बहन और मां के साथ सेक्स – हिंदी सेक्स कहानी

Share

हैल्लो दोस्तों, में फिर से आपके लिए एक नयी स्टोरी लेकर आया हूँ और मुझे आशा है कि आपको मेरी यह कहानी जरुर पसंद आएंगी। हमारे घर में मेरे पापा, मम्मी, एक बड़ी बहन और में हूँ। मेरे पापा काम के सिलसिले से विदेश में ही रहते थे और उन्होंने वहाँ पर दूसरी शादी कर ली थी, उनके दो बेटे थे। यह बात मुझे बाद में पता लगी। मेरे पापा हर महीनें खर्चा भेजते थे, उसके कारण हमें कोई परेशानी नहीं होती थी।

बहन और मां के साथ सेक्स – हिंदी सेक्स कहानी

मेरी बहन कॉलेज में पढ़ती थी और में स्कूल में 12वीं क्लास में था। हमारे घर में दो नौकर थे धीरज और नीरू, वो दोनों पति पत्नी थे, वो दोनों तेलंगाना के एक छोटे से गाँव से शहर में काम के लिए आए थे, तो माँ ने उन्हें घर के काम के साथ ही रहने की भी जगह दे दी। मेरी माँ मोटी थी इसलिए पापा ने दूसरी शादी कर ली थी। अब में सीधा कहानी की तरफ बढ़ता हूँ मेरी माँ मोटी होने कारण उसके बूब्स बहुत बड़े थे और उसकी गांड इतनी मोटी थी कि 6 या 7 इंच के लंड का पता भी ना चले। मेरी माँ को पापा के साथ सेक्स किए करीब 22 साल हो गये थे।

फिर एक दिन में जब में स्कूल से घर आया तो मेरी माँ के कमरे से आवाज़े आ रही थी तो मैंने पास जाकर देखा तो दरवाज़ा खुला था। फिर मैंने अंदर देखा तो मेरी माँ पूरी नंगी थी और एक आदमी नीचे लेटा हुआ था और माँ उसके ऊपर बैठकर ऊपर नीचे हो रही थी। अब माँ की पीठ मेरी तरफ थी।

फिर में वहाँ से बाहर चला गया और थोड़ी देर के बाद में वापस घर गया तो मैंने देखा कि दीदी भी घर आ चुकी थी और माँ के साथ टी.वी देख रही थी। तब मेरी दीदी की उम्र 20 साल थी, मेरी माँ हम दोनों को अभी भी अपना दूध पिलाती थी।

फिर माँ मेरी तरफ देखकर बोली कि सुदीप आ गया, चल दूध पी ले। फिर माँ, में और दीदी माँ के कमरे की तरफ चल पड़े। उस समय माँ ने नाइटी पहनी हुई थी और फिर उसने अपने कमरे में जाते ही अपनी नाइटी उतार दी और अब माँ सिर्फ पेंटी में लेट गयी थी।

अब एक तरफ से में और एक तरफ दीदी माँ के बूब्स को मसलने लगे थे और फिर माँ की निपल को अपने मुँह में लेकर चूसने लगे। फिर तभी में बोला कि माँ आज दूध बहुत कम आ रहा है। फिर तभी माँ बोली कि कभी-कभी दूध बिल्लियाँ पी जाती है और फिर दीदी और माँ हँसने लगी।

 बहन और मां के साथ सेक्स – हिंदी सेक्स कहानी

फिर में बोला कि दीदी तुम माँ का दूध क्यों पीती हो? तुम्हारे अपने दूध है। फिर दीदी बोली कि तुझे माँ के बूब्स में दूध कम लग रहा है, तो आजा तू मेरा पी ले। फिर माँ बोली कि हाँ-हाँ इसका पी ले, तो तभी में उठा और दीदी के पास गया, जब दीदी ने स्कर्ट और टी-शर्ट पहना हुआ था, तो मैंने दीदी की टी-शर्ट ऊपर की। फिर दीदी बोली कि इसे उतार दे, तो मैंने दीदी की टी-शर्ट उतार दी। दीदी ने नीचे ब्रा पहनी हुई थी, तो में बोला कि दीदी इसे भी उतार दूँ। फिर माँ बोली कि देखा मर्दो को उंगली पकड़ाओं तो वो हाथ पकड़ते है।

फिर दीदी ने अपनी एक साईड से ब्रा ऊपर की तो उसका गोरा सा बूब्स बाहर आ गया। फिर में दीदी के बूब्स को मसलने लगा, तो दीदी बोली कि यह क्या कर रहा है? तो में बोला कि माँ ने कहा था कि दूध पीने से पहले बूब्स को मसलना चाहिए, तभी दूध ज्यादा आता है।

फिर दीदी हँसने लगी और बोली कि अच्छा पी ले। फिर मैंने दीदी के बूब्स मसलने के बाद उसकी पिंक कलर की निपल को अपने मुँह लेकर चूसने लगा, लेकिन दूध नहीं आया। फिर में बोला कि दीदी तुम्हारे तो दूध नहीं आता। फिर माँ बोली कि बेटा दूध उनके आता है जो कभी माँ बन चुकी हो।

फिर में फिर से माँ का दूध पीने लगा और ऐसे ही 4 साल गुजर गये। अब में 18 साल का हो चुका था, मेरी माँ हमको अभी भी दूध पिलाती थी। फिर एक दिन में और दीदी माँ का दूध पी रहे थे, तो नीरू आ गयी और देखकर बोली कि वाह मालकिन आज भी आपके बूब्स में से दूध निकलता है, दोनों बड़े प्यार से पी रहे है।

फिर थोड़ी देर के बाद दीदी अपने कमरे में चली गयी और में माँ का दूध पीते हुए वहाँ पर ही सो गया। फिर थोड़ी देर के बाद मुझे माँ की और नीरू की बातें सुनाई दी। अब नीरू माँ से बोल रही थी कि अब तो सुदीप भी बड़ा हो गया है और बेबी भी जवान हो गयी है, सोचा है किससे उसकी सील तुड़वानी है? तो माँ बोली कि अभी नहीं अभी उसे उंगली से काम चलाने दो।

फिर नीरू बोली कि कल गाँव से लोग भी आ रहे है, तैयार हो जाए। फिर माँ बोली कि चल ठीक है बहुत दिनों से ग्रुप सेक्स भी नहीं किया है। फिर माँ बोली कि चल नीरू मेरी मालिश कर दे, तो नीरू माँ की मालिश करने लगी। अब वो माँ के बूब्स पर तेल लगाकर दबाने लगी थी और फिर थोड़ी देर के बाद नीरू ने माँ की पेंटी भी उतार दी और माँ की दोनों टांगो को चौड़ा करके चूत की मालिश करने लगी।

 बहन और मां के साथ सेक्स – हिंदी सेक्स कहानी

फिर नीरू बोली कि मालकिन आपकी चूत पर तो बाल है। फिर माँ बोली तू बाथरूम से क्रीम ले आया और बाल साफ कर दे। फिर नीरू उठी और बाथरूम से क्रीम ले आई और अपने भी कपड़े उतारने लगी। अब वो भी माँ की तरह बिल्कुल नंगी हो गयी थी। मैंने पहली बार किसी पूरी नंगी औरत को देखा था। नीरू के बूब्स दीदी से भी बड़े थे और अब वो माँ की चूत पर क्रीम लगाने लगी थी।

फिर माँ की चूत पर क्रीम लगाने के बाद नीरू बोली कि मेरी भी चूत पर क्रीम लगा दो मालकिन। फिर माँ उठी और नीरू लेट गयी। अब माँ भी नीरू की चूत पर क्रीम लगाने लगी थी। फिर वो दोनों नंगी ही बाथरूम में जाकर क्रीम साफ करने लगी। अब में दरवाजे से देख रहा था। फिर पहले नीरू ने माँ की चूत साफ की और फिर माँ ने नीरू की चूत साफ की। अब नीरू की चूत एकदम साफ हो गयी थी।

फिर वो दोनों नंगी ही नहाने लगी और फिर वो दोनों नहाकर नंगी ही बाहर आ गयी और एक दूसरे को चूमने लगी और बूब्स दबाने लगी। अब माँ लेट गयी थी और नीरू माँ की चूत चाटने लगी थी। फिर थोड़ी देर में वो दोनों 69 की पोजिशन में हो गयी। फिर करीब आधे घंटे के बाद वो दोनों अलग हुई और नीरू ऐसे ही नंगी अपने कमरे में चली गयी और माँ ऐसे ही नंगी पड़ी रही और सो गयी।

फिर थोड़ी देर के बाद में अपना एक हाथ माँ के बूब्स पर रखकर सहलाने लगा। अब माँ नींद में थी इसलिए उन्हें कुछ पता नहीं लगा। फिर मैंने अपना एक हाथ माँ की शेव की हुई चूत पर रखा तो ऐसा लगा जैसे किसी 12-13 साल की लड़की की चूत चिकनी होती है वैसे ही थी। फिर मैंने मेरी एक उंगली माँ की चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा और थोड़ी देर के बाद माँ की चूत को चाटने लगा। हिंदी सेक्स कहानी, mumy ki chudai, sister ki chudai

अब माँ के मुँह से आवाज़े आने लगी थी और बोली कि धीरज तू आया गया, मिटा दे अपनी मालकिन की चूत की आग। अब में समझ गया था कि वो आदमी धीरज था, जिससे माँ चुदवाती है और फिर में माँ की चूत को चूसता रहा। फिर माँ बोली कि धीरज बस कर अब डाल भी दे अपना लंड मेरी चूत में।

फिर में उठा और अपने कपड़े उतारने लगा। अब मेरा 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड एकदम सीधा खड़ा था। फिर मैंने अपना लंड माँ की चूत पर रखा और एक धक्का मारा तो मेरा लंड का सुपाड़ा माँ की चूत के अंदर चला गया, तो माँ चीख उठी।

अब में भी डर गया था तो मैंने माँ की चूत में से अपना लंड बाहर निकाला। फिर माँ मुझे देखकर हैरान हो गयी और मेरा लंड डर के मारे छोटा हो गया। फिर माँ बोली कि यह क्या कर रहा था? तो में कुछ नहीं बोला। फिर माँ की नजर मेरे 8 इंच के लंड पर पड़ी, जिसे देखकर माँ हैरान हो गयी और बोली कि तेरा इतना बड़ा कैसे हो गया? तो में बोला कि मुझे नहीं पता।

फिर माँ बोली कि इधर आ, तो में माँ के पास गया, तो माँ मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। फिर माँ बोली कि चल अब मुझे चोद, लेकिन पहले तेल लेकर आ। फिर में तेल लेकर आया और थोड़ा तेल माँ की चूत पर और अपने लंड पर लगाने लगा।

फिर थोड़ी देर के बाद मैंने अपना लंड माँ की चूत पर रखा और एक झटका मारा। फिर माँ चीखने लगी, तो मैंने अपने होंठो से माँ के होंठ चिपका लिए और एक जबरदस्त झटका मारा तो मेरा आधा लंड माँ की चूत में चला गया। फिर माँ तड़पने लगी, तो तभी मैंने अपनी पूरी ताकत से एक और झटका मारा तो मेरा पूरा लंड माँ की चूत में चला गया।

अब माँ की आँखों से आँसू आने लगे थे। फिर माँ बोली कि बेटा अभी हिलना मत बहुत दर्द हो रहा है। तो में बोला कि चुपकर रंडी साली नौकर का 6 इंच का लंड तो बड़े मज़े से अंदर लेती है और मेरे लंड से तुझे दर्द हो रहा है। फिर माँ बोली कि तेरा धीरज से मोटा है और बड़ा भी है।

फिर थोड़ी देर के बाद जब माँ का दर्द कुछ कम हुआ तो माँ नीचे से अपनी कमर हिलाने लगी। फिर में भी अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा। फिर माँ बोली कि स्पीड बढ़ा मादरचोद, तो में अपनी फुल स्पीड से माँ को चोदने लगा।

फिर तभी माँ का पानी निकल गया, लेकिन मेरा अभी नहीं निकला था तो में माँ को चोदता रहा और अलग- अलग स्टाइल में माँ को चोदता रहा। फिर में माँ के बूब्स को ज़ोर-जोर से मसलने लगा, अब माँ भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और अब पूरे कमरे में माँ और मेरी आवाज़े गूँज रही थी।

फिर करीब 1 घंटे की चुदाई के बाद मेरा भी पानी निकलने वाला था तो मैंने माँ से पूछा कि माँ मेरा पानी निकलने वाला है, कहाँ निकालूं? तो माँ बोली कि मेरे मुँह में छोड़ दे। फिर मैंने अपना लंड माँ की चूत से बाहर निकाला और उसके मुँह में दे दिया। फिर तभी कमरे में नीरू और दीदी भी आ गयी और हमें देखकर हँसने लगी। फिर तब माँ बोली कि आ जाओ तुम दोनों भी आज सुदीप का पहला पानी पी लो।

फिर तभी दीदी और नीरू भी मेरे लंड को अपने-अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और फिर उन तीनों ने मेरा पानी पी लिया। फिर तभी नीरू बोली कि सुदीप तेरा तो लंड बहुत मोटा और लंबा है और फिर नीरू ने जब मेरी माँ की चूत देखी, तो वो बोली कि हाए राम तूने तो पहली चुदाई में ही चूत का भोसड़ा बना दिया। फिर माँ बोली आज चुदाई में बहुत मज़ा आया ।।

हिंदी सेक्स कहानी, mumy ki chudai, sister ki chudai

Share
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *