ग़लत रिश्ता ( भाई बहन का )

Share

पर उस शैतान को वो शब्द तो जैसे सुनाई ही नही दे रहे थे…. और अंदर से ज़ोर लगा कर उस शैतान ने सोनू के सिर को दरवाजे की झिर्री की तरफ धकेल दिया…

सोनू ने अपनी आँखे बंद कर ली…
उसके होंठ काँप से रहे थे….
और अचानक उसे महसूस हुआ की उसके लंड ने अंगड़ाई लेनी शुरू कर दी है….
अभी तो उसने कुछ देखा भी नही ….
सिर्फ़ अपनी बहन को नंगा देखने की कल्पना मात्र से उसका लंड खड़ा हो चुका था…उसने अपना हाथ नीचे लेजाकर उसे अपनी पेंट के साइड में से घसीट कर सीधा किया….

उसके अंदर से एक आवाज़ आई : ‘आँखे खोल सोनू…आँखे खोल….’

सोनू (मन ही मन में) : ‘नही…..वो मेरी बहन है….ये ग़लत है…’

अंदर का शैतान गुर्राया : ‘क्या ग़लत है….कुछ भी ग़लत नही है…. अभी कुछ साल पहले तक तो तुम दोनो एक दूसरे के साथ एकसाथ नहाया करते थे…. बिना कपड़ों के घूमते रहते थे…. तब क्या वो तेरी बहन नही थी… वो ग़लत नही था क्या…. समय बदला है, तू और सोनिया तो पहले भी ऐसे थे और आज भी ऐसे ही है…. इसलिए कुछ ग़लत नही है…’

सोनू की जैसे अपने खुद के जमीर के साथ बहस चल रही थी….
पर असल बात ये थी की सवाल भी वो कर रहा था और जवाब भी वो खुद दे रहा था…

सोनू ने एक और बार कोशिश की : ‘पर….समाज की नज़रों में तो ये सब पाप माना जाता है….किसी को पता चल गया तो क्या होगा..’

अंदर से एक और मंझा हुआ सा जवाब आया : ‘समाज को कैसे पता चलेगा की इस वक़्त तू क्या कर रहा है… जब तक ये काम छुप कर किए जाए कुछ ग़लत नही है….एक बार देख तो ले की इतने सालो में उसकी बॉडी में क्या-2 बदलाव आए है…’

और आख़िरकार उस ‘शैतान’ की बातों में आकर उसने अपनी आँखे खोल ही दी..

और जो नज़ारा उन आँखो ने देखा, उसे देखकर तो सोनू का पूरा शरीर काँप उठा…बदन ठंडा सा पढ़ गया अंदर का गर्म नज़ारा देखकर…
अंदर सोनिया ड्रेसिंग टेबल के शीशे के आगे खड़ी होकर पोज़ मार रही थी..

वो पूरी नंगी थी…गीले बालों से निकल रहा पानी उसके बदन पर बूंदे बनकर फिसल रहा था..

उसकी नन्ही मुन्नी सी ब्रेस्ट देखकर सोनू के तो होंठ ही सूख गये…
अपनी जीभ से उन्हे तर करना चाहा पर जीभ भी लक्कड़ बन चुकी थी…
सामने का नज़ारा ही ऐसा था…

सोनू ने उपर से नीचे तक अपनी बहन के शरीर को नाप डाला….
बड़े ही क्यूट सी ब्रैस्ट थी उसकी और उतने ही क्यूट से चूतड़ थे उसके….
छोटे-2 और गोल मटोल…
पूरा शरीर एक दम गोरा चिट्टा ….
और छूट पर हल्के फुल्के रोँये थे बस…

सोनू को तो ऐसा लगा जैसे कमरे से निकल रही भीनी खुश्बू उसकी चूत से ही आ रही है…
वो अपनी बहन को हर एंगल से देखता रहा…और देखता भी क्यो नही, वो पोज़ ही ऐसे बना रही थी की उसके शरीर का हर हिस्सा ना चाहते हुए भी देख लिया उसने…
सोनिया के शरीर का पानी तो सूख ही चुका था…उसने गुनगुनाते हुए बेड पर पड़ी पेंटी उठाई और पहन ली…

वो एक सफेद रंग का बॉक्सर टाइप का उंडरवीयर था…जिसमें उसकी नन्ही गांड पूरी समा गयी….

उसने घूम-2 कर अपनी गांड पर कसी हुई पेंटी को शीशे में निहारा… और मुस्कुरा दी…. शायद अपनी फिटिंग देखकर उसे खुद ही मज़ा आ रहा था..
सोनू की नज़रें कभी उसकी कसी हुई गांड पर तो कभी उसके कसावदार मुम्मों पर जा रही थी…. ऐसा नज़ारा उसने आज तक नही देखा था… उसे इस तरह मस्ती में भरकर अपनी बहन को निहारते देखकर अंदर बैठा शैतान भी हंस दिया..

‘मैने कहा था ना… कुछ ग़लत नही है…. ऐसा रूप अगर ना देखा तो वो ग़लत होता है… ‘

अपने ‘शैतान’ की बात सुनकर उसने भी हाँ में हाँ मिला दी…
अब उसके अंदर की झिझक, शर्म और दुविधा दूर तक दिखाई नही दे रही थी…

पर एक प्राब्लम हो रही थी उसे….
उसका लंड फटने जैसी हालत में पहुँच चुका था… ऐसा लग रहा था जैसे उसमें से लावा फूटकर बाहर आ जाएगा…कुछ देर अगर वो और खड़ा रहा तो अपनी पेंट उसने गीली कर देनी थी..

खड़ा तो वो और भी देर तक होना चाहता था…पर उसके लंड के प्रेशर ने उसके कदम हिला दिए….और वो ना चाहते हुए भी नीचे बने बाथरूम की तरफ चल दिया….और वहाँ पहुँचकर उसने अफ़रा तफ़री में अपनी पेंट खोली, अंडरवीयर नीचे किया और अपने अकड़े हुए नागराज को पकड़कर जोरों से मसलने लगा…और जो प्रेशर उसके लंड में काफ़ी देर से बना हुआ था,वो किसी ज्वालामुखी की तरह फट गया…ढेर सारे पेशाब के बाद सफेद रंग का माल निकलकर ज़मीन पर गिरने लगा…हर बूँद के साथ उसके शरीर में मस्ती भरा एहसास दौड़ जाता…उसकी आँखे बंद थी…और बंद आँखो के पीछे उसने लाख कोशिश कर ली की सुबह स्कूल वाली किस्स याद करे इस वक़्त, पर उसकी सोच पर उसका कोई ज़ोर ही नही रह गया था… बार-2 उसकी आँखो के सामने उसकी बहन ही आ रही थी..और आख़िरकार उसके मुँह से निकल ही गया

”ओह…… सोनिया……….उम्म्म्मममम”

सब कुछ शांत होने के बाद उसे खुद पर शर्म आ रही थी…उसने जल्दी-2 अपने कपड़े ठीक किए और पानी डालकर अपने गुनाहों को सॉफ किया..

बाहर आया तो उसकी लाइफ का और भी बड़ा झटका उसका इंतजार कर रहा था..
सोनिया नीचे आ चुकी थी…और वो सिर्फ़ एक शर्ट में थी…

शर्ट में यानी, सिर्फ़ शर्ट में ….

नीचे कुछ नही पहना हुआ था उसने…

उसकी गोरी-2 टांगे हिप्स तक नंगी होकर अपनी छटा चारों तरफ बिखेर रही थी… इधर-उधर चलने से उसे उसके अंडरवीयर की झलक मिल रही थी जिसे पहन कर अभी कुछ देर पहले तक वो अपने कमरे में पोज़ बना रही थी…और उपर जो शर्ट पहनी हुई थी, उसके नीचे भी उसने कुछ नही पहना था…उसकी नन्ही ब्रेस्ट के उपर चमकते हुए निप्पल सॉफ देख पा रहा था वो…और वो बड़ी ही बेफिक्री से किचन के काउंटर पर खड़े होकर जूस पी रही थी..

हालाँकि अभी एक मिनट पहले ही सोनू ने अपनी बहन को पूरा नंगा देखा था…और उसी को याद करके वो अभी बाथरूम में मुठ्ठ मारकर निकला था… पर बाहर निकलने के बाद उसे इस सैक्सी अंदाज में देखकर उसके अभी-2 झड़े लंड में फिर से कसावट का एहसास होने लगा…

वो अपने लंड को अपने हाथ से दबा कर फुसफुसाया : “ये लड़की तो मरवाएगी मुझे…”

वो ऐसा कर ही रहा था की सोनिया की नज़र उसपर पड़ी….और वो जूस पीते-2 रुक गयी…. उसने तो सोचा भी नही था की सोनू घर आ चुका है…उसे शायद डुप्लीकेट चाबी वाली बात नही पता थी..इसलिए शायद इतनी बेफिक्री से और ऐसे कपड़ों में आराम से पूरे घर में डोलती फ़िर रही थी..

पर एक पल के लिए आए उसके चेहरे के एक्शप्रेशन अगले ही पल गायब भी हो गये और उसने मुस्कुराते हुए सोनू से कहा : “अरे भाई….तू कब आया…. पता ही नही चला….”

वो तो ऐसे बात कर रही थी जैसे उसे कुछ फ़र्क ही नही पड़ रहा था… पर उसे क्या पता था की उसे ऐसी हालत में देखकर सोनू पर क्या बीत रही है….या शायद पता था !

Share
Article By :

Leave a Reply