मेरा योंन शोषण

Share

नमस्ते सलाम सतश्रीकाल । मैं श्रीनगर कश्मीर से सोनिया कौर अपने तजुर्बे आप लोगों से शेयर करना चाहती हूँ । कश्मीर को धरती पे स्वर्ग कहा जाता है । यहाँ कुदरती खूबसूरती की भरमार है और यह बात यहाँ की लडकियों मैं भी है । कश्मीरी लडकियों की खूबसूरती के चर्चे बोहुत दूर तक हैं और वोही चर्चे मेरे भी हैं । मैं कॉलेज ख़तम कर चुकी हूँ और नोकरी करती हूँ । सेक्स की आदत छोटी उम्र से लग गयी और उसका कारण था यहाँ के मर्दों की भूख ।
मेरी याद में सबसे पहली बार मेरा योंन-शोषण तब हुआ जब मैं # साल की थी । एक 18 साल का लड़का आकाश कुमार हमारे पड़ोस मैं रहता था और जब भी मैं बाकी बच्चो के साथ खेल रही होती तो वो मुजे साइड पे बुला के मेरे जिस्म पे हाथ फेरा करता और मेरे होंठों को चूसा करता । 10 मिनट ऐसा करने के बाद वह मुझे टॉफी दे देता और बोलता किसी को न सुनाना वरना टॉफी नही मिलेगी। ऐसा काफी दिनों तक चलता रहा और फिर एक दिन वो मुझे अपने घर ले गया। वहां सोफ़ा पे लिटा के उसने पहले 5 मिनट मुजे चूम चूम के बेहाल कर दिया। फिर अपनी पेंट उतार के मुझे अपना लिंग पकड़ा दिया। मैं हैरान थी क्युकी पह्की बार खड़ा लिंग देख रही थी। उसने मुझे पुछा की टॉफी पसंद है या चोकलेट तोह मेने कहा चाकलेट। उसने मुझसे कहा की अगर चाकलेट चाहिए तो उसका लिंग मसलना पड़ेगा। मैं भोली भाली कमसिन बच्ची थी मुझे क्या पता यह सब क्या होता हे। मैं उसका लिंग हिलाने और मसलने लगी और वोह भी मेरे जिस्म पे हाथ फेरने लगा । फिर उसने मुजे चुम्बन दे के लिटाया और मेरी frock उठा के* पेंटी उतार दी और मेरी टांगो के बीच अपना लिंग रख के आगे पीछे झटके देने लगा । साथ ही वोह हमारे मोहल्ले की सबसे सेक्सी सरदारनी जिसका नाम रोमा कौर था और जो मेरी दूर की cousin बेहेन थी उसका नाम ले ले के मुजे चोदने लगा । मैं हैरान परेशान सी सोफा पे लेटी हुई उसका यह कुकर्म झेलती रही । फिर उसने मुझे उलटी लिटा दिया पेट के बल और पीछे से मेरी टांगो में लिंग सटा के धक्कम रेल चलाता रहा। 5 मिनट बाद उसका सफ़ेद घाड़ा पानी निकला और मुझे सीधी करके मेरे पेट और झांघो पे गिरा दिया । मैं हैरान हो गयी क्युकी पहली बार वीर्य देखा था । मेने पुछा यह दही कहाँ से आया तोह वोह कमीना हस के बोला हाँ यह दही है स्वाद ले के देख । मेने ऊँगली से उठा के जीब पे रखा तो अजीव सा नमकीन स्वाद आया । फिर उसने अपनी ऊँगली पे लगा के सारा वीर्य पिला दिया । उसके बाद आकाश ने मुझे चोकलेट दी और बोल किसी से ना कहना । मुझे चोकलेट पसंद थी और फिर यह सिलसिला चल पड़ा। वह तक़रीबन हर दुसरे या तीसरे दिन मेरा योंन शोषण करता और बदले में चोकलेट या चिप्स दे देता । पर एक बात थी उसने कभी भी मेरे सुराख़ में लिंग डालने की कोशिश नही की ।
यह था मेरा पहले योंन सम्बन्ध जो 6 महीने चला । फिर आकाश के पापा का तबादला किसी और शेहर हो गया ।

Share
Posted in Uncategorized
Article By :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *