हिन्दी में मस्त कहानियाँ

[color=#0000BF:1w9po40m][size=150:1w9po40m]हिन्दी में मस्त कहानियाँ

मेडम को कार चलाना सिखाया

यह बात तब की है जब मैं 12 क्लास में था . मैं इंग्लीश के सब्जेक्ट में थोड़ा वीक था. हमारी इंग्लीश मॅम का नाम स्नेहा था. वो एक साउत इंडियन थी. उनकी एज करीबन 40 साल थी. वो कुछ मोटी थी ख़ासकर उनके हिप्स काफ़ी मोटे थे. उनके ब्रेस्ट भी काफ़ी बड़े और भारी थे. वो एक टिपिकल इंडियन वोमेन लगती थी. 11 क्लास में मेरे इंग्लीश में बहुत कम मार्क्स थे इसीलिए मैने सोचा के 12 में आते ही इंग्लीश पर ज़्यादा ध्यान दिया जाए. 12 क्लास की सम्मर वाकेशन्स से एक दिन पहले मैने छुट्टी में स्नेहा मॅम को अप्रोच किया

गुड आफ्टरनून मॅम”

गुड आफ्टरनून सुमित”

मॅम, आइ नीड सम गाइडेन्स ”

या”

मॅम, एज यू नो , माइ स्कोर इन इंग्लीश हॅज़ नोट बीन वेरी गुड इंप्रेस्सिव इन 11थ”

यस , आइ नो दट ठाट ईज़ व्हाई आइ कीप टेल्लिंग यू टू वर्क हार्ड”

यस..मॅम आइ डू नोट वॉंट टू रिपीट दा सेम रिज़ल्ट इन माइ बोर्ड एग्ज़ॅम्स”

सो यू हॅव फाइनली अवेकन..अट्लस्ट”

यस मॅम…आइ नो दट आइ विल हॅव टू वर्क हार्ड.आंड आइ आम रेडी फॉर इट..बट मॅम आइ डू नो हाउ टू गो अबौट इट..आइ मीन माइ बेसिक्स आर नोट स्ट्रॉंग अट ऑल..सो मॅम इफ़ यू कॅन गाइड मी फ्रॉम वहेरे टू स्टार्ट”

डेफनेट्ली सुमित.आइ आम युवर टीचर आंड इट्स माइ ड्यूटी टू गाइड यू…यू डू वन थिंग यू टेक माइ फोन आंड अड्रेस आंड रिंग मी आफ्टर आ वीक”

ओके ..थ्न्क्स मॅम”

फिर मैने मॅम का फोन नंबर और अड्रेस ले लिया.

एक हफ्ते बाढ़ मैने मॅम को फोन किया

हेलो, क्या स्नेहा मॅम से बात कर सकता हूँ?”

बोल रही हूँ”

मॅम, मैं सुमित बोल रहा हूँ..मॅम आपने कहा था की एक हफ्ते बाद फोन कर लेना”

हाँ याद है.फोन पर तो तुम्हारी प्राब्लम डाइक्यूस कर पाना मुश्किल है…तुम एक काम करो कल शाम 5 बजे मेरे घर आजओ..तभी तुम्हारी प्राब्लम डिसकस कर लेंगे…ठीक है”

ओके मॅम..बाइ”

बाइ”

फिर अगले-ही दिन मैं शाम 5 बजे मॅम के घर गया. मैने बेल बजाई और मॅम ने दरवाज़ा खोला

हेलो मॅम”

हेलो सुमित..आओ ..अंदर आओ..बैठो.अड्रेस ढूँदने में कोई दिक्कत तो नहीं हुई”

थोड़ी सी..क्योंकि मैं इस कॉलोनी में पहले कभी नहीं आया”

चलो..खैर.क्या लोगे .चाइ..कॉफी..कोल्डद्रिंक.”

नोथिन्ग मॅम.कुच्छ नहीं”

शरमाओ मत..तुम्हे कुच्छ ना कुच्छ तो लेना ही पड़ेगा”

ओके.कॉफफफी”

बस अभी लाती हूँ”

फिर मॅम कॉफी ले आई

ह्म.लो सुमित..कॉफी लो”

थॅंक्स”

बिस्कुट भी तो लो”

नहीं मॅम, इसकी ज़रूरत क्या”

सुमित तुम बहुत शाइ लड़के हो..खैर हमने क्या बात करनी थी”

मॅम आपको तो पता ही है कि मेरे इंग्लीश मे कैसे मार्क्स आते हैं”

ह्म..मेरे ख़याल से तुम्हारे 11थ क्लास में 50 से ज़्यादा मार्क्स नहीं आए”

यस मॅम….और हाइयेस्ट मार्क्स 95 तक आते हैं..मॅम मैं चाहता हूँ कि मेरे भी 90+ आए”

बिल्कुल आ सकते हैं.लेकिन उसके लिए तुम्हे काफ़ी हार्डवर्क करना पड़ेगा..क्या तुम करोगे”

यस मॅम, मैं हार्डवर्क करूँगा…पर मेरे बेसिक्स ही क्लियर नहीं हैं और मेरी ग्राममेर बहुत वीक है” [/size:1w9po40m][/color:1w9po40m]

Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply