दीदी को दर्द होने लगा

Share

दीदी को दर्द होने लगा

मेरा नाम मनप्रीत है, मैं पंजाब का रहने वाला हूँ.
यह कहानी मेरी जिंदगी की ऐसी सच्चाई है जिसके बारे में मेरे और मेरी बहन के अलावा कोई नहीं जानता। यह कहानी मेरी और मेरी बड़ी बहन की है, हमारे घर में 4 मेंबर हैं, मम्मी, पापा और हम दो भाई बहन हैं.
मेरी बहन गुरप्रीत की उम्र 28 साल है और मेरी 26 साल है। आज गुरप्रीत की शादी हुए 4 साल हो चुके हैं।
यह बात कुछ साल पहले की है जब हमारी जिंदगी मजे से कट रही थी।
हमारा घर में 2 कमरे और एक बड़ा सा हाल है, एक कमरे में मम्मी, पापा सोते थे और दूसरे रूम में हम दोनों अलग अलग बिस्तर पर सोते थे।
एक रात को अचानक मेरी आँख खुली और मैं पेशाब करने बाथरूम चला गया। आने के बाद मैंने दीदी के बिस्तर की तरफ देखा तो वो बिस्तर पर नहीं थी.
मैं बाहर देखने चला गया तो दीदी मम्मी-पापा के कमरे की खिड़की से अंदर देख रही थी.
मैंने पूछा तो उन्होंने मुझे चुप रहने का इशारा किया और मैं भी अंदर देखने लगा. देखा कि मम्मी पापा नंगे होकर आपस में सेक्स कर रहे थे.
उस टाइम मुझे सेक्स के बारे में कुछ भी पता नहीं था क्योंकि तब घरों में टीवी और दूसरे साधन बहुत कम थे जितने आज हैं। मुझे देखने में मजा आ रहा था.
और फिर मम्मी पापा के सोने के बाद हम अपने कमरे में आ गए तो मैंने दीदी से पूछा- मम्मी पापा क्या कर रहे थे?
दीदी ने बताया- वो आपस में सेक्स कर रहे थे!
तो मैंने पूछा- उससे क्या होता है?
दीदी बोली- इसे करने में बहुत मजा आता है.

फिर दीदी ने मुझे सोने को कहा तो मैं सोने लगा क्योंकि मैं दीदी से बहुत डरता था।
फिर मैं और दीदी रोज मम्मी पापा का सेक्स देखने लगे, ये हमारा रोज का काम हो गया।
इस तरह 2 साल बीत गए। अब मुझे सेक्स के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी हो गई थी पर प्रेक्टिकल नहीं किया था।
एक दिन मैंने दीदी से कहा- आपसे एक बात पूछूँ तो गुस्सा तो नहीं करेंगी?
दीदी ने कहा- तू मेरा एक ही तो भाई है जिसे मैं प्यार करती हूँ, बोलो क्या पूछना है?
तो मैंने पूछा- सेक्स करने से क्या होता है?
दीदी बोली- सेक्स करने में बहुत मजा आता है पर उससे बच्चे पैदा होते हैं.
मैंने पूछा- कैसे?
तो उन्होंने मुझे पूरी जानकारी दी।
फिर मैंने दीदी से कहा- क्या आप हमें सेक्स करना सिखायेंगी?
तो दीदी ने कहा- सिर्फ पति और पत्नी ही सेक्स कर सकते हैं, भाई बहन नहीं!
तो दीदी को थोड़ा इमोशनल ब्लैकमेल करते हुए कहा- लगता है आप मुझसे प्यार नहीं करती, तभी मना कर रही हैं सिखाने से?
तो दीदी ने कहा- ठीक है… पर एक शर्त पर मैं तुझे सेक्स करना सिखाऊंगी कि तू यह बात किसी को नहीं बताएगा?
मैंने कहा- ठीक है।
दीदी ने कहा- आज रात को मम्मी पापा के सोने के बाद मेरे बिस्तर पर आ जाना।
मैं रात होने का इंतजार करने लगा और खाना खाने के बाद पढ़ने बैठा तो मेरा पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगा, मैं दीदी की इंतजार करने लगा, वो मम्मी के साथ रसोई में काम कर रही थी।
फिर दीदी काम खत्म करके रूम में आई और अपने बिस्तर पर लेट गई.
मेरे सोने का इशारा करने पर उन्होंने कहा- मम्मी पापा के कमरे की लाइट बन्द होने तक रुक!
तो किताब में देखने लगा।
रात के लगभग 10 बजे मम्मी पापा के कमरे की लाइट बन्द हुई तो दीदी ने मुझे अपने साथ सोने का इशारा किया तो मैं जाकर उनके साथ लेट गया और मैंने दीदी के बूब्स दबाने शुरू कर दिए.
दीदी को मजा आने लगा, मैंने उनकी कुर्ती उतार दी और देखा दीदी ने काली ब्रा पहन रखी है जो उनके गोरे रंग पर बहुत अच्छी लग रही थी.
मैं उनके बूब्स ब्रा के ऊपर से दबाता रहा. फिर धीरे धीरे मैंने उनकी ब्रा भी उतार दी और उनके बूब्स चूसने लगा, फिर उन्होंने भी मेरी बनियान उतार दी। अब हम दोनों आधे नंगे हो चुके थे।
इस तरह ही कुछ देर तक एक दूसरे के अंगों से खेलते रहे, फिर मैंने उनकी सलवार का नाड़ा खींच दिया और सलवार उतार दी. अब दीदी सिर्फ पेंटी में मेरे सामने थी, वो भी मैंने उतार दी.
अब दीदी पूरी नंगी मेरे सामने खड़ी थी।
अब उन्होंने मुझे अपनी वेजिना को चाटने को कहा तो उनको बिस्तर पर लिटा के उनकी वेजिना चाटने लगा।
दीदी के मुंह से अजीब अजीब आवाजें आने लगी, उन्हें मजा आ रहा था। लगभग 5 मिनट के बाद वो झड़ गई और मैं उनका सारा रस पी गया।
फिर उन्होंने मेरा पायजामा उतार दिया और फिर मेरी अंडरवियर उतार दिया जिससे मेरा 6 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा लंड हवा में झूलने लगा। दीदी ने जैसे ही उसे हाथ लगाया, मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया।
दीदी ने उसको मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। लगभग 5 मिनट बाद में दीदी के मुंह में झड़ गया और दीदी ने चाट कर मेरा लंड साफ कर दिया।
तब दीदी ने पूछा- कैसा लगा ये करके?
तो मैंने कहा- इतना मजा मुझे जिंदगी में कभी भी नहीं आया।
दीदी ने कहा- अब सो जा क्योंकि तुझे सुबह स्कूल जाना है.
मैंने कहा- दीदी, क्या मैं आपके साथ सो सकता हूँ?
दीदी ने कहा- ठीक है.
और फिर दीदी बाथरूम चली गई और थोड़ी देर बाद कपड़े पहन कर आई तो मैंने देखा कि ब्रा और पेंटी उनके हाथ में ही थी.
मेरे पूछने पर उन्होंने बताया कि इससे रात को सोने में आसानी रहती है।
फिर मैं बाथरूम चला गया और थोड़ी देर में कपड़े पहन कर आया, दीदी के बगल में लेट गया और दीदी को लिपट कर सोने सोने लगा.
दीदी ने भी मुझे लिपट गई जिससे दीदी के बूब्स मेरे मुंह से लगने लगे और फिर हम सो गए।
सुबह दीदी ने मुझे उठाया तो मैंने उन्हें रात की घटना की वजह से मुस्करा के देखा तो दीदी ने ऐसा बर्ताव किया कि जैसे कुछ हुआ ही ना हो।
फिर मैं नहा धोकर स्कूल चला गया और शाम को घर आया तो दीदी ने सुबह जैसा बर्ताव किया जो मेरे समझ मैं नहीं आया।
मैंने रात को दीदी से इस बारे मैं पूछा तो उन्होंने कहा कि वो नहीं चाहती कि मम्मी पापा को इस बारे में शक भी हो.
हम पिछली रात की तरह फिर एक दूसरे को चूसने लगे और एक दूसरे के झड़ने के बाद सो गए।
अब यह हमारा रोज का काम हो गया था और इस तरह 2-3 महीने बीत गए।
फिर मैंने कहा- दीदी, आप मुझे बाकी का सेक्स कब सिखायेंगी जैसे पापा मां के साथ करते हैं?
तो दीदी ने कहा- गुरप्रीत, मैंने आज तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया, मैंने सोचा था कि पहला सेक्स अपने पति के साथ करुँगी.
मैंने कहा- दीदी, मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ, अगर आप कहें तो एक रास्ता है जिससे हम सेक्स भी कर लेंगे और आपके मन की बात भी पूरी हो जायेगी.
दीदी ने कहा- कैसे?
तो मैंने कहा- आप मेरे से शादी कर लो, फिर मैं आपका पति होऊँगा और मेरी पत्नी!
दीदी ने मुझे गले से लगा लिया.
फिर मैं जाकर सिंदूर ले आया और दीदी की मांग में भर दिया, दीदी मेरे पैर छूने लगी तो मैंने कहा- ये क्या है?
तो उन्होंने कहा- आज से आप मेरे सच्चे पति हिं और मैं आपकी पत्नी…
दीदी ने कहा- आज हमारी सुहागरात है, मैं इसको यादगार बनाना चाहती हूँ।
फिर हम एक दूसरे को चूमने लगे और मैं धीरे धीरे एक एक करके दीदी के कपड़े उतारने लगा और दीदी को पूरी नंगी कर दिया। और दीदी ने मुझे नंगा कर दिया।
हम एक दूसरे के अंगों से खेलने लगे और फिर दीदी ने मेरा लंड अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और मेरा सारा रस पी गई.
फिर मैंने चूत चाटना शुरू किया और दीदी के झड़ने के बाद उनका सारा रस पी गया।
फिर हम दोनों थोड़ी देर के लिए लेट गए और एक दूसरे को गर्म करने लगे।
थोड़ी देर में मेरा लंड फिर से तन गया और दीदी ने कहा- पहली बार सेक्स करने पर दर्द होता है लेकिन बाद में बहुत मजा आता है इसलिए मैं कितना भी चिल्लाऊँ, आप पूरा लंड अंदर कर देना! मैंने कहा- ठीक है.

फिर दीदी ने कहा- आप मेरे ऊपर आ जायें!
और दीदी ने अपने टाँगें हवा में उठा ली और अपनी गांड के नीचे तकिया लगा लिया जिससे उनकी चूत और उभर गई.
मैं चूत पर लंड टिका कर धक्का मारने लगा लेकिन वो बाहर फिसल गया तो दीदी को दर्द होने लगा दीदी को दर्द होने लगा और कहा- अब धक्का मारिये!
मैंने दबाब दिया तो सुपारा अंदर फंस गया उम्म्ह… अहह… हय… याह… और दीदी को दर्द होने लगा.
फिर मैं दीदी के होंठ चूसने लगा और एक जोरदार धक्का मारा, मेरा आधा लंड दीदी की चूत में चला गया और दीदी की आँखों में आंसू आ गए.
मैं दीदी की चूची चूसने लगा तो थोड़ा दर्द कम हुआ और मैंने फिर होंठ चूसते हुए एक और धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड दीदी की चूत में फंस गया और दीदी रोने लगी.
मैंने उनके बूब्स दबाने शुरू किये, फिर वो भी मेरा साथ देने लगी और मैं धीरे धीरे लंड अंदर बाहर करने लगा तो धीरे धीरे उनको भी मजा आने लगा और वो भी नीचे से चूतड़ उठा कर मेरा साथ देने लगी.
10 मिनट बाद मेरी स्पीड बढ़ने लगी, तब तक दीदी झड़ चुकी थी. मैं तेजी से धक्के मारने लगा और दीदी की चूत में झड़ गया और दीदी के ऊपर ही लेट गया।
थोड़ी देर बाद जब हम नार्मल हुए तो मैंने दीदी के माथे पे किस किया और साइड में लेट गया तो मेरी नज़र बिस्तर पर पड़ी, उस पर खून के धब्बे लगे हुए थे और मेरे लंड पर भी खून लगा हुआ था.
दीदी ने कहा- पहली बार में खून निकलता है.
दीदी बेड से उठकर बाथरूम की तरफ जब जाने लगी तो लड़खड़ाने लगी, मैंने उन्हें सहारा दिया और बाथरूम ले गया.
मेरी भी टांगों में दर्द हो रहा था.
मैंने उन्हें कमोड पर बिठाया और उनकी चूत साफ करने लगा.
उनकी चूत सूज गई थी, मैंने उस पर बोरोलीन लगाई और उन्हें वापस उठाकर बिस्तर पर लाया तो उन्होंने कहा- मुझे कपड़े पहनने हैं.
तो मैंने कहा- आज आप ऐसे ही सोयेंगी!
दीदी ने पूछा- नंगी?
मैंने कहा- हाँ… और मैं भी आपके साथ नंगा ही सोऊँगा।
दीदी ने कहा- ठीक है।
और हम बेड पर आ गये और एक दूसरे से लिपट कर सो गए।
सुबह दीदी ने मुझे उठाया तो मैंने देखा कि दीदी नहा चुकी थी और मुझे बोली- आप जल्दी उठ जाइए और मम्मी पापा के देखने से पहले कपड़े पहन लीजिये।
मैंने कपड़े पहने और फिर सो गया और दीदी घर का काम करने चली गई।
उस दिन के बाद से दीदी की शादी होने तक हम उस कमरे के अंदर एक पति पत्नी की तरह रहे।
दीदी ने कहा- चाहे मेरी शादी हो रही है लेकिन मेरे पति आप ही रहेंगे और मैं आपको ही अपना पति मानूंगी और मेरा पहला बच्चा भी आपका ही होगा।

Share
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *