ग़लत रिश्ता ( भाई बहन का )

Share

सोनिया : “ओये हेल्लो ….कितनी देर से बोल रही हूँ …. क्या बात हो गयी….तू तो साक्षी के साथ डेट पर गया था ना…. क्या हुआ…. झगड़ा हुआ क्या… इतनी जल्दी क्यों वापिस आ गया….”

सोनू : “अर्रे….दी, ऐसा कुछ नही हुआ… हम तो जा ही रहे थे की उसकी मॉम का फोन आ गया… और वो घर चली गयी..”

सोनिया : “तो वो घर कुछ बोलकर नही जा रही थी क्या..?”

सोनू : “नही…मैं तो तुम्हे बोल सकता हूँ , पर वो अपनी मॉम से इतनी फ्रेंक नही हुई अभी…समझी…”

सोनिया : “वो तो समझ गयी….और साथ में ये भी की तुम्हारा क्या हाल हो रहा होगा इस वक़्त…”

सोनू : “मेरा !!! मतलब ? “

सोनिया : “अरे भाई, जिसकी गर्लफ्रेंड के साथ डेट हो और वो एंड टाइम पर कैंसिल हो जाए तो सारे अरमानो पर तो पानी फिर ही जाता है ना….. अब तो खुद ही करना पड़ेगा…”

उसका इशारा मास्टरबेशन की तरफ था….

ये पहली बार था जब उसकी बहन ने इतनी बेशर्मी से ऐसी गंदी बात अपने भाई से की थी..

सोनू :” वेरी फन्नी…. मेरी हालत पर इतना ही तरस आ रहा है तो… तो…”

वो कहते-2 बीच में ही रुक गया…..

हे भगवान, वो भी भावनाओ में बहकर क्या बोलने जा रहा था…

अपनी बहन को वो बोलने वाला था की वो कर दे उसका मास्टरबेशन …

या जो भी था…

जो वो समझ रही थी…

सोनिया : “तो….तो क्या….?? बोलो…. ”

वो दबी हँसी से ये बात बोल रही थी…
जैसे वो सुनना चाहती हो अपना नाम उसके मुँह से.

पर सोनू ने बात घुमा दी…
और बोला : “तो अपनी किसी फ्रेंड को बोलो मेरी हेल्प करने को….”

सोनिया : “जब तेरी जी एफ तेरी हेल्प नही कर रही तो मेरी फ्रेंड से क्यों करवाना चाहता है…. और वैसे भी, मेरी सारी बदमाश फ्रेंड्स तो मंसूरी में है, यहाँ ऐसी कोई नही है…”
सोनू ने थोड़ा हिम्मत की और बोल दिया

“क्यो, वो तुम्हारी बेस्ट फ्रेंड तन्वी को क्या हुआ…वो तो यहीं है ना… उसे बोलो…”

वो एकदम आश्चर्य से उसे देखने लगी…
सोनिया का मुँह खुल सा गया…
एक पल के लिए तो उसे लगा की कहीं सोनू ने उसकी और तन्वी की बाते तो नही सुन ली..

सोनिया : “तुझे उसमे इतना इंटेरेस्ट कब से हो गया… मुझे तो लगा था की तुझे वो पसंद नही है….”

सोनू : “किसने कहा ??”

सोनिया अपनी झेंप मिटाते हुए बोली : “कहा तो किसी ने नही…. पर ….. वो…. उसे लगा…. आई मीन मुझे लगा की वो थोड़ी दुबली है ना… शायद इसलिए ….तूने उसे अवाय्ड किया…”

सोनू (हैरान होने का नाटक करते हुए) : “अरे दी… मैने कब अवाय्ड किया…. तुम जब से होस्टल गयी हो, तब से तो उसने आना ही बंद कर दिया…. बाद में वो कहीं और शिफ्ट हो गये…. अब मिलना ही नही होता पहले जैसा तो कैसे कह सकते हो की अवाय्ड किया… इनफॅक्ट मुझे तो वो काफ़ी पसंद थी….”

सोनू की बाते सुनकर सोनिया हैरान हुए जा रही थी..

“देख रही हूँ मैं ….आजकल काफ़ी ऑप्शन्स एक्सप्लोर किए जा रहे हैं….. स्कूल में साक्षी…. और अब मेरी फ्रेंड भी….”

सोनू (मुस्कुराते हुए) : “अरे दी… यही तो उम्र है ये सब करने की… अभी मस्ती नही करेंगे तो कब करेंगे…”

सोनिया : “अच्छा … तो आजकल बड़ी मस्ती करने की सूझ रही है…”

सोनू बस मुस्कुरा कर रह गया.

सोनिया : “वैसे एक खुशख़बरी है…वो आज शाम को आ रही है…”

सोनू चोंकने का नाटक करता हुआ बोला : “कौन….तन्वी ??”

सोनिया : “ओये होये बड़ा खुश हो रहा है उसका नाम सुनकर …हाँ वही…आ रही है शाम को…. कहो तो बात करू उसके साथ… वैसे भी वो आजकल अपने लिए कोई बाय्फ्रेंड ढूँढ रही है…”

सोनू : “ठीक है…कर लेना..”

सोनिया : “और वो साक्षी का क्या होगा….”

सोनू : “वो तो स्कूल में है ना…ये बाहर हो जाएगी…”

सोनिया : “वाह जी वाह … एक स्कूल वाली…एक बाहर वाली…घर पर भी रख ले कोई…”

सोनू : “घर पर तो तुम हो ना…”

सोनिया ने हंसते हुए अपनी खुशी दबाई और सोनू की ही तरह भाषण देने के अंदाज कहा : “पर ये तो ग़लत है ना…. मैं तो तुम्हारी बहन हूँ ….”

सोनू : “पर जो भी कल रात हुआ उसके बाद तो हमारे रिश्ते के मायने ही बदल चुके है….”

सोनिया की आँखे गुलाबी हो उठी ये सुनकर….
वो शायद अपने दिल की बात यानी उसे प्यार करने की बात उसे बोलना चाह रही थी…
पर हिम्मत नही कर पाई वो…

सोनिया : “चल ठीक है…. आने दे उसको… बात कर लूँगी… पर तू शरमाना मत उसके सामने… वरना सब गड़बड़ हो जाएगा….”

फिर कुछ देर रुककर वो बोली : “पर उसके साथ सेट्टिंग करवाने में मेरा क्या फायदा…. ऐसे तो वो तुझे मुझसे अलग कर देगी….”
सोनू उसके करीब आया…
और उसके दोनो हाथों को पकड़ कर बोला : “दी, हमे कोई अलग नही कर सकता…. कभी नही…”
दोनो एक दूसरे की आँखो मे देखकर एक पल के लिए कहीं गुम से हो गये…
दोनो के दिल धड़क उठे….
सोनिया के लब लरज उठे…
और वो थोड़ा आगे खिसक आई….
अपने भाई के बिल्कुल करीब…
इतने करीब की उसकी साँसे वो अपने चेहरे पर महसूस कर पा रही थी…

सोनू के हाथ सोनिया ने अपनी छाती के बिल्कुल सामने पकड़े हुए थे…
सोनू की छोटी उंगली उसकी ब्रेस्ट को टच कर रही थी…
उसका मन तो कर रहा था की अपने हाथ और अंदर दबा दे, पर ऐसा करना उसके सिद्धांतो में नही था, इसलिए उसने अपने हाथ छुड़ाए और अपनी भावनाओ को काबू करने के लिए बाथरूम में घुस गया..

अंदर जाकर उसने वाश्बेसन पर अपना चेहरा धोया …
सोनिया उसके करीब आकर खड़ी हो गयी.

और बोली : “वैसे मुझे भी एक बात बोलनी थी तुमसे… ”

सोनू समझ गया की वो अपने प्यार का इज़हार करना चाहती है..

वो उसके चेहरे की तरफ देखने लगा….
पर वो असमंजस मे थी, की बोले या नही..

सोनिया : “वैसे कहना तो नही चाहिए, पर मेरा क्या फायदा होगा ये सब कराने में …?”

सोनू समझ गया की वो बातें गोल कर रही है…
उसकी हिम्मत ही नही हुई अपने भाई को आई लव यू बोलने की…
इसलिए बीच में ये दूसरी बात छेड़ दी.

सोनू : “तू बोल दी, क्या चाहिए…. आइस्क्रीम…. मूवी …. मेरी पॉकेट मनी में तो यही सब आ सकता है…”

सोनिया : “अर्रे ये सब नही पागल….कुछ और… जिसमें तेरे पैसे खर्च नही होंगे…”

अब तो सोनू भी उत्सुक सा हो गया…
ये जानने के लिए की उसकी कामुक बहन के मन में क्या चल रहा है…

सोनू : “बोलो फिर, क्या चाहिए ?”

सोनिया ने शरमाते हुए कहा : “वही….कल रात जैसे…नाम लेकर….करने की परमिशन….”

सोनू हैरानी से उसे देखने लगा….
यानी उसकी बहन एक बार फिर से आज रात को मास्टरबेट करते हुए उसका नाम लेना चाहती थी…
जैसे कल रात लिया था…

सो एक्साइटिंग …. वो और उसका लण्ड फूल कर कुप्पा हो गये…

सोनू ने कुछ देर तो परेशान से होने का नाटक किया फिर दबी ज़ुबान से बोला : “ओके …. ठीक है…. कर लेना…”

वो तो ऐसे खुश हुई जैसे उसे मिस यूनिवर्स का खिताब मिल गया हो…
उछलते हुए उसने ताली बजाई और सोनू के गले से लग गयी….

उफफफफ्फ़…. क्या फीलिंग थी उसके बूब्स की……
आज तो सोनू से भी सब्र नही हुआ…..
उसने उसकी पीठ पर हाथ रखकर उसे और ज़ोर से गले लगा लिया…
और उसके नन्हे बूब्स को पीस डाला अपनी कठोर छाती से…

वो तो खुद चाहता था अब की जो खेल उन भाई बहन के बीच रात को चल रहा है, वो थोड़ा और आगे बड़े…
सोनिया ने खुद पहल करके अपनी सहमति तो दे ही डाली थी….
अब सोनू के उपर था की वो इस खेल को किस दिशा में ले जाता है..

पर

ये सब करने के पीछे सोनू की मंशा एकदम सॉफ थी…
उसे पता था की स्कूल में साक्षी के साथ वो ज़्यादा मज़े ले नही सकता…
और अपनी बहन के साथ वो सब करना नही चाहता जिसके लिए उसका दिल गवाही नही देता…
इसलिए..
इस तन्वी को उसने चुना जो साक्षी और सोनिया द्वारा उठाए गये लण्ड की अकड़ को ठीक करने का काम करेगी..

इसलिए अब उसे तन्वी का इंतजार था….

Share
Article By :

One thought on “ग़लत रिश्ता ( भाई बहन का )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *