ऐसा भी होता है compleet

[size=150:7eluu5wl][color=#400080:7eluu5wl]ऐसा भी होता है–1

"कम ऑन, व्हेर ईज़ माइ किस?"

सपना को मैं पिच्छले 3 साल से जानता था. 12त स्टॅंडर्ड में वो और मैं एक ही क्लास में थे जिसके बाद हम दोनो ने अलग अलग कॉलेजस जाय्न कर लिया थे. क्लास में एक बार उसने मुझसे शर्त लगाई थी जिसके हारने पर उसने मुझे किस करना था. किस वाली बात मैने मज़ाक में कही थी और मुझे पता था के वो मुझे किस नही करेगी इसलिए जब वो शर्त हार गयी तो मैने उसे छेड़ना शुरू कर दिया के आइ आम स्टिल वेटिंग फॉर माइ किस.

इस बात को 3 साल गुज़र चुके थे. हम दोनो के कॉलेज बदल गये और मिलना जुलना बहुत कम हो गया. कुच्छ दिन पहले उसने मुझे फोन किया था के वो और उसकी फॅमिली एक दूसरे शहर में शिफ्ट हो रहे हैं और वो मेरे साथ कुच्छ वक़्त गुज़ारना चाहती है. हम दोनो शहर के एक बड़े से पार्क में बैठे थे.

दिन के कोई 12 बज रहे थे और उस वक़्त पार्क में कोई नही था. हम दोनो एक कोने में कुच्छ पेड़ों की आड़ में बैठे थे.

मैं हमेशा से जानता था और उसने मुझे खुद भी बताया था के उसे मुझपर स्कूल प्यार था पर कभी कह नही सकी. उसके बाद कॉलेज में उसका किसी और लड़के से चक्कर चल निकला था जिससे फिलहाल कुच्छ दिन पहले ही उसका ब्रेक अप हुआ था.

आने से पहले उसने मुझे फोन पर बताया था के अगले हफ्ते वो दूसरे शहर शिफ्ट कर लेगी इसलिए बहुत मुमकिन है के शायद ये हमारी आखरी मुलाक़ात हो. हस्ते हुए उसने ये भी कहा था के शायद आज मुझे मेरा किस भी मिल जाए पर फिर हम दोनो ही उस बात पर हस पड़े थे.

स्कूल के दिनो में हम दोनो बहुत क्लोज़ फ्रेंड्स हुआ करते थे इसलिए पार्क में मैं आराम से नीचे घास पर लेटा हुआ था और सर को उसकी टाँग पर रखा था. वो मेरे बालों में हाथ फिरा रही थी और हम गुज़रे दिनो और अपनी दोस्ती के किस्से एक दूसरे से डिसकस कर रहे थे.

नीचे लेटे हुए मुँह पर पेड़ के पत्तो के बीच से धूप पड़ने लगी तो मैं उठकर बैठ गया.

"क्या हुआ" मुझे उठता देख वो बोली "लेटे रहो"

"धूप पड़ रही है मुँह पर" मैने कहा और पेड़ से टेक लगा कर बैठ गया. और फिर मुझे जाने क्या सूझी के मैने उसका हाथ पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और उसे अपनी टाँगो के बीच कर लिया.

3 साल पहले हम दोनो ही एक दूसरे को बेहद पसंद करते थे और दोनो के दिल में दोस्ती के अलावा और भी कई बातें थी जो कभी सामने आ नही पाई थी. ये शायद उसकी का नतीजा था के जब मैने उसे यूँ अपने करीब खींचा तो वो भी चुप चाप सिमट कर मेरी बाहों में आ गयी और मेरी टाँगो के बीच अपनी कमर

मेरी छाती पर टीका कर आराम से बैठ गयी.

कुच्छ पल तक हम दोनो यूँ ही खामोश बैठे रहे. उस एक पल में यूँ करीब होकर बैठ ने से हमने पहली बार दोस्ती से आगे कदम उठाया था इसलिए शायद झिझक रहे थे के अब क्या कहें?

और फिर उसने वो किया जिसकी मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नही थी. आगे बढ़कर उसने मेरा गाल चूम लिया और धीरे से मेरे कान में बोली

"आइ लव यू" [/color:7eluu5wl][/size:7eluu5wl]

Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply