तिनक कर बोली, आय हे तुम्हारा लंड तो गधि को देख कर भी खड़ा हो जाता है तुम हो ही इतने ताड़की. खलू हँसे और बोले, हा मैं ताड़की हूँ पर तुम कुछ करो वरना किसी दिन मुझ से बर्दाश्त नही होवा तो उसको सब के सामने ही चोदुन्गा. खाला ने कहा, केसी बेशर्मी की बाते कर रहे हो घर मे गाज़ल का बाप आहमेद अली भी है, तुम शादी तक सबर करो मैं शादी के बाद गाज़ल को रोक लूँगी फिर मैं किसी की मय्यत का बहाना बना कर 3, 4 दिन के लिए कामी को लेकर किसी रिश्ते दार के घर चली जाउ गी फिर घर मे तुम और गाज़ल ही होगे फिर तुम उसको चोद कर अपने लंड की खुजली मिटा लेना. खलू ने कहा, ये तो बाद की बात है पर मैं अभी केसे अपने लंड की खुजली मिताउ, मेरा लंड तो अभी ऐक बार भी फारिग नही हुवा और तुम ठंडी हो गई हो. खाला बोली, इसे मैं चूस चूस कर फारिग कर देती हूँ और तुम कुछ दिन सबर कर्लो. खाला की बात सुनकर खलू ने अपना लंड खाला की चूत मे से निकाला तो मैं खलू का लंड देख कर बेताब हो गई. खलू का लंड कोई 11 इंच लंबा और 3.5 इंच मोटा था. खलू खाला के सीने पर बैठ गये फिर उन्हो ने खाला के दोनो मम्मो के दरमियाँ अपना लंड रखा तो उनका लंड खाला के मुँह के उपर तक जाने लगा. खाला ने उनका लंड अपने मुँह मे ले लिया उसके बाद खलू ने अपने लंड पर खाला के दोनो मम्मो को दबाया और फिर वो तेज़ी से अपना लंड खाला के मम्मो को चोदते हुए उनके मुँह मे अंदर बाहर करने लगे. मेरे दिल चाह रहा था के खाला को हटा कर खुद खलू के नीचे लेट जाउ और बोलू “ली जिए खलू जान आप के लंड के लिए आप की भांजी की चूत हाज़िर है जितना चाहे इसे चोदे और अपनी प्यास भुजाए” पर मैं इस वक़्त अंदर नही जा सकती थी पर मैं ने सोच लिया था के मैं शादी से पहले खुद ही खलू को मोका ज़रूर डोंगी क्यूँ खलू से ज़ियादा मैं बेताब थी उनसे चुदवाने के लिए. मेरी चूत मे अब बोहत जलन होने लगी थी और मुझे ये जलन मिटानी थी इस लिए मैं वाहा से हट गई और कामी के कमरे मे वापिस आगाई. कामी अभी तक बेख़बर सो रहा था. मैं ने लाइट जला दी और अपने सारे कपड़े उतार कर नंगी हो गई, उसके बाद मैं बिस्तर पर लेट गई और फिर मैं ने मोमबत्ती अपनी चूत मे ऐक झटके से घुसा दी, मुझे तकलीफ़ तो बोहत हुई पर मैं ने फिकर नही करी और तेज़ी से मोमबत्ती को अपनी चूत मे अंदर बाहर करने लगी. मुझे मोमबत्ती से लंड जेसा मज़ा तो नही मिल रहा था मगर फिर भी मुझे काफ़ी लज़्ज़त मिल रही थी, लज़्ज़त के मारे मेरी आँखे बंद हो गई और मैं खलू के बारे मे सोचती हुई लज़्ज़त भरी सिसकारियाँ लेने लगी. काफ़ी देर तक मैं अपनी चूत मे मोमबत्ती चलाती रही फिर जब मैं फारिग हो गई तो मैं ने अपनी आँखे खोली फिर जब मे ने कमी की तरफ देखा तो मैं बे सुध हो गई क्यूँ के कमी जाग रहा था उसका नेकर उतरा हुआ था और वो अपने लंड को सहलाता हुआ मुझे देख रहा था.[/size:14oo1h6u][/color:14oo1h6u]

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *